ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशजनसभा में सपा विधायक ने छोड़ी कुर्सी तो अपने हेलीकॉप्टर से ले गए अखिलेश, जानें क्या था पूरा मामला 

जनसभा में सपा विधायक ने छोड़ी कुर्सी तो अपने हेलीकॉप्टर से ले गए अखिलेश, जानें क्या था पूरा मामला 

कानपुर के जीआईसी ग्राउंड में सपा-गठबंधन की जनसभा का आयोजन किया गया था। इसमें राहुल और अखिलेश के अलावा दोनों ही पार्टियों के नेता भी पहुंचे थे। मंच पर अपने नेता के बगल में बैठने की होड़ लगी थी।

जनसभा में सपा विधायक ने छोड़ी कुर्सी तो अपने हेलीकॉप्टर से ले गए अखिलेश, जानें क्या था पूरा मामला 
Dinesh Rathourहिन्दुस्तान टीम,कानपुरSat, 11 May 2024 05:32 PM
ऐप पर पढ़ें

सरकारी दफ्तर हो या फिर सियासी पिच का मैदान। कुर्सी को लेकर हर जगह जंग जारी है। हर जगह कुर्सी को लेकर उठा-पटक होते दिख रही है। कुछ ऐसा ही नजारा शुक्रवार को कानपुर में हुई अखिलेश और राहुल की जनसभा में भी देखना को मिला है। यहां जीआईसी ग्राउंड में सपा-गठबंधन की जनसभा का आयोजन किया गया था। इसमें राहुल और अखिलेश के अलावा दोनों ही पार्टियों के नेता भी पहुंचे थे। मंच पर अपने-अपने पसंदीदा नेता के बगल में बैठने की होड़ लगी थी।

अखिलेश के बगल में कुर्सी पर सपा विधायक अमिताभ बाजपेई बैठे थे, लेकिन इसी दौरान कांग्रेस के यूपी प्रभारी आ गए तो उनके चक्कर में अमिताभ को कुर्सी छोड़नी पड़ी। कुर्सी से उठकर अमिताभ जनसभा में पीछे जाकर बैठ गए। यह सब होते सपा प्रमुख अखिलेश यादव देख रहे थे। सपा की जनसभा खत्म हुई तो अखिलेश ने अमिताभ को बुलाया और अपने साथ हेलीकॉप्टर में बिठाकर उन्हें झींझक तक ले गए। सपा की जनसभा में ऐसा पहली बार हुआ था जब प्रत्याशियों का भाषण ही नहीं कराया गया। इसको लेकर नेताओं में काफी चर्चाएं भी होती रहीं।

अखिलेश ने चौथे चरण चुनाव से पहले लिखा पत्र, ग्राम प्रधान से लेकर सांसद तक से की ये अपील

दरअसल शुक्रवार को कानपुर में आयोजित चुनावी जनसभा में राहुल गांधी के बगल में सपा नगर अध्यक्ष फजल महमूद बैठे थे। जब वह मंच पर संबोधित करने गए, तो कुर्सी पर अकबरपुर प्रत्याशी राजाराम पाल बैठ गए। फजल लौटे तो वह राजाराम को हटाकर राहुल गांधी के बगल में बैठ गए। इसके पहले अखिलेश के बगल में सपा विधायक अमिताभ बाजपेई बैठे थे लेकिन जब कांग्रेस के यूपी प्रभारी अविनाश पांडेय आए तो उन्होंने कुर्सी छोड़ दी और जाकर पीछे तीसरी कतार में जा बैठे। सपा विधायक अमिताभ बाजपेई ने बताया कि सपा मुखिया उन्हें स्वयं लेकर गए। नाराजगी वाली कोई बात नहीं। डेकोरम के तहत उन्होंने कुर्सी छोड़ी थी। 

मोदी सरकार ने आतंकवाद की नाभी पर किया प्रहार, कानपुर में सपा-कांग्रेस पर जमकर बरसे सीएम योगी

जनसभा में क्या बोले थे अखिलेश

कानपुर में आयोजित जनसभा में समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने कहा कि इंडिया गठबंधन की सरकार बनने पर औद्योगिक नगरी कानपुर को कामपुर बनाएंगे। यहां के ज्यादा से ज्यादा लोगों के पास काम होगा। कानपुर की औद्योगिक पहचान है। अब हम कानपुर के लोगों को ज्यादा से ज्यादा काम मिले, उस दिशा में काम करेंगे। अखिलेश यादव ने कहा कि था कानपुर में उद्योग चलाने वालों और कारोबारियों ने अपनी मेहनत और काबिलियत से कानपुर की पहचान इंडस्ट्रियल टाउन के तौर पर बनाई लेकिन केंद्र सरकार ने मदद नहीं की। एमएसपी न देकर किसानों के साथ और बड़े उद्योग कारखानों के साथ भेदभाव किया है। मिलें चलती थीं तो सभी के पास रोजगार था और घर चलते थे। इस सरकार ने मिलों को तो शुरू नहीं किया बल्कि शहर की लेबर कालॉनियों को हड़पने की साजिश हो रही है, जिसे समाजवादी सफल नहीं होने देंगे।