ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशकौन हैं गोवा की 'मैडम जी'? हनीट्रैप का शिकार, अब ATS के चंगुल में गोरखपुर का युवक 

कौन हैं गोवा की 'मैडम जी'? हनीट्रैप का शिकार, अब ATS के चंगुल में गोरखपुर का युवक 

एटीएस यह जानने में जुटी है कि युवक का ‘मैडम जी’ से क्या रिश्ता है और वह उसके कहने पर ऑनलाइन लेनदेन क्यों करता था। ATS ‘मैडम जी’ के चक्रव्यूह को भेदकर टेरर फंडिंग की आशंका को बेपर्दा करने में जुटी है।

कौन हैं गोवा की 'मैडम जी'? हनीट्रैप का शिकार, अब ATS के चंगुल में गोरखपुर का युवक 
Ajay Singhवरिष्ठ संवाददाता,गोरखपुरSat, 18 May 2024 02:42 PM
ऐप पर पढ़ें

Gorakhpur youth trapped in honeytrap: गोवा की ‘मैडम जी’ के फेर में फंसकर गोरखपुर पिपराइच का युवक एटीएस के चंगुल में आया है। अब एटीएस यह जानने में जुटी है कि युवक का ‘मैडम जी’ से क्या रिश्ता है और वह उसके कहने पर ऑनलाइन लेनदेन क्यों करता था। एटीएस ‘मैडम जी’ के चक्रव्यूह को भेदकर टेरर फंडिंग की आशंका को बेपर्दा करने में जुटी है और युवक से लगातार पूछताछ हो रही है। अंदेशा है कि यह हनी ट्रैप का मामला भी हो सकता है। पाकिस्तान से टेरर फंडिंग की सूचना पर शुक्रवार को स्थानीय खुफिया विभाग की टीम भी युवक के घर पहुंची और उसकी मां से पूछताछ की।

गुरुवार को एटीएस की टीम ने पिपराइच के एक गांव से युवक को उठाया था। पहले युवक से पिपराइच थाने पर चार घंटे पूछताछ हुई, मगर माकूल जवाब न मिलने पर एटीएस की टीम उसे लेकर लखनऊ चली गई। वहां उससे पूछताछ चल रही है। एटीएस के अधिकारियों का कहना है कि अभी पूछताछ जारी है और मामले की तह तक जाने के बाद ही कुछ बताया जा सकता है।

युवक एक आशा कार्यकत्री का बेटा है। 20 साल पहले उसके पिता का निधन हो गया था। वह रोजी-रोटी के लिए गोवा चला गया था और एक शिप पर काम कर रहा था। गांव की भूमि फोरलेन निर्माण के लिए अधिग्रहण में चली गई, जिसका मुआवजा लेने वह चार माह पहले ही गांव लौटा था। मुआवजे की रकम मिलने के बाद वह वर्तमान में मकान का निर्माण करा रहा था।

यूपी एटीएस के पास पक्की सूचना थी कि युवक के बैंक खाता से संदिग्ध लेनदेन हुआ है जोकि टेरर फंडिंग से जुड़ा मामला हो सकता है। इसी आधार पर दो गाड़ियों से पहुंची एटीएस टीम ने पिपराइच पुलिस की मदद से युवक को उठाया। एटीएस के पास बैंक ट्रांजेक्शन से जुड़ी जानकारी और कॉल डिटेल भी मौजूद थी। प्राथमिक पूछताछ में एटीएस को पता चला है कि गोवा की किसी ‘मैडम जी’ ने उससे यह लेनदेन कराया है। अब यह ‘मैडम जी’ कौन हैं और उसने किस तरह युवक को अपने जाल में फंसाया। ‘मैडम जी’ का इरादा क्या है और युवक की इसमें क्या भूमिका है? लेनदेन क्यों किया गया और आईएसआई तक इसके तार जुड़ रहे हैं या नहीं? इन सवालों का जवाब तलाश करने में एटीएस जुटी हुई है। हनी ट्रैप जैसे एंगल से भी पड़ताल की जा रही है। एटीएस का कहना है कि जल्द ही वह इस पूरे मामले से पर्दा उठाएगी।

मां बेचैन, रिश्तेदार और ग्रामीण दे रहे दिलासा

एटीएस ने जिस युवक को उठाया है ग्रामीण उसे शरीफ बता रहे हैं। उसकी अभी शादी नहीं हुई है। उसकी मां बेचैन है। रिश्तेदार और ग्रामीण उसे दिलासा दे रहे हैं। बताया जा रहा है कि पैसे की तंगी के चलते ही युवक कमाने गोवा गया था। बीच में जब वह आया तब मोमो का ठेला भी लगाता था। बताया जा रहा है कि अगर उसके पास इतना पैसा होता, तो वह काम की तलाश में क्यों जाता। फिलहाल कोई भी कुछ साफ-साफ कहने की स्थिति में नहीं है। कहा जा रहा है कि हो सकता है कि महिला ने उसकी शराफत का फायदा उठाया हो। फिलहाल पूछताछ में एटीएस को क्या जानकारी मिलती है, उसी से उसके ऊपर आगे की कार्रवाई निर्भर है।