ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी विधानसभा में डेंगू व धान खरीद के सवाल पर हंगामा, अखिलेश यादव और सुरेश खन्ना की नोकझोंक

यूपी विधानसभा में डेंगू व धान खरीद के सवाल पर हंगामा, अखिलेश यादव और सुरेश खन्ना की नोकझोंक

यूपी विधानसभा में शीत कालीन शत्र के दूसरे दिन बुधवार को डेंगू और धान खरीद के सवाल पर हंगामा हुआ। अखिलेश यादव ने सरकार को घेरा। अखिलेश और सुरेश खन्ना में नोकझोंक हो गई।

यूपी विधानसभा में डेंगू व धान खरीद के सवाल पर हंगामा, अखिलेश यादव और सुरेश खन्ना की नोकझोंक
Deep Pandeyलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊWed, 29 Nov 2023 02:38 PM
ऐप पर पढ़ें

लखनऊ। विशेष संवाददाता। यूपी विधानसभा में आज  डेंगू व धान खरीद के सवाल पर खासा हंगामा हुआ। सदन शुरू होते ही सपा सदस्य बैनर लहराते हुए वेल में आ गए। इसको लेकर नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव व संसदीय कार्यमंत्री सुरेश खन्ना के बीच नोकझोंक भी हुई। नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव ने कार्यवाही के दूसरे दिन यूपी में डेंगू बीमारी से लोगों को हुई मौतों पर योगी सरकार का घेरा। उन्होंने कहा कि यूपी की स्वास्थ्य सेवाएं ऐसी बेहाल हो गई हैं, डेंगू छोड़िये सामान्य बीमारियों का इजाल सरकारी अस्पताल में नहीं है। यूपी में लोगों डेंगू जैसी सामान्य बीमारी से मर रहे हैं, इस डबल इंजन सरकार के पास इसलिए कोई व्यवस्था नहीं है,  बल्कि सपना 1 टिलियन डॉलर इकॉनोमिक करने का देखा जा रहा है।

विधानसभा में सीएम योगी का विपक्ष को करारा जवाब, अखिलेश यादव पर किया पलटवार

अखिलेश यादव सरकार पर हमला करते हुए कहा कि यूपी के सरकारी अस्पतालों के हालात इतने खराब हो गए हैं कि मरीजों को स्ट्रेचर नहीं मिल रहे हैं। अखिलेश यादव ने कहा कि डेंगू की वजह से जो लोगों की जाने गई हैं, उसकी जिम्मेदारी कौन लेगा। सरकार बताए कि यूपी में सावस्थ्य व्यवस्था ठीक होगी या नहीं। मेडिकल कॉलेज ठप पड़े हुए हैं। नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव ने सरकार के पूछा कि क्या गेहूं सरकार ने खरीदा या निजी कंपनियों ने खरीदा? मैं कहना चाहता हूं कि खेती के उपकरणों पर जीएसटी 12%-18%। क्या यह डबल इंजन की सरकारी किसानों की मदद के लिए जीएसटी कम करेगी? इसके पहले विधानसभा परिसर में सपा विधायकों ने प्रदर्शन किया। विधायक विभिन्‍न मुद्दों से संबन्धित तख्तियां लेकर विधानसभा पहुंचे थे।

आपको बता दें कि शीतकालीन सत्र शुरू होने पहले से भी समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने किसानों, आरक्षण और राज्य में शिक्षा की कथित खराब स्थिति के मुद्दों को लेकर योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार पर निशाना साधा था। सत्र से पहले पत्रकारों से बात करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार विरोध का सामना नहीं करना चाहती है। हम विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की मांग कर रहे हैं लेकिन वे न तो कुछ सुनना चाहते हैं और न ही कोई जवाब देना चाहते हैं। अखिलेश यादव ने अस्पतालों में चिकित्सा सुविधाओं की कमी को लेकर भी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कि चिकित्सा बुनियादी ढांचा पूरी तरह से जर्जर है।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें