DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › उन्नाव › कुशवाहा, मौर्य, सैनी और शाक्य को होना होगा एकजुट: बाबू सिंह
उन्नाव

कुशवाहा, मौर्य, सैनी और शाक्य को होना होगा एकजुट: बाबू सिंह

हिन्दुस्तान टीम,उन्नावPublished By: Newswrap
Sun, 26 Sep 2021 03:53 AM
कुशवाहा, मौर्य, सैनी और शाक्य को होना होगा एकजुट: बाबू सिंह

उन्नाव। संवाददाता

पूर्व मंत्री और जन अधिकारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बाबू सिंह कुशवाहा ने शनिवार को नगर के एक गेस्ट हाउस में आयोजित कुशवाहा, मौर्य, सैनी, शाक्य समारोह में एकजुटता का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि एकजुट होकर ही कोई रण जीति जा सकती है। हम अगर बटे रहेंगे तो राजनीतिक पार्टियां हमे बरगलाकर वोट लेती रहेंगी और राज करती रहेंगी। उदाहरण दिया कि आज से 200 साल पहले महिलाओं, छोटी जातियों कों पढ़ने लिखने का अधिकार नहीं था। महत्मा फुले ने अंग्रेजों से पढ़ने लिखने का अधिकारा मांगा था। उनके सघर्ष पर अंग्रेजी शासन में पढ़ने लिखने का अधिकार मिला।

अपने अधिकार के लिए लड़ाई लड़नी होगी। सत्ता में आसीन लोग सिर्फ हमें वोट बैंक समझते हैं। हम चुनाव के समय बंट जाते हैं और उनके बहकावे में आकर वोट कर जाते हैं। बोले, जो आपके बच्चों को नौकरी दे उसको वोट दो, जो आपकी बेटी क ो सुरक्षित रखे उसको वोट दो। हमको कह दिया गया कि आपका दुश्मन कोई और है। नौकरी का आवेदन आता है तो हमारे लोग सबसे कम भरे जाते हैं। हमे हिन्दू मुस्लिम के नाम पर लड़ाया जा रहा है। हम मुसलमानों को अपनी दुश्मन मानकर लड़ते हैं। बहुत से लोग बोलते हैं कि राजनीतिक लोग राजनीति की बात करते हैं हम समाज के लोग है हम समाजिक बात करेंगे। ऐसे कोई काम नहीं है जो बिना राजनीति के हो, इसलिए राजनीति बहुत जरुरी है। अब हमारे समाज के लोगों को राजनीति में आगे आना होगा। अपने हक के लिए लड़ाई लड़नी होगी। बिना किसी लालच के काम करना होगा।

अपनी ताकत का अहसास कराना होगा। हर व्यक्ति को महात्मा फूले की तरह अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। तभी हमारा समाज आगे आएगा और हम अपनी स्थिति को मजबूत कर पाएंगे। यहां मौर्य, कुशवाहा, शाक्य, सैनी जातियों से जुड़े प्रधान, बीडीसी व अध्यापकों को चक्रवर्ती सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य की प्रतिमा देकर सम्मानित किया गया। विशिष्ट अतिथि जनअधिकारी पार्टी के सीए अजय मौर्य, प्रदेश सचिव किरण मौर्य, गंजमुरादाबाद नगर पंचायत के चेयरमैन रामनरेश कुशवाहा, जिला पंचायत सदस्य अंकित मौर्य समिति संरक्षक नरेंद्र कुशवाहा, महासचिव रामगोपाल कुशवाहा, उपाध्यक्ष शिवाकांत मौर्या , जगन्नाथ बौद्ध, मंशाराम मौर्या, मेवालाल बौद्ध, सत्यम कुशवाहा, शिवम कुशवाहा मौजूद रहे।

संबंधित खबरें