ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशयोगी सरकार का फैसला, आजमगढ़ में फॉरेंसिक लैब और हाथरस में बनेगी नई जिला जेल

योगी सरकार का फैसला, आजमगढ़ में फॉरेंसिक लैब और हाथरस में बनेगी नई जिला जेल

यूपी में सीएम योगी आदित्यनाथ की सरकार ने फैसला लिया है कि आजमगढ़ में फॉरेंसिक लैब व हाथरस में नई जिला जेल बनेगी। फॉरेंसिक लैब पर लगभग 39 करोड़ व जेल पर 146 करोड़ रुपये का खर्च आना है।

योगी सरकार का फैसला, आजमगढ़ में फॉरेंसिक लैब और हाथरस में बनेगी नई जिला जेल
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,लखनऊMon, 17 Jun 2024 06:51 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तर प्रदेश सरकार ने आजमगढ़ में फॉरेंसिक लैब तथा हाथरस में नई जिला जेल के निर्माण की मंजूरी देते हुए उसे तय समय में पूरा कराने का निर्देश दिया है। फॉरेंसिक लैब के निर्माण पर 39 करोड़ रुपये तथा जिला जेल के निर्माण पर 146 करोड़ रुपये खर्च होंगे। दोनों कार्यों को पूर्ण गुणवत्ता के साथ पूरा कराने के लिए उच्च स्तर से निगरानी की जाएगी। योजना विभाग की टेक्निकल सेल द्वारा इन कार्यों को पूरा करने के लिए प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कन्सलटेंट (पीएमसी) एजेंसी के निर्धारण के प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। यह उनकी प्रगति की निगरानी करेगी ताकि 18 महीनों के अंदर काम पूरा हो।

परियोजना के तहत होने वाले सभी निर्माण कार्य इंजीनियरिंग, प्रोक्योरमेंट व कंस्ट्रक्शन (ईपीसी) माध्यम से पूर्ण किए जा रहे हैं। इसके लिए रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल (आरपीएफ) के जरिए आवेदन मांगे गए हैं। दोनों ही परियोजनाओं के लिए नियुक्त होने वाली पीएमसी एजेंसी को आजमगढ़ में निर्माणाधीन फॉरेंसिक लैब के निर्माण संबंधी आर्किटेक्चरल डिजाइन को कार्यावंटन के बाद 75 दिनों में पूरा करना होगा। आर्किटेक्चरल डिजाइन के पूरा हो जाने के बाद सभी निर्माण कार्यों को 18 महीने में पूरा करना होगा। हाथरस में निर्माणाधीन नवीन जिला जेल को भी 18 महीनों में पूरा करना होगा।

तीसरी बार पीएम बनने के बाद कल काशी आएंगे मोदी, केसरिया पगड़ी पहन सभा में पहुंचेंगे किसान

जानकारी के मुताबिक परियोजनाएं पर्यावरण मानकों के अनुपालन में कई जरूरी चीजें शामिल करेंगी। इसमें हरित भवन तकनीक, बेहतर वेंटिलेशन, जलवायु-अनुकूल वास्तुकला, खराब पानी का रीसाइकिल कर इस्तेमाल, जल संरक्षण और वर्षा जल संचयन शामिल हैं। दोनों परियोजनाओं को पूरा करने के लिए नियुक्त पीएमसी एजेंसी को कई महत्वपूर्ण कार्य पूरे करने होंगे। कहा गया है कि परियोजना की अवधि के लिए 36 महीने का समय निर्धारित किया गया है। पीएमसी एजेंसी को दोनों परियोजनाओं के तहत सभी निर्माण गतिविधियों की रिपोर्टिंग और निगरानी प्रक्रिया पूरी करनी होगी। कम रखरखाव लागत बनाए रखते हुए, यह हाई क्वालिटी हो और बिजली, मैकेनिकल और अन्य सेवाओं के एकीकृत डिजाइन पर भी काम करें।