ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशUP Weather: यूपी में मौसम का गजब हाल, बाराबंकी में लू से 27 मरे, 150 किमी दूर हमीरपुर में आंधी-बारिश का कहर

UP Weather: यूपी में मौसम का गजब हाल, बाराबंकी में लू से 27 मरे, 150 किमी दूर हमीरपुर में आंधी-बारिश का कहर

यूपी में मौसम का गजब हाल देखने को मिल रहा है। बुधवार को जहां एक तरफ भीषण गर्मी और लू से बाराबंकी में 24 घंटे में 27 लोगों की मौत हो गई। दूसरी तरफ हमीरपुर में आंधी के साथ झमाझम बारिश ने कहर ढा दिया है।

UP Weather: यूपी में मौसम का गजब हाल, बाराबंकी में लू से 27 मरे, 150 किमी दूर हमीरपुर में आंधी-बारिश का कहर
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,बाराबंकी हमीरपुरWed, 19 Jun 2024 08:34 PM
ऐप पर पढ़ें

UP Weather: यूपी में मौसम का गजब हाल देखने को मिल रहा है। बुधवार को जहां एक तरफ भीषण गर्मी और लू से बाराबंकी में 24 घंटे में 27 लोगों की मौत हो गई और 353 मरीज इलाज के लिए पहुंचे हैं। दूसरी तरफ बाराबंकी से 150 किलोमीटर दूर हमीरपुर में आंधी के साथ झमाझम बारिश ने कहर ढा दिया है। सैकड़ों पेड़ और पोल गिर गए।  50 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चलीं। कानपुर-सागर हाईवे पर पेड़ गिरने की वजह से लंबा जाम लग गया। झांसी में भी पौन घंटे की बारिश के बाद लोगों को गर्मी से राहत मिली है।

पहले बात बाराबंकी की करते हैं। यहां बीते 24 घंटे में 353 मरीज इलाज को पहुंचे। इसमें 173 को भर्ती किया गया वहीं इलाज के दौरान 27 लोगों की मौत हो गई। यह आंकड़ा सिर्फ एक जिला अस्पताल की इमरजेंसी का है। इस आंकड़े ने स्वास्थ्य महकमे को भी हिला दिया। 45 से 46 डिग्री तापमान के बीच उल्टी दस्त, बुखार की चपेट में आकर लोग बीमार हो रहे हैं। जिला अस्पताल अस्पताल की इमरजेंसी में बेड पर ही नहीं स्ट्रेचर पर दो-दो मरीज लेटे दिखे। बेड व स्ट्रेचर फुल होने पर व्हील चेयर पर बैठाकर मरीजों को आक्सीजन व ग्लूकोज चढ़ाया जा रहा था। 

जिला अस्पताल की 40 बेड की इमरजेंसी मरीजों से फुल है। बीते 24 घंटे में 353 मरीज इलाज कराने पहुंचे। इसमें से 173 मरीजों को भर्ती किया गया। ईएमओ डॉ. विनायक त्रिपाठी ने बताया कि इस समय 90 प्रतिशत मरीज गर्मी से परेशान होकर आ रहे हैं। बेड फुल होने के चलते मरीजों को बेंच व स्ट्रेचर पर मजबूरी में भर्ती कर किसी तरह इलाज कर उनकी जान बचाई जा रही है। बुधवार की सुबह आठ बजे ही इमरजेंसी में पैर रखने तक की जगह नहीं थी। गंभीर मरीज बेंच पर भर्ती थे, तो उल्टी दस्त वाले एक स्ट्रेचर पर दो-दो मरीज दिखे।

उधर, हमीरपुर में प्रचंड गर्मी और उमस की मार झेल रहे हमीरपुर के लोगों को बुधवार को झमाझम बारिश से राहत मिली पर तेज आंधी ने तबाही मचा दी। 50 किलोमीटर की रफ्तार से चली हवाओं से सैकड़ों पेड़ और खंभे धराशायी हो गए। बिजली की लाइनें क्षतिग्रस्त हो गईं। ज्यादातर कस्बों और गांवों की बिजली गुल हो गई। झांसी में भी शाम को पौन घंटे तक हुई बारिश से लोगों को राहत नसीब हुई। 

आंधी से सबसे ज्यादा नुकसान भरुआ सुमेरपुर में हुआ। बुधवार शाम चार बजे अचानक मौसम बदला और काले-घने बादलों के साथ आंधी शुरू हो गई। कुछेछा से लेकर सुमेरपुर तक आंधी चलने से बड़ी संख्या में पेड़ उखड़ गए। इससे कानपुर-सागर हाईवे सहित कई मार्गों पर यातायात ठप हो गया। खंभे व तार टूट जाने से मुख्यालय सहित पौथिया, चंदौखी, पंप कैनाल सहित कई फीडरों की बिजली आपूर्ति ठप हो गई।

घरों के टिनशेड और छप्पर उड़ गए। जेई अनिल कुमार के मुताबिक फीडर चालू करने के लिए पेट्रोलिंग की जा रही है। एसडीओ एसपी मिश्रा ने बताया कि आंधी की वजह से सब स्टेशनों की आपूर्ति ठप हो गई है। बिजली कर्मियों को लाइनें दुरुस्त करने के लिए भेजा जा रहा है। एक्सईएन अनिल आहूजा के मुताबिक काफी नुकसान की संभावना है।