ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश सुल्तानपुरसूखे पड़े ग्रामीण इलाके के तालाब, पानी को तरसे पशु-पक्षी

सूखे पड़े ग्रामीण इलाके के तालाब, पानी को तरसे पशु-पक्षी

बल्दीराय, संवाददाता बल्दीराय क्षेत्र के कई अमृत सरोवर व अन्य तालाब सूबे...

सूखे पड़े ग्रामीण इलाके के तालाब, पानी को तरसे पशु-पक्षी
हिन्दुस्तान टीम,सुल्तानपुरSun, 26 May 2024 10:05 PM
ऐप पर पढ़ें

बल्दीराय, संवाददाता

बल्दीराय क्षेत्र के कई अमृत सरोवर व अन्य तालाब सूबे पड़े हैं। जबकि सरकार द्वारा गांवों में तालाबों का अस्तित्व बरकरार रखने के लिए मनरेगा के तहत कार्य कराने की योजना संचालित की गई थी। सौंदर्यीकरण के नाम पर काफी धनराशि मुहैया कराई गई।

इसी के तहत ब्लॉक ,हर गांवों में तालाबों की खुदाई कराई गई थी।पानी के अभाव में पशु पक्षियों बेसहारा गोवंशीय पशु के लिए पेयजल की समस्या उत्पन्न हो रही है। गर्मी की शुरुआत के साथ ही अधिकांश तालाब सूखे पड़े हैं। इनके भरवाने के लिए कोई कारगर कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। ऐसे में एक ओर जहां पशु,पक्षियों के समक्ष संकट खड़ा हो गया है तो दूसरी ओर प्यास बुझाने के लिए बेसहारा गोवंशीय पशु को इधर-उधर भटकना पड़ रहा है। पशु पालकों को भी अपने पालतू मवेशियों के लिए परेशानी उठानी पड़ रही है। इनके भरवाने के लिए नहर और ग्राम सभा की निजी संसाधन हैं। नहरें सूखी व वीरान पड़ी है। तालाबों के न भरने से ग्रामीण चिंतित दिखाई पड़ रहे हैं। लेकिन अभी तक न तो नहर में पानी छोड़ा जा सका है, न ही जिम्मेदार द्वारा सूखे पड़े तालाब व पोखरों में पानी भरवाने के लिए कोई दिशा निर्देश ही जारी किया गया है,जिससे पानी पर निर्भर पशु,पक्षियों को राहत मिल सके। सिर्फ तालाबों के खुदाई और सौंदर्यीकरण के नाम पर मनरेगा का सिर्फ पैसा खर्च हो रहा है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।