ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशरुपये न देने पर रेप का मुकदमा कराने की धमकी दी तो मार दिया, प्रेमी ने कबूल किया जुर्म

रुपये न देने पर रेप का मुकदमा कराने की धमकी दी तो मार दिया, प्रेमी ने कबूल किया जुर्म

लखनऊ में प्रेमी ने रुपये न देने पर रेप का मुकदमा कराने की धमकी दी तो प्रेमिका को मार दिया। आरोपी ने पूछताछ में खुलासा किया कि सत्यभामा उससे रुपयों की मांग कर रही थी।

रुपये न देने पर रेप का मुकदमा कराने की धमकी दी तो मार दिया, प्रेमी ने कबूल किया जुर्म
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,लखनऊTue, 21 Nov 2023 09:16 AM
ऐप पर पढ़ें

लखनऊ के कृष्णानगर में सत्यभामा (24) की हत्या के आरोप में गिरफ्तार उसके प्रेमी मुमताज को पुलिस ने सोमवार को कोर्ट में पेश किया जहां से उसे जेल भेज दिया गया। उसने रात में हुई पूछताछ में खुलासा किया कि सत्यभामा उससे रुपयों की मांग कर रही थी। रुपये देने से मना करने पर उसने रेप का मुकदमा दर्ज कराकर जेल भेजने की धमकी दी थी। इसको लेकर ही वह घटना के दिन गुस्सा गया था। इसी में उसने उसे पहले फर्श पर गिराया, फिर उसके सिर पर भारी चीज से वार किया और गला भी दबा दिया था। सत्यभामा की मौत की पुष्टि के बाद वह ताला बंद कर फरार हो गया था। 

उन्नाव के सफीपुर की रहने वाली सत्यभामा आलमबाग स्थित एक शापिंग माल में सिक्योरिटी गार्ड थी। वह बहन  के साथ रहती थी। कुछ समय पहले उसने अपनी परिचित के यहां प्रेमी मुमताज को कमरा किराये पर दिलाया था। 13 नवंबर की सुबह वह सफीपुर से लखनऊ के लिये निकली थी लेकिन वह बहन के घर नहीं गई थी। 19 नवम्बर को उसका शव प्रेमी मुमताज के कमरे के अंदर बंद मिला था। उसके भाई ने मुमताज के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। मुमताज को रविवार को पुलिस ने पकड़ लिया था। एडीसीपी शशांक सिंह के मुताबिक मुमताज ने बताया कि सत्यभामा उससे रकम की मांग करती रहती थी। इस बार वह 20 हजार रुपये मांग रही थी। रुपये न देने पर उसने दुराचार का मुकदमा दर्ज कराकर उसे जेल भेजने की धमकी दी थी। वह सत्यभामा को धोखे में रखकर दूसरी जगह शादी कर चुका था। इसके बाद भी सत्यभामा उसका पीछा नहीं छोड़ रही थी बल्कि उसने रुपयों की मांग ज्यादा कर दी थी। मुकदमा दर्ज कराने की धमकी से वह और परेशान हो गया था। घटना के दिन इसी बात पर झगड़ा हुआ तो उसने उसकी हत्या कर दी थी।

हत्या के रिश्तेदारों के यहां छिपा रहा
मुमताज ने बताया कि वह तीन साल से सत्यभामा के सम्पर्क में था। सत्यभामा ने उसकी जिन्दगी बर्बाद करने की भी धमकी दी थी। हत्या के बाद वह अपने दो रिश्तेदारों के यहां छिपा रहा। उन्नाव में एक जगह छिपा था लेकिन पुलिस ने पकड़ लिया। 

मोबाइल ऑन करते ही सुराग मिला 
मुमताज ने हत्या के बाद अपना मोबाइल ऑफ कर लिया था। पुलिस की तीन टीमें उसकी तलाश कर रही थी। उन्नाव पुलिस की मदद से उसके गांव में भी उसे ढूंढ़ा जा रहा था। इसी दौरान कुछ देर के लिये मुमताज ने अपना मोबाइल ऑन कर लिया था। बस,यही चूक उसे भारी पड़ गई। उसकी लोकेशन पुलिस को मिल गई और उसे पकड़ लिया गया। उसके पास सत्यभामा का मोबाइल भी बरामद हो गया था।