DA Image
15 जनवरी, 2021|9:11|IST

अगली स्टोरी

डेंगू से महिला व बुखार से वृद्ध की मौत

default image

दरोगा बाद निवासी महिला की डेंगू से हुई मौत

फोटो संख्या 5, जिला अस्पताल के पर्चा काउंटर पर लगी मरीजों की भीड़

फोटो संख्या 6, ओपीडी में अपनी बारी का इंतजार करते मरीज

उन्नाव। हिंदुस्तान संवाद

कोरोना के साथ अब डेंगू और वायरल फीवर ने पैर पसारना शुरू कर दिया है। जिले में 24 घंटे के अंदर डेंगू से महिला व वायरल फीवर से वृद्ध ने दम तोड़ दिया। डेंगू से पीड़ित महिला का एक प्राइवेट अस्पताल में इलाज चल रहा था।

शहर के दरोगा बाग निवासी महिला को तेज बुखार आने पर परिजनों ने एक सप्ताह पूर्व प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया था। प्राइवेट लैब में हुई जांच में उसे डेंगू से पीड़ित पाया गया। दो दिन पूर्व उसकी हालत बिगड़ गई थी। रविवार रात महिला ने दम तोड़ दिया। जबकि पुरवा के कस्टोलवा निवासी (88) वर्षीय वृद्ध को तेज बुखार से पीड़ित होने पर जिला अस्पताल लाया गया था। हालत गंभीर होने पर उसे कानपुर रेफर कर दिया गया। हालांकि परिजन वृद्ध को शहर के एक प्राइवेट अस्पताल लेकर चले गए। जहां सोमवार भोर पहर उसकी मौत हो गई।

कोरोना पर भारी हुआ डेंगू और वायरल फीवर

उन्नाव। मार्च माह से शुरू हुआ कोरोना वायरस का संक्रमण अब काबू में आता दिख रहा है। हालांकि कोरोना के बाद अब डेंगू और वायरल फीवर ने स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ा दी है। डेंगू के केसेस लगातार सामने आ रहे हैं। कोरोना को काबू करने में जुटे स्वास्थ्य महकमे का ध्यान डेंगू के बढ़ते प्रकोप पर अब तक नहीं गया है। एंटी लार्वल का छिड़काव व फागिंग में लगातार लापरवाही बरती जा रही है। नतीजतन डेंगू के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं।

सीएचसी-पीएचसी में जांच की नहीं है सुविधा

उन्नाव। जिले में डेंगू का प्रकोप तेजी से बढ़ रहा है। इसके बावजूद स्वास्थ्य विभाग लापरवाही बरत रहा है। सीएचसी व पीएचसी पर डेंगू से पीड़ित मरीजों के इलाज की कोई सुविधा उपलब्ध नहीं है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार बीते 13 दिनों में सीएचसी व पीएचसी से बुखार के 57 मरीजों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। इसके अलावा डेंगू से पीड़ित मरीजों की जांच भी सीएचसी व पीएचसी पर नहीं हो रही है। मरीजों के अनुसार डेंगू की जांच के लिए किट न होने की बात कहकर उन्हें जिला अस्पताल भेजा जा रहा है।

1500 की हुई जांच, 35 पॉजिटिव मिले

उन्नाव। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जिले में अब तक 1500 लोगों ने डेंगू के लिए रैपिड किट से जांच कराई है। जिसमें 35 लोगों को डेंगू से पीड़ित पाया गया है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के पास प्राइवेट लैब में हो रही जांच का डाटा नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि प्राइवेट लैब जांच के बाद रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग को नहीं दे रही हैं।

डेंगू से मौत की सूचना पर पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम

उन्नाव। शहर के सिंगरौसी में वृद्ध की डेंगू से मौत की सूचना पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने घर पहुंच जांच की। जिला मलेरिया अधिकारी आरसी यादव ने बताया कि वृद्ध का प्राइवेट अस्पताल में इलाज चल रहा था। जांच रिपोर्ट में प्लेटलेट्स दो लाख से अधिक पाई गईं। अन्य रिपोर्ट भी देखी गई हैं। जिससे डेंगू की पुष्टि नहीं पाई गई।

खत्म हुई जांच किट, कारपोरेशन से नहीं हुई आपूर्ति

उन्नाव। जिले में डेंगू की भयावह स्थिति के बीच जांच के लिए प्रयोग की जाने वाले रैपिड किट का भी टोटा हो गया है। सीएचसी व पीएचसी में रैपिड किट उपलब्ध नहीं है। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि कारपोरेशन से किट की आपूर्ति होनी है। ऑर्डर भेजा जा चुका है।

स्थिति पर रखी जा रही है नजर

सीएमओ डॉ. आशुतोष ने बताया कि कोरोना के अलावा डेंगू की स्थिति पर भी नजर रखी जा रही है। किट की आपूर्ति जल्द होगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Woman dies due to dengue and elderly due to fever