ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशदीवान के बेटे ने बनाई गैंग, स्कूल के दोस्तों संग की इतनी चोरी की खरीद ली पावर बाइक

दीवान के बेटे ने बनाई गैंग, स्कूल के दोस्तों संग की इतनी चोरी की खरीद ली पावर बाइक

प्रयागराज ने बाइक चोरी करने वाले गैंग को पकड़ा तो ये सभी हाईस्कूल व इंटरमीडिएट के छात्र निकले। इस गैंग का सरगना एक हेड कांस्टेबल का बेटा है। ये पावर बाइक खरीदने के लिए बाइक चोरी करते थे।

दीवान के बेटे ने बनाई गैंग, स्कूल के दोस्तों संग की इतनी चोरी की खरीद ली पावर बाइक
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजWed, 08 May 2024 09:39 AM
ऐप पर पढ़ें

प्रयागराज में एक दीवान के बेटे ने गैंग तैयार कर शातिर अंदाज में चोरियां शुरू कीं। इन चोरियों से छात्र अपने शौक पूरे कर रहे थे। इनमें बाइक चोरी करना और फिर नई बाइक खरीदना शामिल है। स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों की गैंग ने बाइक चोरी करके अपने लिए नई बाइक खरीदनी शुरू की। पुलिस ने गैंग को पकड़ा तो सिविल लाइंस और आजाद पार्क के पास से बाइक चोरी करने वाले हाईस्कूल व इंटरमीडिएट के छात्र निकले। इस गैंग का सरगना एक हेड कांस्टेबल का बेटा है। 

सिविल लाइंस पुलिस ने मंगलवार को बाइक चोरी के आरोप में तीन युवकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इनके पास से चोरी की तीन बाइक बरामद हुई है। पुलिस ने बताया कि बाइक चोरी करने वाले युवकों के बारे में मुखबिर से सूचना मिली थी। डीआरएम कार्यालय के आगे पुलिस ने करामत की चौकी निवासी मो. मुजाहिद, पीपल गांव के सिद्धार्थ सोनी और सिविल लाइंस के उत्कर्ष कुमार को चोरी की बाइक के साथ गिरफ्तार किया। उनकी निशानदेही पर चोरी की दो और बाइक बरामद की। पूछताछ में पता चला कि सिद्धार्थ के पिता हेड कांस्टेबल हैं। उनकी पहले प्रयागराज में ही तैनाती थी। 

बैंक कर्मचारियों ने ग्राहकों के लाखों रुपये उड़ाए, पूछताछ पर बोले- कर देंगे वापस और फिर किया ये काम

पुलिस को पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि उनके दोस्तों के पास रेसर और पॉवर बाइक है। कॉलेज में वे पॉवर बाइक लेकर आते थे। तीनों ने पॉवर बाइक खरीदने के लिए बाइक चोरी करनी शुरू की। एक बाइक आजाद पार्क के पास से चोरी कर ली। इसके बाद एक के बाद एक करके कई गाड़ियां चोरी की। खुसरोबाग के सामने से भी बाइक चोरी करने की कोशिश की थी। चोरी की बाइक पर नंबर प्लेट बदल कर चला रहे थे। पुलिस की जांच में इस फर्जीवाड़ा का खुलासा हुआ तो इनके खिलाफ कूटरचित की धाराएं बढ़ा दी गईं।