ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशकोहरे में ट्रेन हादसे रोकने के किए इंतजाम, इस खास सेफ्टी डिवाइस करेगा मदद, पढ़ें कैसे

कोहरे में ट्रेन हादसे रोकने के किए इंतजाम, इस खास सेफ्टी डिवाइस करेगा मदद, पढ़ें कैसे

कोहरे में ट्रेनों की सुरक्षा के लिए एक डिवाइस भारतीय रेलवे को दिया गया है। जीपीएस आधारित डिवाइस घने कोहरे में भी सिग्नल की लोकेशन बताता है। कोहरे में ट्रेनों की न्यूनतम गति 50 किमी प्रति घंटा होती है।

कोहरे में ट्रेन हादसे रोकने के किए इंतजाम, इस खास सेफ्टी डिवाइस करेगा मदद, पढ़ें कैसे
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,वाराणसीSat, 25 Nov 2023 01:20 PM
ऐप पर पढ़ें

कोहरे (फॉग) में ट्रेनों के सुरक्षित परिचालन के लिए रेलवे ने अलर्ट जारी कर दिया है। कैंट, बनारस और वाराणसी सिटी से चलने वाली ट्रेनों के लोको पायलटों को फॉग सेफ्टी डिवाइस दी गई हैं। वहीं, अधिकारियों को नियमित फुट प्लेट इंस्पेक्शन (चलती ट्रेन में इंजन से निरीक्षण) के निर्देश भी दिए गए हैं। जीपीएस से जुड़ा फॉग सेफ्टी विशेष डिवाइस इंजन में लगाया जाता है। यह सिग्नल से काफी पहले उसकी लोकेशन बता देता है। तब दृश्यता कम होने पर ट्रेनों की गति पर नियंत्रण रखना और रेड सिग्नल होने पर आउटर पर गाड़ियों को रोकना सम्भव होता है।

उत्तर रेलवे (लखनऊ मंडल) के कैंट स्टेशन और पूर्वोत्तर रेलवे (वाराणसी मंडल) के 400 से ज्यादा लोको पायलटों को डिवाइस दिए गए हैं। गेटमैन, प्वाइंट मैन, ट्रैकमैन और स्टेशन मास्टरों को डेटोनेटर (पटाखा) दिए गए हैं, जो पटरियों पर लगाए जाएंगे। ट्रेन जब इनके ऊपर से गुजरेगी तो पटाखे की तरह आवाज होगी। इससे लोको पायलट को अलर्ट मिलता रहेगा। सतर्कता से जुड़ी यह कवायद 28 फरवरी तक चलेगी।

यूपी के इस शहर में तेंदुए के हमले से बचाएगी हाथी की लीद, गांव वाले उपले बनाने में लगाए

अधिकतम गति 75 किमी प्रति घंटा घने कोहरे में कई बार लोको पायलट सिग्नल नहीं देख पाते हैं। इससे दुर्घटना होने का खतरा रहता है। रेलवे के नियमों के अनुसार कोहरा पड़ने के दौरान ट्रेनों की अधिकतम गति 75 किलोमीटर प्रति घंटा और न्यूनतम 50 किलोमीटर प्रति घंटा तक होती है। वहीं, घने कोहरे से दृश्यता काफी कम होने पर चालक अपने हिसाब से ट्रेनें चलाते हैं।

रोडवेज ने बसों का सफर सुरक्षित बनाने को कसी कमर
रोडवेज बस चालकों को अतिरिक्त सावधानी बरतने के निर्देश दिए गए हैं। उन्हें अधिकतम 60 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से बस चलाने को कहा गया है। परिवहन निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक गौरव वर्मा ने बताया, कैंट-काशी, वाराणसी (ग्रामीण), चंदौली, जौनपुर, गाजीपुर, सोनभद्र व विंध्य नगर डिपो के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधकों को निर्देश दिए गए हैं कि 30 नवम्बर तक बसों में ऑल वेदर बल्ब (फॉग लाइट), वाइपर, इंडीकेटर व रिफ्लेक्टिव टेप की जांच करें। जिन बसों में इनकी कमी हो, उनमें तत्काल लगवाएं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें