ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशराम मंदिर उद्घाटन के इनवाइट में क्या लिखा है चंपत राय ने? पढ़ेंगे तो संघर्ष की याद आ जाएगी

राम मंदिर उद्घाटन के इनवाइट में क्या लिखा है चंपत राय ने? पढ़ेंगे तो संघर्ष की याद आ जाएगी

अयोध्या राम मंदिर उद्घाटन के निमंत्रण कार्ड बांटने शुरू हो चुके हैं। 7000 मेहमानों को इसके लिए कार्ड दिए जा रहे हैं। जानें इन कार्ड में क्या लिखा है चंपत राय ने? पढ़ेंगे तो संघर्ष की याद आ जाएगी।

राम मंदिर उद्घाटन के इनवाइट में क्या लिखा है चंपत राय ने? पढ़ेंगे तो संघर्ष की याद आ जाएगी
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,अयोध्याThu, 07 Dec 2023 10:40 AM
ऐप पर पढ़ें

पांच सौ सालों की प्रतीक्षा के बाद श्रीरामजन्म भूमि में निर्माणाधीन दिव्य मंदिर में रामलला के प्राण प्रतिष्ठा के गौरवशाली क्षणों के साक्षी बनने का सुअवसर सनातन धर्मियों संग कई अन्य सेलेब्रिटियों को होगा। श्रीरामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ने इसके लिए सभी को निमंत्रण भेजना शुरू कर दिया है। लगभद 7000 लोगों को निमंत्रण भेजे गए हैं। इन निमंत्रण कार्ड की एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस निमंत्रण कार्ड में लिखा है कि हमारी प्रबल इच्छा है कि आप इस शुभ अवसर पर अयोध्या में मौजूद रहकर अभिषेक के साक्षी बनें और इस महान ऐतिहासिक दिन की गरिमा को बढ़ाएं। 

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा के निमंत्रण कार्ड पर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के हस्ताक्षर हैं। इसमें लिखा है लंबे संघर्ष के बाद श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण कार्य प्रगति पर है। विक्रम संवत 2080, सोमवार 22 जनवरी 2024 को गर्भगृह में रामलला का अभिषेक किया जाएगा। हमारी प्रबल इच्छा है कि आप इस शुभ अवसर पर अयोध्या में मौजूद रहकर अभिषेक के साक्षी बनें और इस महान ऐतिहासिक दिन की गरिमा को बढ़ाएं। निमंत्रण पर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के हस्ताक्षर हैं। इसमें ये भी लिखा है कि जितनी जल्दी अयोध्या आएंगे, उतनी ही आपको सुविधा होगी. विलंब से आने पर परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

राम मंदिर उद्घाटन का आमंत्रण कार्ड ही काफी नहीं, एंट्री के लिए VVIP को भी करना होगा ये काम

क्यूआर कोड के जरिए जनरेट किया गया पास ही मान्य होगा
श्रीरामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र महासचिव चंपतराय का कहना है कि किसी तरह का आमंत्रण पत्र नहीं भेजा जा रहा बल्कि समाज के हर क्षेत्र के विशिष्ट जनों को पत्र भेजकर उनकी सहमति ली जा रही है। इनमें वह लोग हैं जिनकी सनातन धर्म और भगवान राम के प्रति आस्था है। उन्होंने कहा कि यह गणतंत्र दिवस की परेड नहीं है बल्कि धर्म कार्य है जिसमें आस्थावान व्यक्ति ही श्रद्धापूर्वक प्रतिभाग कर सकता है इसलिए ऐसी व्यवस्था की जा रही है। 

बताया गया कि आमन्त्रित अतिथियों को अपने आधार कार्ड के अलावा क्यू आर कोड के जरिए जनरेट किया गया पास ही मान्य होगा। श्रीरामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र की ओर से भेजी गयी पाती पर सहमति देने के बाद तीर्थ क्षेत्र द्वारा मोबाइल नंबर पर एक लिंक भेजा जाएगा। इस लिंक को क्लिक करने गूगल फार्म मिलेगा। इस फार्म में मांगी गयी सूचना भरकर सबमिट करने पर स्वत प्रवेश पास जनरेट हो जाएगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें