ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशUP Weather: पूर्वी यूपी में आंधी के साथ बारिश, पश्चिमी में थोड़ा इंतजार, जानिए क्या है मानसून का अपडेट

UP Weather: पूर्वी यूपी में आंधी के साथ बारिश, पश्चिमी में थोड़ा इंतजार, जानिए क्या है मानसून का अपडेट

पूर्वी यूपी में लू का कहर अब नहीं होने वाला है। कई इलाकों में आंधी के साथ बारिश हो सकती है। हालांकि पश्चिमी यूपी में अभी कम से कम तीन दिन लू और गर्मी का रेड अलर्ट जारी रहेगा। इसके बाद राहत मिलेगी।

UP Weather: पूर्वी यूपी में आंधी के साथ बारिश, पश्चिमी में थोड़ा इंतजार, जानिए क्या है मानसून का अपडेट
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊ वाराणसीWed, 19 Jun 2024 11:21 PM
ऐप पर पढ़ें

UP Weather: पूर्वी यूपी में लू का कहर अब नहीं होने वाला है। कई इलाकों में आंधी के साथ बारिश हो सकती है। हालांकि पश्चिमी यूपी में अभी कम से कम तीन दिन लू और गर्मी का रेड अलर्ट जारी रहेगा। मौसम विभाग के अनुसार यूपी में 20 जून को मानसून के आगमन की तारीख मानी जाती हैं। कल 20 जून है लेकिन मानसून नहीं आ सका है। इस साल अभी तक कहा जा रहा था कि 18 जून तक मानसून आ सकता था लेकिन यह अटक गया है। बिहार और झारखंड में मानसून आने के दो दिन बाद यहां आने की संभावना रहती है। बिहार में 22 जून को मानसून आने के आसार बन गए हैं। ऐसे में 24 जून को यूपी की सीमा में बनारस या गोरखपुर से मानसून का प्रवेश हो सकता है। 

आंचलिक मौसम विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक अतुल कुमार सिंह के अनुसार 21 जून के बाद पूर्वी उत्तर प्रदेश से ग्रीष्म लहर खत्म होने के आसार बन रहे हैं मगर पश्चिमी यूपी में तापमान में बढ़ोत्तरी के साथ लू और तपन का सिलसिला जारी रहेगा। फिलहाल पिछले साल की ही इस साल भी दक्षिणी-पश्चिमी मानसून उत्तर प्रदेश में समय से दाखिल नहीं हो सका। प्रदेश में मानूसन बिहार के रास्ते गोरखपुर या वाराणसी से दाखिल होने की सामान्य तारीख 20 जून है। 

गुरुवार 20 जून को भी गर्मी का रेड अलर्ट जारी रहेगा। प्रदेश में कुछ स्थानों पर भीषण लू का प्रकोप जारी रहने के आसार हैं। इसके साथ ही राज्य के अलग-अलग स्थानों पर गरज-चमक के साथ आंधी चलने और बौछारें पड़ने की उम्मीद जतायी गयी है। 21 से 23 जून के बीच पश्चिमी यूपी में लू व तपन का प्रकोप जारी रहने और पूर्वी यूपी में ग्रीष्म लहर खत्म होने के बाद आंधी-बारिश के आसार हैं। 24-25 जून को राजधानी लखनऊ समेत पूरे प्रदेश में बारिश होने या गरज चमक के साथ बौछारें पड़ने की उम्मीद है। यह भी अनुमान है कि तब तक प्रदेश में मानसून का आगमन हो जाएगा। बुधवार को प्रयागराज के आसमान में हल्के बादल छाए रहे लेकिन उनका जोर नहीं बना। बनारस समेत पूर्वांचल में कुछ जिलों में बुधवार रात बारिश के बाद लोगों को गर्मी से थोड़ी राहत मिली।

बिहार में मानसून के प्रसार की राह बन रही है 
मौसमविदों का कहना है कि पिछले 18 दिनों से पश्चिम बंगाल और बिहार की सीमा पर इस्लामपुर में अटके मानसून के करंट के प्रसार की परिस्थतियां अब तेजी से तैयार होने लगी हैं। इसके मुताबिक 21 से 22 जून तक बिहार में किशनगंज और पूर्णिया के रास्ते मानसून की दस्तक हो सकती है। मानसून के आगमन के साथ ही तापमान में तेजी से गिरावट आएगी। पटना सहित कई जिलों में अधिकतम और न्यूनतम तापमान में दो दिन बाद चार डिग्री की कमी आ सकती है। इधर मानसून के आगमन की देरी से बिहार में 70 प्रतिशत तक बारिश की कमी हो गई है। 

बिहार में दो दिनों से हो रही बारिश
मानसून में कुछ देरी के बाद भी बिहार के कई जिलों में दो दिनों से बारिश हो रही है। बुधवार को किशनगंज के ठाकुरगंज में 201.6 मिमी, पोठही में 192.4 मिमी, टेढ़ागाछ में 185.8 मिमी, बहादुरगंज में 104.2 मिमी, किशनगंज में 103 मिमी, दिघलबैंक में 102.4 मिमी, चारघरिया में 70 मिमी, कोचाधामन में 62.8 मिमी, अररिया के फारबिसगंज में 47.4 मिमी, अररिया के सिकटी में 46.2 मिमी, जोकीहाट में 44.2 मिमी, पलासी में 28.4 मिमी, नरपतगंज में 25 मिमी, किशनगंज के गलगलिया में 20.2 मिमी, रोहतास के विक्रमगंज में  18 मिमी, दिनारा में 16.2 मिमी, सुपौल के बीरपुर में 14.8 मिमी, अररिया में 11.2 मिमी और भीमनगर में 9.2 मिमी बारिश हुई।