ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी विधानसभा के शीतकालीन सत्र का 28 नवंबर से शुभारंभ, अनुपूरक बजट पेश करेगी सरकार

यूपी विधानसभा के शीतकालीन सत्र का 28 नवंबर से शुभारंभ, अनुपूरक बजट पेश करेगी सरकार

यूपी विधानसभा के शीतकालीन सत्र के शुभारंभ का ऐलान हो गया है। 28 नवंबर से इसकी शुरुआत होगी। विधानसभा सत्र के दौरान सरकार अनुपूरक बजट पेश करेगी। पहले दिन विधायक आशुतोष टंडन के निधन पर शोक जताया जाएगा।

यूपी विधानसभा के शीतकालीन सत्र का 28 नवंबर से शुभारंभ, अनुपूरक बजट पेश करेगी सरकार
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊThu, 09 Nov 2023 09:43 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी विधानसभा के शीतकालीन सत्र के शुभारंभ का ऐलान हो गया है। 28 नवंबर से इसकी शुरुआत होगी। इस दौरान अनुपूरक बजट भी पास कराया जाएगा। योगी सरकार का प्रयास है कि लोकसभा चुनाव से पहले प्रदेश में रुके विकास कार्यों को जल्द से जल्द पूरा कराया जाए। इसके लिए शीतकालीन सत्र में अनुपूरक बजट पास कराने की तैयारी है। कहा जा रहा है कि यह सत्र एक हफ्ते चल सकता है। सीएम योगी ने गुरुवार को अयोध्या में इस बारे में जानकारी भी दी। माना जा रहा है कि पहले दिन केवल विधायक आशुतोष टंडन के निधन पर शोक जताने के बाद सत्र स्थगित हो जाएगा।

शीतकालीन सत्र में अनुपूरक बजट पास कराया जाएगा, साथ ही कई विधेयक भी मंजूर कराए जाएंगे। सत्र के पहले दिन समूचा सदन अपने दिवंगत सदस्य आशुतोष टंडन ‘गोपालजी’ को श्रद्धांजलि देगा। भाजपा विधायक व पूर्व मंत्री आशुतोष टंडन की गुरुवार को मृत्यु हो गई। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर इसमें कई अहम योजनाओं के लिए पर्याप्त रकम का इंतजाम योगी सरकार करेगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में गुरुवार को अयोध्या में हुई कैबिनेट बैठक में विधानमंडल सत्र बुलाने का निर्णय लिया गया। मुख्यमंत्री ने पत्रकारों को बताया कि यह सत्र लगभग एक हफ्ते का होगा। इससे पहले 27 नवंबर को सर्वदलीय बैठक होगी। असल में विधानमंडल का पिछला सत्र इसी साल सात अगस्त को शुरू हुआ था और 11 अगस्त की बैठक के बाद अनिश्चिकाल के लिए स्थगित हो गया था।  

अपने चुनावी वायदों को असली जामा पहना सकती है योगी सरकार 
अनपुरक बजट में भाजपा के बचे चुनावी वायदों को असली जामा पहनाया जा सकता है। इसमें  किसानों को निजी नलकूपों से सिंचाई के लिए मुफ्त बिजली देना शामिल है। इसके अलावा दिव्यांगों की पेंशन एक हजार रुपये महीना से 1500 रुपये करने की तैयारी है। एक्सप्रेसवे के किनारे इंडस्ट्रियल सिटी बनाने के लिए जमीन खरीदने के लिए भी रकम का इंतजाम होगा। अयोध्या के कैबिनेट  से मंजूर हुई कई परियोजनाओं के लिए भी धन का इंतजाम होगा। अयोध्या में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा से जुड़े विविध आयोजनों के लिए भी धन की व्यवस्था होगी। 

लोकसभा चुनाव में ज्यादा वक्त नहीं है। वैसे तो अगले वित्तीय वर्ष 2024-25 का बजट अगले साल फरवरी में पेश होना है। सरकार चुनाव दृष्टि से जरूरी विकास के कामों के लिए धन का इंतजाम अभी से करना चाहती है ताकि विकास परियोजनाओं को खर्च के लिए तीन चार महीने का वक्त मिल सके।  इसलिए अनुपूरक बजट में ही इसके लिए जरूरी रकम रखी जाएगी। गंगा एक्सप्रेसवे के निर्माण की रफ्तार की तेजी के लिए भी यूपीडा को और रकम दी जाएगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें