ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशजानें सपा के सिब्बल प्रेम का क्या है राज, अखिलेश यादव ने साधे एक तीर से कई निशाने; मुसलमानों को संदेश

जानें सपा के सिब्बल प्रेम का क्या है राज, अखिलेश यादव ने साधे एक तीर से कई निशाने; मुसलमानों को संदेश

16 मई को कांग्रेस से इस्तीफा दे चुके कपिल सिब्बल ने सपा के समर्थन से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन कराया है। सपा ने उन्हें उम्मीदवार बनाकर एक तीर से कई निशाने साध लिए हैं।

जानें सपा के सिब्बल प्रेम का क्या है राज, अखिलेश यादव ने साधे एक तीर से कई निशाने; मुसलमानों को संदेश
Sudhir Jhaलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊThu, 26 May 2022 08:42 AM

समाजवादी पार्टी (सपा) ने पूर्व कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल को समर्थन देकर राज्यसभा भेजने का फैसला किया है। 16 मई को कांग्रेस का 'हाथ' छोड़ चुके वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर बुधवार को नामांकन दाखिल किया। खुद सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव भी नामांकन के दौरान साथ रहे। कहा जा रहा है कि सपा के वरिष्ठ नेता आजम खान को जमानत दिलाने में अहम भूमिका निभाने के इनाम के तौर पर उन्हें राज्यसभा भेजा जा रहा है। हालांकि, इससे पहले भी सपा के समर्थन से ही सिब्बल उच्च सदन में पहुंचे थे। आइए जानते हैं कि किन वजहों से एक बार फिर अखिलेश ने सिब्बल पर भरोसा जताया है।

आजम को खुश करना चाहते हैं अखिलेश?
करीब ढाई साल तक सीतापुर जेल में बंद रहे रामपुर के नेता आजम खान सपा और इसके अध्यक्ष से नाराज बताए जाते हैं। खुद आजम खान नाराजगी पर खुलकर बोलने से परहेज कर रहे हैं, लेकिन उन्होंने यह जरूर कहा कि वह कपिल सिब्बल को राज्यसभा जाते देखना चाहते हैं। सिब्बल की जमकर तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि उनके पास शुक्रिया अदा करने के लिए शब्द नहीं है। यदि सपा उन्हें राज्यसभा भेजती है तो उन्हें (आजम) सबसे ज्यादा खुशी होगी। माना जा रहा है कि अखिलेश यादव ने एक तीर से कई निशाने साधने की कोशिश की है। इसमें एक लक्ष्य आजम के दर्द पर मरहम लगाने की भी है। अब संभव है कि कपिल सिब्बल अखिलेश व आजम में बनी दूरी को पाटे और आजम खां को इधर-उधर जाने की जरा भी संभावना को खत्म कराएं। 

मुस्लिम वोटर्स को संदेश
राजनीतिक जानकारों का कहना है कि कपिल सिब्बल ने जिस तरह सीएए-एनआरसी, बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद, तीन तलाक, बुलडोजर, हिजाब जैसे मुद्दों पर सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष की ओर से वकालत की, उससे मुस्लिम समाज में उनकी स्वीकार्यता बढ़ी है। पार्टी के रणनीतिकारों का मानना है कि कपिल सिब्बल के आने से अल्पसंख्यक वोटर्स भी खुश होंगे, जिन्होंने हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में पार्टी का खुलकर साथ दिया है। ऐसे में पार्टी ने इस कदम से उन्हें संदेश देने की कोशिश की है कि अल्पसंख्यक समुदाय के साथ खड़े होने वालों का पार्टी सम्मान करती है।

दिल्ली की राजनीति में अहमियत
कपिल सिब्बल दिल्ली की राजनीति के माहिर खिलाड़ी हैं। लगभग सभी दलों के नेताओं से उनका अच्छा संपर्क है। सपा को उम्मीद है कि कपिल सिब्बल दिल्ली की राजनीति में अपने संपर्कों से पार्टी को अहमियत दिलाएं। कपिल सिब्बल ने नामांकन के बाद यह भी कहा कि वह सभी दलों को मोदी के खिलाफ एकजुट करने का प्रयास करेंगे। 

दोनों में पुरानी नजदीकी
वर्ष 2017 में जब सपा परिवार में अंतर्कलह चरम पर थी तब पार्टी सिंबल साइकिल को लेकर मुलायम सिंह यादव व अखिलेश यादव दोनों ने चुनाव आयोग में दावा किया था। उस वक्त कपिल सिब्बल ने अखिलेश की तरफ से पैरवी की थी। सब जानते हैं कि चुनाव आयोग ने साइकिल चिन्ह अखिलेश को आवंटित कर दिया। कुछ ही दिनों बाद मुलायम सिंह भी पूरी तरह बेटे अखिलेश के साथ आ गए।

अरबपति वकील हैं देश के पूर्व कानून मंत्री कपिल
कांग्रेस छोड़ कर बतौर निर्दलीय राज्यसभा चुनाव लड़ने जा रहे अरबपति वकील हैं। देश के कानून मंत्री रहे चुके कपिल सिब्बल को लग्जरी गाड़यिों का शौक है। मोटरसाइकिल भी पसंद करते हैं। उनके पास तीन शानदार कारें व दो मोटरसाइकिल हैं। इनकी बाजार कीमत 1,10,96,398 रुपये है।

कपिल सिब्बल एक परिचय
पेशा-
वकालत

शिक्षा- एलएलएम (हावर्ड ला स्कूल कैम्ब्रिज यूएसए से) नगद- 241042

कारें- मर्सडीज जीएलए , टोयटा कैमरी, मर्सडीज मेबैक

मोटरसाइकिल- इनफील्ड बुलेट, हीरो स्पलेंडर

कुल चल सम्पत्ति-3,7611,89,970

अचल सम्पत्ति-23248.87लाख रु. 

epaper