ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशUP Weather: यूपी में मानसून को लेकर वैज्ञानिकों ने अब डराया, इस वजह से ठिठकने की जताई आशंका

UP Weather: यूपी में मानसून को लेकर वैज्ञानिकों ने अब डराया, इस वजह से ठिठकने की जताई आशंका

यूपी में मानसून को लेकर अब मौसम विभाग ने डराया है। मरुस्थल से आ रहीं गर्म हवाओं से उत्तर प्रदेश के ज्यादातर जिले रेड या ऑरेंज जोन में चले गए हैं। इससे मानसून के प्रभावित होने की आशंका हो गई है।

UP Weather: यूपी में मानसून को लेकर वैज्ञानिकों ने अब डराया, इस वजह से ठिठकने की जताई आशंका
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,कानपुरSat, 15 Jun 2024 08:49 PM
ऐप पर पढ़ें

UP Weather: भीषण गर्मी से तड़प रहे यूपी के लोग बारिश का इंतजार कर रहे हैं। यह इंतजार लंबा होने की आशंका हो गई है। यूपी में मानसून को लेकर मौसम विभाग ने डराया है। मरुस्थल से आ रहीं गर्म हवाओं से उत्तर प्रदेश के ज्यादातर जिले रेड या ऑरेंज जोन में चले गए हैं। जून की शुरुआत से अब तक लगातार यही स्थिति बनी हुई है। वैज्ञानिकों के अनुसार रेड अलर्ट डेज से इस बार मानसून ठिठक सकता है। दक्षिण-पश्चिमी मानसून में देरी होने लगी है। अब तक इसे बिहार पहुंच जाना चाहिए था पर ताजा रिपोर्ट के अनुसार बिहार के कुछ हिस्सों में मानसून अगले तीन से चार दिनों में पहुंचने की संभावना है। बशर्ते उत्तर प्रदेश और इसकी निचली पट्टी में लू का प्रकोप कम हो जाए। यदि लू का प्रकोप बना रहता है तो मानसून आगे बढ़ने के बजाए पीछे हट जाएगा। उत्तर प्रदेश में रेड अलर्ट डेज लगातार चल रहे हैं और इसके 22 जून तक चलने की संभावना है।

मौसम विभाग का कहना है कि पूर्वी हवाओं पर उत्तर-पश्चिमी हवाएं लगातार भारी पड़ रही हैं। दशकों बाद ऐसी स्थितियां बनी हैं, जब 14 मई से अब तक लगातार राजस्थान से गर्म हवाएं आ रही हैं और यह निचली पट्टी तक पहुंच रही हैं। चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय (सीएसए) के मौसम विभाग के अनुसार, मानसून समय से तब ही आ सकता है जब उत्तर-पश्चिमी हवाएं कमजोर हो जाएं या पूर्वी हवाएं सशक्त हो जाएं। ऐसी स्थितियां नहीं बन पा रही हैं।

मई-जून के तापमान 45 या इससे अधिक की फ्रीक्वेंसी अधिक रही है। लगातार गर्म हवाओं की स्ट्रीम सशक्त बनी हुई है। यह उड़ीसा व आसपास के राज्यों तक जा रही है। सीएसए के मौसम विज्ञानी डॉ. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि जून में 80 प्रतिशत दिन रेड अलर्ट में रहे हैं। मई में 45 फीसदी दिन रेड और ऑरेंज श्रेणी में रहे हैं। 26 जून तक मानसून आने की संभावना थी लेकिन लगातार बढ़ते रेड अलर्ट डेज के कारण अब मानसून ठिठक सा गया है। इसके 26 के बाद ही आने की संभावना दिख रही है। उत्तर-पश्चिमी हवाएं अभी कमजोर होती नहीं दिख रही हैं।

Advertisement