ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशअयोध्या में योगी सरकार ने विस्थापितों के लिए बदली नीति, सैकड़ों परिवारों को मिली बड़ी राहत

अयोध्या में योगी सरकार ने विस्थापितों के लिए बदली नीति, सैकड़ों परिवारों को मिली बड़ी राहत

अयोध्या में लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने यहां पर दुकानों के आवंटन को लेकर अपनी नीति में बदलाव कर दिया है। इस बदलाव से सैकड़ों परिवारों को बड़ी राहत मिली है।

अयोध्या में योगी सरकार ने विस्थापितों के लिए बदली नीति, सैकड़ों परिवारों को मिली बड़ी राहत
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,अयोध्याSat, 15 Jun 2024 11:29 PM
ऐप पर पढ़ें

अयोध्या में लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने यहां पर दुकानों के आवंटन को लेकर अपनी नीति में बदलाव कर दिया है। यहां बनीं सैकड़ों दुकानों को अब ब्याज मुक्त किस्तों पर विस्थापितों को देने का फैसला किया गया है।पहले भुगतान फिर कब्जा की नीति को बदलते हुए पहले कब्जा फिर भुगतान की नीति पर सरकार आ गई है। जिन लोगों को यह दुकानें आवंटित हो रही हैं वह सहादतगंज से नया घाट तक 13 किलोमीटर लंबी सड़क चौड़ीकरण परियोजना के कारण विस्थापित हो गए थे। इस सड़क को ही राम पथ का नाम दिया गया है।

 इससे पहले तय किया गया था कि दुकानदारों को 100 वर्ग फुट से 150 वर्ग फुट तक की इन दुकानों को लेने के लिए अयोध्या विकास प्राधिकरण को पूरी राशि का भुगतान करना पड़ेगा। एक दुकान की कीमत लगभग 8 से 18 लाख रुपये थी। इससे व्यापारियों के लिए भुगतान करना बेहद मुश्किल हो रहा था। ऐसे में दुकान की चाहत रखने वाले लोगों को बैंक से लोन लेना पड़ता और भारी ब्याज भी देना पड़ता। अब नीति में बदलाव से दुकानदारों को बड़ी राहत मिल गई है। योगी सरकार की तरफ से नीति में बदलाव को अयोध्या में मिली हार से जोड़कर देखा जा रहा है। यहां मिली हार के बाद भाजपा सरकार पूरे देश में लोगों के निशाने पर आ गई थी। अगले कुछ दिनों में यहां पर विधानसभा का उपचुनाव भी होना है। 

80 दुकानदारों को सौंपी गई चाबियां 
पॉलिसी में बदलाव के बाद राम मंदिर तक पहुंचने वाले प्रमुख मार्गो के सुंदरीकरण, सुदृढीकरण में विस्थापित दुकानदारों को अयोध्या विकास प्राधिकरण ने लाखों की दुकान अब बीस वर्षो की ब्याज रहित किस्त पर आवंटित कर दी है। प्रथम चरण में शनिवार को 80 दुकानदारों को इसकी चाभियां भी सौंप दी गईं हैं। इन प्रभावित दुकानदारों को राममंदिर के समीप टेढ़ी बाजार, रेलवे स्टेशन रोड एवं अमानीगंज में नवनिर्मित बहुमंजिली पार्किंग व व्यवसायिक संकुल में दुकानें आवंटित की गई हैं। प्राधिकरण की इस खबर से अयोध्या धाम में खुशी की लहर है। 

आठ से 18 लाख की दुकानें सस्ती किस्त पर 
टेढ़ी बाजार पूर्वी व पश्चिमी पर बेहद खूबसूरत ये इमारत बनाई गईं। इसके अलावा रेलवे स्टेशन रोडपर कौशलेस कुंज व अमानीगंज में भी इमारतें बनाई गईं। एडीए के सचिव सत्येंद्र सिंह ने बताया कि यहां दुकानें आठ से 18 लाख रुपये में आवंटित की गईं हैं। इन इमारतों में 341 विस्थापित लोगों को दुकानें आवंटित की गईं। इनमें से 80 आवंटियों को चाभियां दे दी गई हैं। अब उन्हें यही पैसा ब्याज रहित दर पर बीस वर्षो में किस्तवार देना होगा। आचार संहिता की वजह से प्राधिकरण के इस निर्णय को लागू नहीं किया जा सका था। इस महीने 20 तारीख को फिर से बोर्ड की बैठक होगी इसमें कुछ और राहत मिलने की उम्मीद है। 

लंबे इंतजार के बाद मिली राहत 
राममंदिर निर्माण के समय वहां तक पहुंचने के लिए अयोध्या धाम में कुछ प्रमुख मार्गो का सुंदरीकरण सुदृढीकरण किया गया था। जिसमें रामपथ, भक्ति पथ, जन्मभूमिपथ, धर्मपथ प्रमुख रूप से शामिल हैं। इस कवायद में चार हजार से अधिक दुकानदार प्रभावित हुए थे। इनमें से सभी को शासनादेश के आधार पर मुआवजा भी दिया गया लेकिन इसी में कुछ ऐसे भी दुकानदार थे जो वर्षो से दुकानों में किराएदार थे। उनके हाथ केवल एक डेढ़ लाख का भवन मुआवजा आया था। जमीनों का मुआवजा जमीन के मालिकों को मिला था। इस तरह के प्रभावित दुकानदारों के लिए शासन के निर्देश पर अयोध्या विकास प्राधिकरण द्वारा बनाई जाने वाली बहुमंजिली पार्किंग व व्यवसायिक संकुल में दुकानें आवंटित करने का वादा किया गया। इस वादे पर अमल के लिए बोर्ड की बैठक में ब्याज रहित बीस वर्षो की किस्त पर दुकान देने का फैसला लिया गया जिसका लाभ अब मिलना शुरू हुआ है।