ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशवाराणसी-रांची-कोलकाता एक्सप्रेस-वे से 6 घंटे बचेंगे समय, सिर्फ 9 घंटे की होगी यात्रा

वाराणसी-रांची-कोलकाता एक्सप्रेस-वे से 6 घंटे बचेंगे समय, सिर्फ 9 घंटे की होगी यात्रा

वाराणसी-रांची-कोलकाता एक्सप्रेस-वे से 6 घंटे समय बचेंगे। परियोजना पूरी होने के बाद वाराणसी से कोलकाता की दूरी नौ घंटों में पूरी की जा सकेगी। अभी यह दूरी तय करने में 15 घंटे लगते हैं।

वाराणसी-रांची-कोलकाता एक्सप्रेस-वे से 6 घंटे बचेंगे समय, सिर्फ 9 घंटे की होगी यात्रा
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,वाराणसीThu, 29 Feb 2024 10:30 AM
ऐप पर पढ़ें

वाराणसी-रांची-कोलकाता एक्सप्रेसवे निर्माण हो जाने से यात्रियों का सफर आसान हो जाएगा और कम समय में यात्रा पूरी कर सकेंगे। इस पर भूमि अधिग्रहण समेत पूरी लागत 1317 करोड़ रुपये आएगी। परियोजना पूरी होने के बाद वाराणसी से कोलकाता की दूरी नौ घंटों में पूरी की जा सकेगी। अभी यह दूरी तय करने में 15 घंटे लगते हैं। अधिकारियों के अनुसार यह राजमार्ग देश के विभिन्न प्राचीन और पवित्र शहरों को एक साथ जोड़ेगा। राजमार्ग में 27 किमी सड़क हरित क्षेत्र होगा। इसके बनने से लाजिस्टिक लागत में कमी आएगी, औद्योगिक गतिविधियों को भी बढ़ावा मिलेगा। इस पथ के निर्माण होने से यूपी, बिहार, झारखंड और बंगाल के बीच कनेक्टिविटी होगी। यूपी के चंदौली जिले के साथ-साथ औरंगाबाद, कैमूर, रोहतास, रांची, बोकारो, पुरुलिया को अच्छी कनेक्टिविटी मिलेगी। यह सड़क कैमूर-रोहतास के दक्षिणवर्ती इलाकों से गुजरेगी।

610 किमी लंबा होगा 6 लेन एक्सप्रेसवे
6 लेन वाराणसी-कोलकाता एक्सप्रेसवे NH319B का नाम जाना जाएगा। यह एक्सप्रेसवे करीब 610 किमी. लंबा होगा। यह एक्सप्रेसवे वाराणासी से शुरू होगा जो यूपी (उत्तर प्रदेश) के चौदाली की सीमा पर चांद में बिहार में एंट्री करेगा। यूपी से आने वाली गंगा एक्सप्रेस-वे चांद की सीमा शहबाजपुर सीमा से प्रवेश करेगी। फिर चैनपुर, भगवानपुर, भभुआ से होते हुए रामपुर के रास्ते रोहतास जिले के चेनारी में प्रवेश करेगी। रामपुर प्रखंड के निसिझा, इटवा, अकोढ़ी, बसिनी, गंगापुर, चमरियांव, दुबौली, पसाईं, बसुहारी, सोनारा, पछहरा, ठकुरहट, सबार आदि गांवों के अलावा जिले के 93 मौजा से एक्सप्रेस-वे गुजरेगी। कैमूर से होकर गुजरने वाली वाराणसी रांची कोलकाता एक्सप्रेस-वे के निर्माण कार्य की मॉनिटरिंग एनएचएआई टीम करेगी।

एक्सप्रेस-वे से कई तरह के लाभ मिलेंगे

भारत माला परियोजना से निर्माण होने वाली बनारस-रांची-कोलकाता एक्सप्रेस-वे से कई तरह के लाभ मिलेंगे। इस पथ में पेट्रोल पंप, होटल, ढाबा, वाहन स्टॉप के पास दुकानें आदि खुल सकती हैं, जिससे स्थानीय लोगों को लाभ मिलेगा। इसके अलावा जिस इलाके से एक्सप्रेस-वे का निर्माण होगा, उसके आसपास की जमीन की कीमत बढ़ जाएगी, जिससे किसानों को लाभ होगा। उन्हें व्यवसाइक दर मिल सकती है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें