ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशUP Weather: यूपी में पचासों साल पुराने रिकॉर्ड तोड़ रही गर्मी, मौतों का सिलसिला जारी; 89 और लोगों ने दम तोड़ा

UP Weather: यूपी में पचासों साल पुराने रिकॉर्ड तोड़ रही गर्मी, मौतों का सिलसिला जारी; 89 और लोगों ने दम तोड़ा

बढ़ती गर्मी के साथ चढ़ता पारा सिर्फ दिन ही नहीं बल्कि रात में भी पचासों साल पुराने रिकार्ड ध्वस्त कर रहा है। प्रचंड गर्मी और उसके चलते विभिन्न कारणों से बीमार पड़े लोगों की मौत का सिलसिला जारी है।

UP Weather: यूपी में पचासों साल पुराने रिकॉर्ड तोड़ रही गर्मी, मौतों का सिलसिला जारी; 89 और लोगों ने दम तोड़ा
Ajay Singhविशेष संवाददाता,लखनऊWed, 19 Jun 2024 08:55 AM
ऐप पर पढ़ें

UP Weather: बढ़ती गर्मी के साथ चढ़ता पारा सिर्फ दिन ही नहीं बल्कि रात में भी पचासों साल पुराने रिकार्ड ध्वस्त कर रहा है। इस बार की प्रचंड गर्मी और उसके चलते विभिन्न कारणों से बीमार पड़े लोगों की मौत का सिलसिला बराबर जारी है। बीते 24 घंटों में बुंदेलखंड और मध्य यूपी में 89 लोगों ने दम तोड़ दिया। प्रशासन ने किसी भी जिले में गर्मी से मौत की तस्दीक नहीं की है। माना जा रहा है कि मरने वालों में ज्यादातर बुजुर्ग या बीमार थे, जो तेज गर्मी बर्दाश्त नहीं कर सके।

फिलहाल बुधवार और गुरुवार को पूरे यूपी के लिए गर्मी का रेड अलर्ट है और फिर शुक्रवार व शनिवार के लिए ऑरेंज अलर्ट है। मौसम विभाग ने रविवार व सोमवार को अधिकांश स्थानों पर गरज-चमक के साथ बौछारें, बारिश और 30 से 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी चलने का अनुमान जताया है।

प्रदेश में लगातार तीसरे दिन सर्वाधिक 39 मौतें बुंदेलखंड में हुईं। इनमें बांदा में 11, चित्रकूट में 9, हमीरपुर में 8, महोबा में 6, उरई में 5 मौतें शामिल हैं। कानपुर में सिपाही समेत 22, कानपुर देहात और फतेहपुर में पांच-पांच, औरैया में एक मौत शामिल है। लखनऊ में गर्मी के चलते विभिन्न कारणों से 10 लोगों की मौत हुई है। गोरखपुर में चार लोगों की मौत की सूचना है। वहीं शिकोहाबाद रेलवे स्टेशन पर ट्रेन से सफर कर रहे पश्चिम बंगाल निवासी दो लोगों की अचानक जान चली गई। बरेली जिला अस्पताल की मोर्चरी में तैनात कर्मचारी की भी मौत हो गई।

लखनऊ में 36 साल बाद जून की रात सबसे गर्म
लखनऊ में जून की 36 साल बाद सबसे गर्म रात दर्ज की गई। सोमवार-मंगलवार की रात न्यूनतम तापमान 32.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह सामान्य से 5.6 डिग्री अधिक था। इसके पहले 1998 की आठ जून को भी 32.6 डिग्री तापमान रहा था। मंगलवार से पहले सोमवार को 46 डिग्री तापमान के साथ अधिकतम तापमान का 10 साल का रिकॉर्ड टूटा। इसके पहले 2014 की छह जून को अधिकतम पारा 46.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। 

