DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › सुल्तानपुर › सुलतानपुर-मुआवजे की आस में अपना घर तोड़ने को मजबूर व्यापारी
सुल्तानपुर

सुलतानपुर-मुआवजे की आस में अपना घर तोड़ने को मजबूर व्यापारी

हिन्दुस्तान टीम,सुल्तानपुरPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 05:40 PM
सुलतानपुर-मुआवजे की आस में अपना घर तोड़ने को मजबूर व्यापारी

अब मुआवजा न मिलने से झोपड़े में रहने को मजबूर हैं लोग

अयोध्या-जगदीशपुर निर्माणाधीन फोरलेन का मामला

हलियापुर। संवाददाता

निर्माणाधीन अयोध्या-हलियापुर हाईवे पर हलियापुर कस्बे के व्यापारियों को दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। मुआवजे का आश्वासन पाकर जिन व्यापारियों ने अपने ही मकान को गिरा दिया, अब उन्हें झोपड़े में रहना पड़ रहा है। इससे इन लोगों में काफी आक्रोश है। उधर, जिम्मेदार मुआवजा देने से भी कतरा रहे हैं। लोगों ने अब आन्दोलन का मन बनाया है।

निर्माणाधीन कंपनी ने पूर्व में यहां लाउडस्पीकर से अनाउंसमेंट किया कि जिन व्यापारियों का मकान फोरलेन में जा रहा है वे जल्द से जल्द अपना मकान तोड़कर मलबा हटा लें, अन्यथा जुर्माना किया जाएगा। इन्हें मुआवजे का आश्वासन भी दिया गया। कुछ व्यापारियों ने अपना मकान डर बस इस आस में तोड़ भी लिया कि जल्द मुआवजा मिलेगा। जिससे वे दूसरा घर पीछे बना सकें। लेकिन अब वे मकान के स्ट्रक्चर का मुआवजा न मिलने से टूटे हुए मकान के पास झोपड़ा बनाकर रहने को मजबूर हैं। मुआवजा अब तक न मिलने से व्यापारियों में भारी आक्रोश है। व्यापारियों का कहना है कि प्रकरण की शिकायत मंत्री सुरेश पासी तथा जिला प्रशासन से कई बार की गई, लेकिन सुनवाई कहीं भी नहीं हो रही है। हलियापुर स्थित शिवालय मंदिर से दक्षिण तरफ दर्जनों मकान फोरलेन में जा रहे हैं। राधे सेंठ, संतोष गुप्ता, पंडित मनोज बदौवा, प्रहलाद गुप्ता, रियासत खां, आलम शेर , कपिल देव सिंह, महबूब अली, अंबिका सिंह सहित दर्जनों व्यापारियों ने बताया कि उन्हें बार-बार यह धमकी दी जा रही है कि जिन मकानों की निशानदेही की गई है, उन्हें यदि नहीं तोड़ा गया तो कार्रवाई होगी। जिससे क्षेत्र के व्यापारी आक्रोशित हैं। हलियापुर क्षेत्र के वरिष्ठ समाजसेवी प्रभात सिंह, धनंजय सिंह, रणविजय सिंह आदि लोगों ने बताया कि हलियापुर कस्बे में कई बार प्रशासनिक अधिकारियों व जिले के जिम्मेदार अधिकारियों से मुआवजे को लेकर मीटिंग हुई । अफसरों ने बताया कि जल्द ही व्यापारियों को मुआवजा मिल जाएगा। लेकिन अब तक मात्र आश्वासन ही मिला है।

कोट

सर्वे प्राइवेट कंपनियां करती हैं । हो सकता है कुछ लोगों का सर्वे में छूट गया हो। इसके सक्षम नोडल प्राधिकारी सीआरओ हैं।

राजेश सिंह, एसडीएम बल्दीराय

कोट

सर्वे रिपोर्ट एनएच को गया है। सभी का सर्वे हुआ है। कोई छूटा नहीं है। जल्द ही सभी लोगों के मकान का मुआवजा मिल जाएगा।

शमशाद हुसैन, मुख्य राजस्व अधिकारी

संबंधित खबरें