ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी डायल 112 की महिलाकर्मियों के बवाल पर योगी का एक्शन, ADG को हटाया, नीरा रावत को कमान

यूपी डायल 112 की महिलाकर्मियों के बवाल पर योगी का एक्शन, ADG को हटाया, नीरा रावत को कमान

यूपी डायल 112 की महिलाकर्मियों के प्रदर्शन पर योगी का एक्शन लिया है। योगी सरकार ने ADG 112 अशोक कुमार को हटा दिया है। नीरा रावत को डायल 112 की कमान सौंपी है।

यूपी डायल 112 की महिलाकर्मियों के बवाल पर योगी का एक्शन, ADG को हटाया, नीरा रावत को कमान
Deep Pandeyलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊWed, 08 Nov 2023 01:19 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी डायल 100 की महिला कर्मियों के प्रदर्शन से नाराज़ योगी सरकार ने ADG 112 अशोक कुमार को हटा दिया है।  सरकार ने मंगलवार को देर रात तीन आईपीएस अफसरों के दायित्व में फेरबदल कर दिया। डीजीपी विजय कुमार से डीजी सीबीसीआईडी का प्रभार हटा दिया गया है। आंनद कुमार नए डीजी सीबीसीआईडी बनाए गए हैं। इसके साथ यूपी 112 के एडीजी अशोक कुमार सिंह को हटा कर एडीजी प्रशासन नीरा रावत को एडीजी 112 के पद पर तैनात कर दिया गया है।  वर्ष 1988 बैच के आईपीएस विजय कुमार के पास कार्यवाहक डीजीपी के साथ ही डीजी सीबीसीआईडी और निदेशक विजिलेंस का भी प्रभार था। अब डीजी सीबीसीआईडी के पद पर वर्ष 1988 बैच के आईपीएस आनंद कुमार को तैनात कर दिया गया है।

माना जा रहा है कि सीबीसीआईडी के स्तर पर लंबित गोंडा जिले की एक जांच 14 बार स्थानान्तरित किए जाने के मामले को लेकर हुए विवादों के कारण डीजीपी से यह प्रभार हटाया गया है। प्रमुख सचिव गृह संजय प्रसाद ने इस मामले में जांच के आदेश दिए थे। आनंद कुमार इससे पहले डीजी विशेष अनुसंधान शाखा (सहकारिता) के पद पर कार्यरत थे। उन्हें इस पद पर डीजी जेल के पद से स्थानान्तरित किया गया था। हाल ही में सरकार ने विशेष अनुसंधान शाखा (सहकारिता) का अपराध शाखा अपराध अनुसंधान विभाग (सीबीसीआईडी) में विलय करने का फैसला किया था। 
इसके साथ ही प्रदेश सरकार ने एडीजी यूपी 112 अशोक कुमार को डीजीपी मुख्यालय से संबद्ध कर दिया है। एडीजी प्रशासन नीरा रावत को एडीजी 112 के पद पर स्थानान्तरित कर दिया गया है। एडीजी प्रशासन के पद पर अभी किसी की तैनाती नहीं की गई है। 

दरअसल, लखनऊ शहीद पथ के पास स्थित पुलिस कन्ट्रोल रूम-112 मुख्यालय की सैकड़ों आउटसोर्सिंग महिला कर्मचारियों ने वेतन बढ़ाने और नियुक्ति पत्र तुरन्त देने की मांग करते हुए सोमवार दोपहर दो बजे काम बंद कर दिया। इससे सेवा बाधित होने लगी। करीब चार बजे ये महिला कर्मचारी मुख्यालय के सामने सर्विस लेन में धरने पर बैठ गई। एडीजी, डीसीपी व एडीसीपी ने इन्हें समझाने का प्रयास किया लेकिन इन लोगों ने प्रदर्शन खत्म नहीं किया। महिला कर्मियों ने पुलिस पर धक्का मुक्की का आरोप लगाया।

किसी की नहीं सुनी महिलाकर्मियों ने
एडीजी अशोक कुमार व एएसपी हरेन्द्र ने कर्मचारियों को समझाने की कोशिश की पर ये लोग नहीं मानी। कर्मियों ने आरोप लगाया कि पुलिस अफसरों ने कहा कि बैठी रहो धरने पर। उनके पास और लोग है, काम करने के लिये...। इन कर्मियों ने साफ कह दिया कि मांगे पूरी न होने तक धरना नहीं खत्म किया जायेगा। इन लोगों ने एक गर्भवती महिला को भी अंदर रोके रखने का आरोप लगाया है। इन लोगों ने पुलिस अफसरों से नहीं नई कम्पनी के अधिकारियों से बात कराने को कहा ताकि उनकी मांगे पूरी हो सके।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें