DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › उन्नाव › उन्नाव में एंबुलेंस सेवा ठप, ई-रिक्शा ने ढोए मरीज
उन्नाव

उन्नाव में एंबुलेंस सेवा ठप, ई-रिक्शा ने ढोए मरीज

हिन्दुस्तान टीम,उन्नावPublished By: Newswrap
Wed, 28 Jul 2021 05:10 AM
उन्नाव में एंबुलेंस सेवा ठप, ई-रिक्शा ने ढोए मरीज

उन्नाव | संवाददाता

एंबुलेंस कर्मियों की हड़ताल मंगलवार को भी जारी रही। जिला अस्पताल परिसर में कर्मियों ने धरना दिया। रविवार आधी रात से शुरू हुई हड़ताल से मरीजों व उनके परिजनों को परेशान होना पड़ा। ई-रिक्शा, कार, बाइक से मरीज अस्पताल तक पहुंचाए गए। समय से एंबुलेंस न मिलने से कई की हालत बिगड़ गई। गर्भवती महिलाओं को सबसे अधिक परेशानी का सामना करना पड़ा। परिजन प्राइवेट वाहनों से महिलाओं को अस्पताल लेकर पहुंचे। सरकारी अस्पतालों से रेफर मरीजों को प्राइवेट एंबुलेंस से भेजा गया। एंबुलेंस कर्मचारी संघ ने कहा जब तक मांगे नहीं मानी जाएंगी, चालक एंबुलेंस नहीं चलाएंगे।

मंगलवार को असोहा की रेनू को प्रसव पीड़ा हुई। परिजनों ने एंबुलेंस के कॉल की पर फोन नहीं लगा। मजबूर होकर टेंपो से महिला को सीएचसी और बाद में जिला अस्पताल लेकर आए। शहर के पूरन नगर निवासी आदर्श (5) घर के बाहर खेलते समय बाइक की टक्कर से घायल हो गया था। एंबुलेंस न मिलने पर परिजन बाइक से अस्पताल ले आए। मियागंज की शबनम को भी एंबुलेंस नहीं मिली। पेट दर्द व बुखार से पीड़ित शबनम को परिजन ई रिक्शा से अस्पताल लेकर पहुंचे।

ऐसा ही हाल अन्य मरीजों का भी रहा। समय से एंबुलेंस न मिलने व प्राइवेट वाहन के जुगाड़ में कई मरीजों की हालत गंभीर हो गई। किसी तरह अस्पताल पहुंचे परिजन मरीज के रेफर होने पर प्राइवेट एंबुलेंस के लिए दौड़ते नजर आए। सबसे अधिक परेशानी गर्भवती महिलाओं व उनके परिजनों को उठानी पड़ी। प्रसव पीड़ा से छटपटा रही महिलाओं को परिजन टेंपो, कार, बाइक से अस्पताल लेकर पहुंचे थे। अस्पताल से डिस्चार्ज होने वाली महिलाओं को भी एंबुलेंस नहीं मिली। उधर, सड़क हादसे में घायल रविकांत को प्राइवेट एंबुलेंस से परिजन कानपुर हैलट अस्पताल लेकर पहुंचे।

संबंधित खबरें