दो दिनों से दिन में लोग बाहर निकलने से हिचक रहे हैं। मरुस्थली इलाकों से आ रही गर्म पछुआ हवा शरीर झुलसा रही है। ऊपर से धूप बर्दाश्त के बाहर हो रही है। मंगलवार को अधिकतम तापमान 45.3 डिग्री सेल्सियस रहा, जो सामान्य से 7.3 डिग्री अधिक रहा। मौसम विभाग के अनुसार अभी गर्मी का सितम तीन दिन और जारी रह सकता है। बुधवार को अधिकतम तापमान 44 और न्यूनतम 32 डिग्री के आसपास रह सकता है। इस गर्मी का कारण मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार अभी मानसून दूर है और प्रतिचक्रवाती स्थिति की वजह से भीषण तापिश के बावजूद बारिश के लिए अनुकूल हालात नहीं बन पा रहे हैं।

तीन दिन बाद राहत 
मौसम विभाग के अनुसार तीन दिन बाद 23 से 24 जून के आसपास मौसम में बदलाव की उम्मीद है। गर्म पछुआ फिलहाल कमजोर पड़ती नहीं दिख रही है।

सड़क किनारे बेसुध मिले अस्पताल में दम उखड़ा
लखनऊ की दुबग्गा मण्डी के पास 40 वर्षीय व्यक्ति का शव मिला। एसआई संतोष सिंह के मुताबिक युवक मण्डी में घूमता रहता था। हुसड़िया चौराहे के पास एक 40 वर्षीय युवक का शव मिला। शिनाख्त नहीं हो सकी। गोसाईंगंज मुकुंदखेड़ा निवासी सुमिरन का शव मंगलवार को नगरा के दादुरी जमालपुर में सड़क किनारे मिला। चिरैयाबाग में 45 वर्षीय, तेलीबाग शनि मंदिर के पास 60 वर्षीय, विकासनगर चौराहे के पास 45 वर्षीय व्यक्ति की मौत हुई। शिनाख्त का प्रयास पुलिस कर रही है।

हीटवेव से अचानक बिगड़ी तबीयत, दस ने दम तोड़ा
लखनऊ में 48 घंटे के भीतर अलग-अलग इलाकों में दस लोगों की मौत हुई। भीषण गर्मी के कारण मौत होने का अंदेशा है। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। शुरुआती जांच में लू के कारण मौत होने की बात सामने आई है।

पीजीआई वृंदावन सेक्टर-छह में साइकिल मिस्त्रत्त्ी राम किशोर (55) का शव बंधे किनारे पड़ा मिला। वह घर से काम के लिए निकले थे। इंस्पेक्टर पीजीआई के मुताबिक हीटवेव की वजह से राम किशोर की मौत होने का अंदेशा है। तीन मजदूर समेत चार ने दम तोड़ा मड़ियांव फैजुल्लागंज बंधे के पास सीतापुर रेउसा निवासी राम नरेश उर्फ नौमी लाल (55) का शव पड़ा मिला। भतीजे सुनील के मुताबिक राम नरेश रात में खाना खाने के बाद घर से निकले थे। वापस नहीं लौटने पर वह चाचा को तलाशते हुए बंधे के पास पहुंचा। जहां राम नरेश बेसुध मिले। अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने राम नरेश को मृत घोषित कर दिया। 

सुनील के मुताबिक गर्मी के कारण मौत होने का अंदेशा है। उधर, ठाकुरगंज घंटाघर पार्क की बेंच पर हुसैनाबाद निवासी मजदूर फिरोज (58) का शव पड़ा मिला। नक्खास स्थित सिलाई कारखाने जाते वक्त मलिहाबाद निवासी छोटेलाल (45) चक्कर खाकर गिर पड़े। इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई। ठाकुरगंज गउघाट के पास कार मैकेनिक साकेत (17) शाम को घूमने के बाद घर लौटा। तबीयत बिगड़ने पर पिता सिराज उसे इलाज के लिए बलरामपुर अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां उसने दम तोड़ दिया। अंदेशा है कि हीट स्ट्रोक के कारण साकेत की तबीयत बिगड़ी थी।