ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशयोगी सरकार का बड़ा कदम, फाइनेंस कंपनी से 30 हजार करोड़ वसूलकर वापस कराएगी डूबी रकम  

योगी सरकार का बड़ा कदम, फाइनेंस कंपनी से 30 हजार करोड़ वसूलकर वापस कराएगी डूबी रकम  

फाइनेंस कंपनी पर्ल्स एग्रो कंपनी लिमिटेड ( पीएसीएल ) द्वारा हड़पी रकम को वापस दिलाने के लिए योगी सरकार ने पीड़ित लोगों का पूरा ब्योरा भेजकर सेबी से उनका पैसा दिलाने का आग्रह किया है।

योगी सरकार का बड़ा कदम, फाइनेंस कंपनी से 30 हजार करोड़ वसूलकर वापस कराएगी डूबी रकम  
Ajay Singhअजित खरे ,लखनऊWed, 19 Jun 2024 06:49 AM
ऐप पर पढ़ें

Yogi Adityanath Government Action: उत्तर प्रदेश के 1.10 लाख से ज्यादा लोगों की डूबी रकम वापस कराई जाएगी। फाइनेंस कंपनी पर्ल्स एग्रो कंपनी लिमिटेड ( पीएसीएल ) द्वारा हड़पी रकम को वापस दिलाने के लिए योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने पीड़ित लोगों का पूरा ब्योरा भेजकर सेबी से उनका पैसा दिलाने का आग्रह किया है। इसमें 19 हजार रुपये तक की रकम गंवाने वालों को पहले चुना गया है। इसके बाद इससे ज्यादा का नुकसान उठा चुके लोगों को राहत दिलाई जाएगी। 

यूपी सरकार ने उत्तर प्रदेश के वित्तीय अधिष्ठानों में जमाकर्ता हित संरक्षण अधिनियम के तहत ऑनलाइन शिकायत पंजीकरण पोर्टल बनाया और धोखाधड़ी करने वाली फाइनेंस कंपनियों के शिकार बने लोगों को राहत दिलाने का काम इसके जरिए शुरू किया। इस साल 4 जून तक 1.10 लाख से ज्यादा लोगों ने इस पोर्टल पर पीएसीएल कंपनी में पैसा लगाने के बाद धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई। संस्थागत वित्त विभाग ने पोर्टल पर दर्ज शिकायतों का पूरा ब्योरा सेबी को भेजा और फंसी रकम दिलाने का आग्रह किया। यूपी के इन निवेशकों की लगभग 30 हजार करोड़ रुपये की रकम कंपनी में फंसी है। 

पीएसीएल ने आकर्षक ब्याज के साथ साथ जमीन का दिया था लालच 
पीएसीएल ने दिल्ली, एनसीआर व अन्य राज्यों के निवेशकों को पैसा दोगुना-तिगुना करने का झांसा दिया। अपने लाखों एजेंटों के जरिए यह भरोसा दिलाया कि अगर पैसा नहीं मिला तो मनचाही जगह पर जमीन दी जाएगी। कंपनी ने देश भर में लाखों एकड़ जमीन भी खरीद ली। जब धोखाधड़ी का खुलासा हुआ तो मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा। अदालत ने निवेशकों को धन वापसी कराने के लिए सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति आर एम लोढ़ा की अध्यक्षता में कमेटी बनाई।

कमेटी ने कंपनी की जमीन बेच कर निवेशकों को अलग-अलग चरणों में रकम दिलाने की संस्तुति की। पहले 5000 रुपये तक की चोट खाने वालों का राहत दी गई। उसके बाद 7000 रुपये तक, फिर 10 हजार तक से लेकर 19 हजार तक की रकम का नुकसान उठाने वाले निवेशकों की डूबी रकम वापस कराई गई। इसी क्रम में यूपी सरकार ने धन हड़पने वाली कंपनियों के शिकार लोगों को राहत दिलाने के लिए जमाकर्ता हित संरक्षण ऑनलाइन शिकायत पंजीकरण पोर्टल बनाया। इसमें पीएसीएल के साथ-साथ अन्य गड़बड़ी करने वाली वित्तीय कंपनियों के खिलाफ मामले दर्ज किए गए। 

सेबी ने अब तक 20,84,635 पीड़ितों को दिलाई राहत 
भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने पंजाब, हरियाणा, बिहार, दिल्ली समेत पूरे देश के उन 20,84,635 लोगों को राहत दिलाई है जिन्होंने अधिकतम 19 हजार रुपये तक की रकम गंवा दी। इसके लिए उन्हें 1021.84 करोड़ रुपये वापस किए गए।