ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशचालू पेराई सत्र का गन्ना मूल्य सरकार कब तय करेगी? योगी सरकार के मंत्री ने बताया समय

चालू पेराई सत्र का गन्ना मूल्य सरकार कब तय करेगी? योगी सरकार के मंत्री ने बताया समय

गन्ना विकास व चीनी उद्योग मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण ने कहा है कि चालू पेराई सत्र के लिए गन्ने का राज्य परामर्शी मूल्य सरकार जल्द ही तय करेगी। जल्द ही बैठक की जाएगी।

चालू पेराई सत्र का गन्ना मूल्य सरकार कब तय करेगी? योगी सरकार के मंत्री ने बताया समय
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,लखनऊFri, 01 Dec 2023 02:11 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तर प्रदेश विधानसभा में गन्ना विकास व चीनी उद्योग मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण ने कहा है कि चालू पेराई सत्र के लिए गन्ने का राज्य परामर्शी मूल्य सरकार जल्द ही तय करेगी। गन्ना मंत्री ने  गुरुवार को विधानसभा में कहा कि जल्द ही गन्ना किसानों और चीनी मिल प्रतिनिधियों के साथ बैठकें करके गन्ना मूल्य तय कर दिया जाएगा। गन्ना मंत्री ने कहा कि बिजनौर जिले में एक भी चीनी मिल पर गन्ना मूल्य बकाया नहीं है। वर्तमान पेराई सत्र में अब तक 1393 करोड़ रुपये का गन्ना किसानों से खरीदा गया और 1363 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है।

राष्ट्रीय लोकदल के प्रसन्न कुमार द्वारा शामली चीनी मिल पर अब तक 222 करोड़ रुपये का गन्ना मूल्य बकाया होने और वहां पिछले दिनों किसानों द्वारा दिये गये धरने का मामला उठाए जाने पर गन्ना मंत्री ने कहा कि शामली चीनी मिल के संचालक से किसान प्रतिनिधियों की जो समझौता वार्ता हुई उसमें जो शर्ते तय हुई हैं, अगर उन शर्तों का उल्लंघन हुआ तो संचालन के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
 प्रसन्न कुमार ने कहा कि सरकारी चीनी मिलें गन्ना आपूर्ति के 14 दिनों के भीतर किसान को गन्ना मूल्य भुगतान नहीं कर पा रही हैं। उन्होंने चालू पेराई सत्र के लिस 450 रुपये कुंतल की दर से गन्ने का राज्य परामर्शी मूल्य दिये जाने की मांग उठायी। उन्होंने कहा कि मौजूदा भाजपा सरकार ने अपने सात साल के कार्यकाल में अब तक सिर्फ 25 रुपये बढ़ाए हैं।

सपा के मनोज कुमार पारस ने कहा कि सारी फसलों के दाम बढ़े मगर गन्ने का भाव नहीं बढ़ाया गया। उन्होंने बिजनौर की बिलाई चीनी मिल पर 220 करोड़ रुपये का गन्ना मूल्य बकाया होने की बात कही। सपा के चन्दन सिंह चौहान ने कहा कि गन्ना मूल्य समय पर घोषित होना बहुत ही आवश्यक है। मिल चले डेढ़ माह हो चुके हैं और अभी तक गन्ना मूल्य घोषित नहीं हो सका है।