ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशHindustan Special: बिजली लाइन नहीं पहुंची तो लोगों ने सोलर पैनल से रोशन कर लिया गांव

Hindustan Special: बिजली लाइन नहीं पहुंची तो लोगों ने सोलर पैनल से रोशन कर लिया गांव

बिजनौर के नजीबाबाद के एक गांव वन आरक्षित होने के कारण विकास से कोसों दूर है। यहां बिजली आपूर्ति भी नहीं है। हालांकि ग्रामीणों ने इसका समाधान भी निकाल लिया है। अब पूरा गांव सोलर पैनल से रोशन होता है।

Hindustan Special: बिजली लाइन नहीं पहुंची तो लोगों ने सोलर पैनल से रोशन कर लिया गांव
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,नजीबाबादWed, 14 Feb 2024 09:42 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी-उत्तराखंड बॉर्डर पर बसा बिजनौर के नजीबाबाद तहसील का गांव रामपुर चाठा वन आरक्षित क्षेत्र में होने के कारण विकास से दूर रहा। जिसके कारण यहां रहने वाले लोगों को विभिन्न समस्याओं का सामना करना पड़ता है। वन विभाग और बिजली विभाग के बीच फंसे पेच के कारण गांव में आज तक बिजली आपूर्ति नहीं की जा सकी। परेशान ग्रामीणों ने खुद ही इसका हल निकाल लिया और पूरा गांव सोलर पैनल से रोशन कर लिया।

गांव की गलियों के साथ सभी घरों में 125 वाट के सोलर पैनल लगाए गए हैं, जिनसे रात में पूरा गांव जगमगा उठता है। गांव में कई साल पहले बिजली लाइन खींचने के लिए बिजली विभाग की ओर से खंभे लगा दिए गए थे। जिनमें से आज कुछ गायब हो गए और कुछ टूट गए, मगर लोगों को बिजली नहीं मिल सकी। बताया जाता है कि वन गांव होने के नाते आबादी के अलावा अधिकतर जमीन वन विभाग की है। बिजली लाइन खींचने के लिए वन विभाग की एनओसी नहीं मिली। ग्रामीणों का कहना है कि बिजली और सड़क के बिना हमारा गांव पिछड़ा हुआ है। बच्चों को पढ़ाने के लिए गांव के कुछ लोग शहर में किराए पर मकान लेकर रहते हैं। कई लोग तो गांव से पलायन भी कर चुके हैं।

सोलर पैनल के सहारे गांव की आबादी

वर्तमान में गांव रामपुर चाठा की रात सूरज से रोशन तो होती है। गांव में करीब दो हजार की आबादी निवास करती है। बिजली की सुविधा प्रदान करने करने के लिए सरकार की ओर से 125 वाट के दो पैनल प्रत्येक घर को उपलब्ध कराए गए हैं, जो नलकूप एवं अन्य संसाधनों के लिए पर्याप्त नहीं है।

गांव का प्रमुख मुद्दा सड़क और बिजली

प्रधान सोमदत्त ने बताया कि गांव में प्रमुख मुद्दा सड़क और बिजली का है। सरकार द्वारा ग्राम वासियों की मांग पर दो-दो सोलर प्लेट 125 वाट की और एक बड़ा बैटरा दिया गया। इसके द्वारा ग्रामीण अपने घरों की लाइट और पंखा चला लेते हैं। खेतों में सिंचाई करने के लिए नलकूपों इंजन से चलाए जाते हैं। गांव की गलियों में भी सोलर पैनल से रोशनी होती है।

एनओसी के लिए पत्र भेजा जा रहा

विद्युत वितरण खंड नजीबाबाद के अधिशासी अभियंता वीरेंद्र कुमार का कहना है कि ग्राम रामपुर चाठा में बिजली की लाइन पहुंचाने के लिए प्रक्रिया जारी है, वन विभाग की एनओसी के लिए शासन स्तर से पत्राचार किया जा रहा है, अनुमति मिलने पर ही गांव मे बिजली पहुंचाई जाएगी।

आवेदन प्रक्रिया में रही कमी

वन प्रभाग नजीबाबाद डीएफओ आशुतोष पांडे ने बताया कि केवल पत्राचार करना ही काफी नहीं है, बिजली विभाग की ओर से विधिवत प्रक्रिया के अनुसार अनुमति मांगी ही नहीं गई, मामला शासन स्तर का है। इसके लिए परिवेश पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करना होता है जो नहीं कराया गया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें