DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › उन्नाव › बजट की कमी से गरीबों की आशियाना पाने की चाहत अधूरी
उन्नाव

बजट की कमी से गरीबों की आशियाना पाने की चाहत अधूरी

हिन्दुस्तान टीम,उन्नावPublished By: Newswrap
Sun, 26 Sep 2021 03:53 AM
बजट की कमी से गरीबों की आशियाना पाने की चाहत अधूरी

उन्नाव। संवाददाता

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आशियाना पाने की तमन्ना अभी फिलहाल पूरी होने वाली नहीं है। करीब तीन साल का लंबा समय गुजरने के बाद भी गरीबों को आवंटित होने वाले इन आशियानों का निर्माण अधर पर लटका हुआ है। 720 फ्लैट के निर्माण के लिए 33 करोड़ रुपए की जरूरत पूरा कराने की तुलना में विभाग को सिर्फ 10 करोड़ रुपया हासिल हो सका है। ऐसे में यह आशियाने कब खड़े होंगे इसके आसार अभी भी काफी दूर लग रहे हैं।

1 दिसंबर 2018 में उन्नाव शुक्लागंज विकास प्राधिकरण की ओर से काशीराम कालोनी में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत भवनों को बनाने का काम शुरू किया गया था। कुछ महीने काम चला फिर बजट के अभाव में बंद हो गया। इसके बाद मार्च 2020 में युएसडीए को 7 करोड़ रुपया मिला। काम शुरू हुआ और फिर बजट की कमी से इसे बंद करना पड़ा। 31 मार्च 2021 को विभाग ने 3 करोड़ रुपए मिलने का दावा किया लेकिन यह भी काम के हिसाब से विभाग को ऊंट के मुंह में जीरा के समान मिला। जिसके चलते निर्माण कार्य को जो रफ्तार मिलनी थी वह नहीं मिल सकी। यही वजह है कि लंबे समय से आवासों का आवंटन होने के बाद भी जरूरतमंदों को विभाग आवास की उपलब्ध कराने में सफल नहीं रहा।

दो एजेसिंयों को निर्माण का जिम्मा

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 720 फ्लैट का निर्माण कराने के लिए शिवम लाइट हाउस और मां गायत्री ट्रेडर्स नाम की फर्म को काम दिया गया है। इसमें शिवम लाइट को 480 व मां गायत्री को 240 भवनों के निर्माण का ठेका मिला था। बजट के अभाव में इन एजेंसियों ने भी हाथ खड़े कर दिए हैं।

लैंड डिस्पूट से 624 भवनों का होना निर्माण

काशीराम में आवास पाने के लिए यूएसडीए को 728 आवेदन प्राप्त हुए थे। जिसमें सूडा के सत्यापन में 4 आवेदकों के आवेदन अपात्र पाए गए था। जबकि 4 आवेदकों ने अपना आवेदन वापस ले लिया था। जिसके बाद यूएसडीए को 720 भवनों का निर्माण कराना था, लेकिन लैंड डिस्पूट के चलते इन भवनों की संख्या 96 घटने के बाद 624 बची है। यूएसडीए से लॉटरी सिस्टम के जरिए सभी लाभार्थी को इनका आवंटन हो गया है।

साढ़े पांच का फ्लैट लाभार्थियों को 2 लाख में मिला

विकास प्राधिकरण के तहत काशीराम में निर्मित भवनों में प्रति भवन का खर्च साढ़े पांच लाख रुपए है। जिसमें डेढ़ लाख रुपया केन्द्र, 1 लाख रुपया राज्य, 1 लाख रुपया यूएसडीए के साथ 2 लाख रुपया लाभार्थी से मिलना तय है। लाभार्थी से 5 हजार रुपए रजिस्ट्रेशन के साथ 45 हजार रुपए आवंटन के बाद लिए जा चुके हैं। बाकी का रुपया लाभार्थी से किश्तों में लिया जाएगा।

कोट..

624 फ्लैट बनने हैं। जिसका आवंटन भी लाभार्थियों को कर दिया गया है। कोरोना महामारी और बजट की कमी से आवासों का निर्माण पूरा नहीं सका है। जिसे मार्च 2022 में हर हाल में पूरा कर लिया जाएगा।

एपीएन सिंह, प्रभारी सचिव व एक्सईन यूएसडीए

संबंधित खबरें