DA Image
23 जुलाई, 2020|9:43|IST

अगली स्टोरी

विकास दुबे केस : नाबालिग नहीं था मुठभेड़ में मारा गया प्रभात, पुलिस जांच में खुलासा 

कानपुर केस में पुलिस मुठभेड़ में मारा गया विकास दुबे का साथी प्रभात मिश्रा उर्फ कार्तिकेय नाबालिग नहीं था। पुलिस की जांच में खुलासा हुआ है कि वह बालिग था। प्रभात के कई सरकारी दस्तावेज मिले हैं, जिनमें उसने अलग नाम और अलग जन्मतिथि का प्रयोग किया था। अधिकारियों के मुताबिक इन सभी दस्तावेजों को विवेचना में शामिल किया जाएगा।

मुठभेड़ के बाद प्रभात की दसवीं कक्षा की मार्कशीट सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी। इसमें उसकी जन्मतिथि सन 2004 की लिखी हुई थी। उसके अनुसार प्रभात की उम्र मुठभेड़ के दौरान 16 साल थी। पुलिस ने जांच शुरू की तो आजाद मेमोरियल इंटर कॉलेज से बनवाई गई टीसी निकलवाई। इसमें उसकी जन्मतिथि 2004 दर्ज मिली। पुलिस ने इस पर स्कूल प्रबंधन से पूछताछ की। स्कूल प्रबंधन ने पुलिस को लिखित जानकारी दी है कि टीसी फर्जी है और उनके यहां से जारी नहीं की गई है।  इसके बाद पुलिस ने बिकरू स्थित प्राइमरी स्कूल के दस्तावेजों की जांच की। इसमें भी प्रभात ने शुरुआती पढ़ाई की थी। प्राइमरी स्कूल के रजिस्टर में प्रभात की जन्मतिथि 17 अगस्त 2000 लिखी हुई है। पुलिस को यह भी पता चला कि आजाद मेमोरियल स्कूल के नाम से बनाई गई टीसी का इस्तेमाल कर उसने पारितोष इंटर कॉलेज नौबस्ता से हाईस्कूल की पढ़ाई की। इसके अलावा इसी टीसी से उसने शिवराजपुर के कॉलेज में दाखिला ले लिया। साथ ही उसने शिवली में एक कॉलेज में दाखिला लिया। दोनों जगहों पर उसने फर्जी टीसी का प्रयोग किया। 

हर आइडेंटिटी में अलग नाम 
प्रभात के पिता राजेन्द्र के नाम से बने राशन कार्ड में उसकी उम्र चार साल दर्शाई गई है और इसमें नाम शानू लिखा है। इसी तरह वोटर कार्ड में नाम प्रभात लिखा है और ड्राइविंग लाइसेंस में नाम कार्तिकेय लिखा हुआ है। 

संतोष सिंह, सीओ बिल्हौर ने बताया कि प्रभात नाबालिग नहीं था। प्राइमरी स्कूल के प्रपत्र से यह साफ हो चुका है। उसने फर्जी टीसी बनवाई है। यह बात स्कूल प्रबंधन ने स्वीकार कर ली है। लिहाजा प्रभात बालिग था। इन सभी प्रपत्रों को विवेचना में शामिल किया जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Vikas Dubey case Prabhat was killed in an encounter not a minor college management told fake TC 2000 birth year recorded in primary school