ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशUP Weather AQI Today: पछुआ बढ़ा रही ठंड, नोएडा की हवा फिर हुई बहुत खराब; जानें अपने शहर का हाल

UP Weather AQI Today: पछुआ बढ़ा रही ठंड, नोएडा की हवा फिर हुई बहुत खराब; जानें अपने शहर का हाल

UP Weather AQI Today: यूपी में पछुआ हवा से ठंड बढ़ रही है। आने वाले दिनों में ठंड और बढ़ेगी। नोएडा और आस-पास की हवा की गुणवत्ता बहुत खराब स्तर पर पहुंच गई है। जानें अपने शहर का एक्यूआई।

UP Weather AQI Today: पछुआ बढ़ा रही ठंड, नोएडा की हवा फिर हुई बहुत खराब; जानें अपने शहर का हाल
Srishti Kunjलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊThu, 30 Nov 2023 08:00 AM
ऐप पर पढ़ें

UP Weather AQI Today: यूपी में आने वाले दिनों में ठंड बढ़ने वाली है। हिमालय की ओर से आ रही पछुआ हवा के चलते आने वाले दिनों में ठंड बढ़ने का संकेत है। गुरुवार से अगले चार दिनों तक दिन और रात का तापमान में गिरावट होगी। रात का तापमान 13 डिग्री सेल्सियस से नीचे जाने का अनुमान है। चार किमी प्रति घंटे की रफ्तार से पछुआ हवा चल रही है। 24 घंटे में दिन के तापमान में कोई बदलाव तो नहीं हुआ लेकिन रात के तापमान में एक डिग्री की गिरावट हुई। मौसम विभाग की वेबसाइट के अनुसार लगातार रात के तापमान में गिरावट होगी। मौसम वैज्ञानिक प्रो. मनोज श्रीवास्तव ने कहा कि पछुआ हवा ठंड बढ़ा रही है।

प्रदूषण नहीं हो रहा कम
प्रदूषण का प्रकोप अब भी जारी है। हवा में प्रदूषण की मात्रा कम नहीं हो रही है। कई जिलों में एयर क्वालिटी इंडेक्स 200 से अधिक रिकार्ड किया गया। दीपावली के बाद से ही प्रदूषण में उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है। कई शहरों की हवा में कभी एयर क्वालिटी इंडेक्स 400 तक पहुंच जा रहा तो कभी हवा साफ हो रही है। एक बार फिर नोएडा और उसे सटे इलाकों की हवा में प्रदूषण का स्तर 300 से अधिक हो गया। दूसरी ओर, यूपी के ज्यादातर शहरों में एक्यूआई 200 के पार दर्ज किया गया है। 

मास्क लगाना बेहतर मरीज बरतें खास सावधानी
वरिष्ठ फिजिशियन डॉक्टर सुदीप सरन का कहना है कि हवा में प्रदूषण की मात्रा अधिक होने से कई तरह की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। खासतौर पर सांस, दमा या फेफड़े की बीमारी से ग्रसित मरीजों को विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। प्रदूषण अधिक होने पर सांस लेने में तकलीफ हो सकती है। सामान्य व्यक्ति भी प्रदूषण से बचने के लिए समुचित उपाय जरूर करें।

यहां देखें गुरुवार को सुबह छह बजे क्‍या रहा आपके शहर का एक्‍यूआई-

शहर स्थान AQI हवा कैसी है
आगरा मनोहरपुर 118 अच्छी नहीं है
  रोहता 94 ठीक है
  संजय पैलेस 107 अच्छी नहीं है
  आवास विकास कॉलोनी 113 अच्छी नहीं है
  शाहजहां गार्डेन 94 ठीक है
  शास्त्रीपुरम 163 अच्छी नहीं है
बागपत कलेक्टर ऑफिस डाटा नहीं है  
  सरदार पटेल इंटर कॉलेज 180 अच्छी नहीं है
बरेली सिविल लाइंस डाटा नहीं है  
  राजेंद्र नगर 147 अच्छी नहीं है
बुलंदशहर यमुनापुरम 284 खराब है
फिरोजाबाद नगला भाऊ 151 अच्छी नहीं है
  विभब नगर 158 अच्छी नहीं है
गाजियाबाद इंदिरापुरम 237 खराब है
  लोनी 359 बहुत खराब है
  संजय नगर 276 खराब है
  वसुंधरा 319 बहुत खराब है
गोरखपुर मदन मोहन मालवीय तकनीकी विश्वविद्यालय 130 अच्छी नहीं है
ग्रेटर नोएडा नॉलेज पार्क 3 297 खराब है
  नॉलेज पार्क 5 330 बहुत खराब है
हापुड़ आनंद विहार 253 खराब है
झांसी शिवाजी नगर 74 ठीक है
कानपुर किदवई नगर 135 अच्छी नहीं है
  आईआईटी 131 अच्छी नहीं है
  कल्याणपुर 139 अच्छी नहीं है
  नेहरू नगर डाटा नहीं है  
खुर्जा कालिंदी कुंज 112 अच्छी नहीं है
लखनऊ आंबेडकर यूनिवर्सिटी 179 अच्छी नहीं है
  सेंट्रल स्कूल 239 खराब है
  गोमती नगर 222 खराब है
  कुकरैल 164 अच्छी नहीं है
  लालबाग 324 बहुत खराब है
  तालकटोरा 324 बहुत खराब है
मेरठ गंगा नगर 281 खराब है
  जय भीम नगर 265 खराब है
  पल्लवपुरम 337 बहुत खराब है
मुरादाबाद बुद्धि विहार 164 अच्छी नहीं है
  इको हर्बल पार्क 197 अच्छी नहीं है
  रोजगार कार्यालय 188 अच्छी नहीं है
  जिगर कॉलोनी 124 अच्छी नहीं है
  कांशीराम नगर 207 खराब है
  लाजपत नगर डाटा नहीं है  
  ट्रांसपोर्ट नगर 185 अच्छी नहीं है
मुजफ्फरनगर नई मंडी 261 खराब है
नोएडा सेक्टर 125 312 बहुत खराब है
  सेक्टर 62 335 बहुत खराब है
  सेक्टर 1 314 बहुत खराब है
  सेक्टर 116 324 बहुत खराब है
प्रयागराज झूंसी 126 अच्छी नहीं है
  मोतीलाल नेहरू एनआईटी 124 अच्छी नहीं है
  नगर निगम 113 अच्छी नहीं है
वाराणसी अर्दली बाजार 81 ठीक है
  भेलपुर 81 ठीक है
  बीएचयू 67 ठीक है
  मलदहिया 108 अच्छी नहीं है
वृंदावन ओमेक्स इटर्निटी 110 अच्छी नहीं है
नोट- AQI के किस रेंज का आपके लिए क्या मतलब है नीचे का टेबल चेक कर लें
       
AQI का रेंज हवा का हाल स्वास्थ्य पर संभावित असर 
0-50 अच्छी है बहुत कम असर
51-100 ठीक है संवेदनशील लोगों को सांस की हल्की दिक्कत
101-200 अच्छी नहीं है फेफड़ा, दिल और अस्थमा मरीजों को सांस में दिक्कत
201-300 खराब है लंबे समय तक ऐसे वातावरण में रहने पर किसी को भी सांस में दिक्कत
301-400 बहुत खराब है लंबे समय तक ऐसे वातावरण में रहने पर सांस की बीमारी का खतरा
401-500 खतरनाक है स्वस्थ आदमी पर भी असर, पहले से बीमार हैं तो ज्यादा खतरा  
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें