ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशआंबेडकर बोर्ड पर बवालः फायरिंग में दलित छात्र की मौत पर गरमाई सियासत, चंद्रशेखर आजाद की पुलिस से झड़प

आंबेडकर बोर्ड पर बवालः फायरिंग में दलित छात्र की मौत पर गरमाई सियासत, चंद्रशेखर आजाद की पुलिस से झड़प

रामपुर जा रहे भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर के काफिले को सीओ ने पुलिस फोर्स के साथ ओवरटेक कर रोक दिया। जिस पर उन्होंने सीओ को जमकर खरी-खोटी सुनाई। बाद में पुलिस उनको घेराबंदी कर PDW के गेस्ट हाउस ले गई।

आंबेडकर बोर्ड पर बवालः फायरिंग में दलित छात्र की मौत पर गरमाई सियासत, चंद्रशेखर आजाद की पुलिस से झड़प
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,रामपुरWed, 28 Feb 2024 10:07 PM
ऐप पर पढ़ें

डॉ. बर्क के जनाजे में शामिल होने के बाद बुधवार सुबह रामपुर जा रहे भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर के काफिले को सीओ असमोली ने पुलिस फोर्स के साथ ओवरटेक कर रोक दिया। जिस पर उन्होंने सीओ को जमकर खरी-खोटी सुनाई। बाद में पुलिस उनको घेराबंदी कर पीडब्ल्यूडी के गेस्ट हाउस ले गई। यहां उनको तीन घंटे तक नजरबंद रखा गया। बाद में उनको दोपहर बाद रामपुर जाने दिया गया। इस दौरान उनके समर्थकों ने गेस्ट हाउस के बाहर जमकर नारेबाजी की।

चंद्रशेखर बुधवार सुबह सपा सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क के जनाजे में शामिल हुए। उसके बाद वह रामपुर में आंबेडकर का बोर्ड लगाने पर हुई पुलिस की फायरिंग में मरने वाले छात्र के परिजनों से मिलने जा रहे थे। पुलिस अफसरों को चंद्रशेखर के रामपुर जाने की जानकारी हुई, तो उन्होंने चंद्रशेखर को रोकने के लिए पुलिस को सक्रिय कर दिया। चंद्रशेखर का काफिला जब मोहल्ला हिंदूपुरा खेड़ा से चौधरी सराय की तरफ चला, तो सीओ असमोली संतोष कुमार चंदेल ने पुलिस फोर्स को लेकर काफिले का पीछा किया और ओवरटेक कर उनके काफिले को चौधरी सराय पुलिस चौकी पर रोक लिया। जिस पर सीओ को चंद्रशेखर ने खरीखोटी सुनाई। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। पुलिस व अफसर चौधरी सराय से चंद्रशेखर के काफिले को गेस्ट हाउस ले गए और वहां तीन घंटे तक नजरबंद रखा। दोपहर बाद उन्हें रामपुर जाने दिया गया।

पुलिस ने जानबूझकर की दलित छात्र की हत्या

रामपुर में आंबेडकर का बोर्ड और अवैध कब्जा हटवाने को लेकर हुए बवाल और फायरिंग में छात्र की मौत के बाद बुधवार को भीम आर्मी के अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद पीड़ित परिवार के घर पहुंचे। उन्होंने परिजनों को संत्वना देने के साथ ही उनको आर्थिक मदद और नौकरी के साथ दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की। इसके अलावा उन्होंने पुलिस पर जानबूझकर दलित छात्र की हत्या का आरोप लगाया।  

आजाद समाज पार्टी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने दलित छात्र की हत्या पर प्रदेश सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि गांव में हमारे भाई सोमेश की पुलिस ने जानबूझकर गोली मारकर हत्या की है। दो लोग गोली लगने से घायल है। जिसमें एक साथी को दोनों पैरों में गोली लगी है। उनका इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है और शासन प्रशासन उसके मरने का इंतजार कर रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि वह युवक घटना का आई विटनेस है और अगर वह जीवित रहेगा तो पूरी घटना को कोर्ट के सामने बताएगा। प्रशासन ने एफआईआर के नाम पर खेल किया है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें