DA Image
26 अक्तूबर, 2020|7:35|IST

अगली स्टोरी

आधुनिक सुविधाओं से लैस तेजस पर भारी वंदेभारत एक्सप्रेस, खूब मिल रही सवारियां

                                         vs

देश की पहली कॉरपोरेट ट्रेन तेजस आधुनिक सुविधाओं से भले ही लैस है पर यात्रियों के मामले में वंदेभारत एक्सप्रेस (टी-18) को नहीं पछाड़ पा रही है। वंदेभारत की यात्री क्षमता तेजस से सवा गुना है। अक्तूबर और नवंबर में तेजस में औसतन लोड लगभग 68-70 फीसदी (त्योहारी सीजन के बावजूद), वहीं वंदेभारत में औसतन लोड 80-100 फीसदी है।

तेजस में रोजाना 500-550 यात्री जाते हैं और उतने ही आते हैं, जबकि क्षमता 750 की है। इसके इतर वंदेभारत, कानपुर शताब्दी और स्वर्ण शताब्दी में औसतन रोजाना 1600 से 2400 यात्री हर ट्रेन से जाते हैं। रेलवे अधिकारियों का दावा करते हैं कि भारतीय रेल की सुरक्षा, संरक्षा और समय पालन सही होने से उसके प्रति लोगों का विश्वास कायम है।

आईआरसीटीसी के मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधक अश्वनी श्रीवास्तव का कहना है दिल्ली से लखनऊ वाया कानपुर चल रही तेजस तय समय पर आ-जा रही है। इतने दिनों में केवल एक दिन लेट हुई तो आईआरसीटीसी ने मुआवजा दिया। यह विश्वास है कि एक साल पूरा होते ही यह ट्रेन अन्य की तरह फुल होकर चलेगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Vande Bharat Express is better than Tejas express