ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशHindustan Special: हैंड वॉश और फिनायल से मिली महिला समूह को पहचान, देश भर में डिमांड 

Hindustan Special: हैंड वॉश और फिनायल से मिली महिला समूह को पहचान, देश भर में डिमांड 

बरेली जिले के फरीदपुर के गांव भगवानपुर फुलवा की सीमा ने द्वारिकेश महिला स्वयं सहायता समूह का गठन कर स्वावलंबन की कहानी लिख दी। समूह ने हैंडवॉश और फिनायल का उत्पादन शुरू किया।

Hindustan Special: हैंड वॉश और फिनायल से मिली महिला समूह को पहचान, देश भर में डिमांड 
Dinesh Rathourआमोद कौशिक,बरेलीWed, 10 Jan 2024 09:58 PM
ऐप पर पढ़ें

फरीदपुर के गांव भगवानपुर फुलवा की सीमा ने द्वारिकेश महिला स्वयं सहायता समूह का गठन कर स्वावलंबन की कहानी लिख दी। समूह ने हैंडवॉश और फिनायल का उत्पादन शुरू किया। मार्केटिंग की जिम्मेदारी भी खुद संभाली। हैंडवॉश और फिनायल की मांग उत्तर प्रदेश के बाहर भी हो रही है। समूह के हर सदस्य को करीब 15 हजार रुपये महीने की आमदनी हो रही है। सीमा का परिवार खेती करता है। परिवार बढ़ा तो खर्च भी बढ़ने लगा। केवल नाम लिखने भर पढाई करने वाली सीमा ने राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत समूह के गठन का फैसला किया। ब्लॉक के अधिकारियों से बात की। उनके सुझाव पर गांव की 11 महिलाओं को अपने समूह से जोड़ा। शुरूआत में समूह ने गन्ने का सिरका तैयार किया। इससे समूह की सभी महिलाओं की आमदनी होने लगी। बाद में समूह ने हैंडवॉश और फिनायल का उत्पादन शुरू कर दिया। पहले बरेली के सरकारी ऑफिसों और ग्राम पंचायतों के कम्युनिटी टॉयलेट के लिए सप्लाई की गई। धीरे-धीरे डिमांड बढ़ती गई। मांग के मुताबिक समूह ने उत्पादन बढ़ा दिया।   

बरेली के बाहर भी हो रही सप्लाई 

प्रशासन ने समूह को काम करने के लिए शेड भी बनाकर दिया। महिलाओं ने मार्केटिंग की जिम्मेदारी भी खुद ही संभाली। बरेली के बाद अलीगढ़, आगरा और मथुरा समेत कई जिलों में आपूर्ति की। गुणवत्ता अच्छी होने के कारण नाम हुआ तो दिल्ली और उत्तराखंड में भी सप्लाई होने लगी। अब पंजाब और हरियाणा से भी डिमांड आ रही है। समूह की आमदनी लगातार बढ़ रही है। समूह की एक महिला हर महीने करीब 15 हजार की आमदनी कर रही है। महिला समूह विस्तार की योजना बना रहा है। 

स्वच्छता के प्रति जागरूक किया 

समूह की महिलाओं ने हैंडवॉश और फिनायल से आमदनी बढ़ाने के लिए अपने गांव और आसपास की ग्राम पंचायतों में स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक किया। साफ-सफाई का महत्व समझाया। हैंडवॉश और फिनायल की उपयोगिता के बारे में बताया। इसका असर हुआ। ग्रामीण इलाके में समूह के हैंडवॉश और फिनायल की मांग बढ़ती चली गई।