DA Image
11 सितम्बर, 2020|11:51|IST

अगली स्टोरी

विकास दुबे के साथी उमाकांत शुक्ला का खुलासा, पांच सिपाहियों के शव शौचालय में जला देने का था प्लान

vikas dubey case umakant shukla revealed plan to burn bodies of five sipahi in toilet kanpur encount

विकास दुबे के साथी उमाकांत उर्फ बउआ उर्फ गुड्डन ने सरेंडर करने के बाद पुलिस पूछताछ में कई अहम जानकारियां दी हैं। देर रात तक उससे पूछताछ हुई उमाकांत ने पुलिस को बताया कि कैसे पांच सिपाहियों के शव शौचालय में पहुंचाए गए थे और विकास दुबे ने उन्हें जलाने का पूरा इंतजाम कर लिया था। उसने पुलिस को कुछ असलहों के बारे में भी बताया जिसकी बरामदगी के लिए पुलिस ने प्रयास शुरू कर दिया है। 

उमाकांत का घर उस शौचालय के सामने है जहां पर पांच सिपाहियों के शव रखे गए थे। उसने पुलिस पूछताछ में बताया कि वह प्रवीन की छत पर बंदूक के साथ मौजूद था। सिपाहियों को खोज खोजकर मारा गया था। उसके बाद उनके शवों को घसीटकर शौचालय में एक के ऊपर एक रखा गया। जिसके बाद विकास दुबे ने मिट्टी के तेल का पीपा मंगा लिया था। वह सिपाहियों के शव को जला देना चाहता था। मगर कुछ साथियों ने उसे रोक लिया था। 

ट्रैक्टर चलाने के अलावा नौकरी 
उमाकांत विकास दुबे का ट्रैक्टर चलाता था। सीजन में जब उसका काम खत्म हो जाता था तो वह छोटी मोटी नौकरी करके अपना परिवार पालता था। वर्तमान में वह एक फैक्ट्री में काम कर रहा था। जहां पर विकास दुबे ने ही उसकी नौकरी लगवाई थी। 

बेटी से भाई के खिलाफ लिखा दिया था मुकदमा 
उमाकांत ने बताया कि वह पहले विकास दुबे के साथ कोई संबंध नहीं रखना चाहता था। उसने पुलिस से कहा कि बहुत साल पहले उसका झगड़ा अपने भाई से हुआ। वह पुलिस तक बात नहीं ले जाना चाहता था। उसके बाद विकास दुबे ने उसकी बेटी से चाचा के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया था। जिसके बाद मजबूरन उसे विकास के संरक्षण में जाना पड़ा। 

दूसरे भाई की तलाश 
उमाकांत का दूसरा भाई बब्बन भी इस मामले में आरोपित है। उसपर भी 50 हजार का इनाम है। उसके पास भी दो नाली लाइसेंसी बंदूक है। पुलिस उमाकांत के जरिए बब्बन तक पहुंचने की कोशिश में लगी हुई है। उससे बब्बन के बारे में कुछ जानकारियां मिली हैं। 

गले में तख्ती लटका परिवार सहित थाने पहुंचा था उमाकांत 
विकास दुबे के गुर्गे और पचास हजार के इनामी ने नाटकीय ढंग से शनिवार को चौबेपुर थाने में सरेंडर किया था। उसके साथ उसकी पत्नी और बेटी मौजूद थी। गले में तख्ती टांगे उमाकांत शुक्ला उर्फ बउआ ने पुलिस के सामने सरेंडर करने के साथ ही अपनी जान की सुरक्षा मांगी। पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया है। उससे पूछताछ की जा रही है। उमाकांत ने पूछताछ में कुछ हथियारों के बारे में भी जानकारी दी है। बिकरू निवासी उमाकांत शुक्ला उर्फ बउआ घटना में शामिल था। यह बात उसने खुद कबूल की। शनिवार दोपहर 12 बजे पत्नी सीमा और बेटी छवि के साथ उमाकांत शुक्ला चौबेपुर थाने पहुंचा। वहां पर उसने सीओ बिल्हौर संतोष कुमार सिंह और इंस्पेक्टर चौबेपुर समेत अन्य पुलिस कर्मियों के सामने सरेंडर कर दिया। 

क्या लिखा था तख्ती में 
मेरा नाम उमाकांत शुक्ला उर्फ बउआ उर्फ गुड्डन पुत्र मूल चन्द्र शुक्ला निवासी बिकरू थाना चौबेपुर है। मैं बिकरू कांड में विकास दुबे के साथ शामिल था। मुझे पकड़ने के लिए रोज पुलिस द्वारा तलाश की जा रही है। जिससे मैं बहुत डरा हुआ हूं। हम लोगों द्वारा जो घटना की गई थी उसे लेकर बहुक आत्मग्लानि है। मैं खुद पुलिस के सामने हाजिर हो रहा हूं। मेरी जान की रक्षा की जाए। मुझ पर रहम किया जाए। 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Vikas Dubey case UmaKant shukla revealed plan to burn bodies of five sipahi in toilet kanpur encounter surender chaubeypur police