ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशप्रयागराज में गंगा स्नान करने पहुंचे श्रद्धालुओं पर आसमान से बरसाए फूल, मौनी अमावस्या पर उमड़ा जन सैलाब

प्रयागराज में गंगा स्नान करने पहुंचे श्रद्धालुओं पर आसमान से बरसाए फूल, मौनी अमावस्या पर उमड़ा जन सैलाब

यूपी के प्रयागराज में गंगा स्नान करने पहुंचे श्रद्धालुओं पर हेलीकॉप्टर की मदद से आसमान से फूलों की बारिश की गई। मौनी अमावस्य के मौके पर माघ मेला के लिए संगमनगरी में जन सैलाब उमड़ा है।

प्रयागराज में गंगा स्नान करने पहुंचे श्रद्धालुओं पर आसमान से बरसाए फूल, मौनी अमावस्या पर उमड़ा जन सैलाब
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजFri, 09 Feb 2024 11:56 AM
ऐप पर पढ़ें

मौनी अमावस्या के अवसर पर प्रयागराज आने वाले श्रद्धालुओं पर आज आकाश से फूलों की बारिश की गई। मेला क्षेत्र में श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़ को देखते हुए प्रयागराज मेला प्राधिकरण ने इसके इंतजाम किए थे। हालांकि अभी एक शिफ्ट की पुष्प वर्षा की गई है। पुष्पवर्षा दो शिफ्ट में कराने की तैयारी है। सुबह 10 बजे गंगा स्नान को पहुंचे श्रद्धालुओं पर आसमान से हेलीकॉप्टर से फूलों की बारिश हुई। दूसरी शिफ्ट में दोपहर 12 बजे से की जाएगी। हालांकि यह समय बढ़ सकता है। 

माघ मेले के सबसे प्रमुख पर्व मौनी अमावस्या पर त्रिवेणी स्नान के लिए श्रद्धालुओं का रेला गुरुवार सुबह से ही आना शुरू हो गया था। परेड मैदान, दारागंज गल्ला बाजार और नागवासुकि, मेला क्षेत्र को जोड़ने वाली हर सड़क पर सुबह से श्रद्धालुओं की भीड़ जमा रही। प्रशासनिक दावों की मानें तो गुरुवार तक 58 लाख श्रद्धालु संगम सहित प्रमुख गंगा घाटों पर स्नान कर चुके थे। इस बार संख्या अन्य किसी पर्व से ज्यादा दिखी। हालांकि मौनी अमावस्या का स्नान आज है। 

शुभ मुहूर्त सुबह लगभग सात बजे के आसपास शुरू हुआ। श्रद्धालु एक दिन पहले ही संगम किनारे आ गए थे। संत कबीर नगर, औरैया, इटावा, गोरखपुर, वाराणसी, आजमगढ़, चित्रकूट, बांदा, आगरा, मथुरा सहित प्रदेश के हर क्षेत्र से लोग गंगा स्नान करने प्रयागराज पहुंचे हैं। 

बाढ़ प्रभावितों लिए शरणालय बनाएंगी योगी सरकार, प्रस्ताव को मिली मंजूरी

शुभ मुहूर्त
उत्थान ज्योतिष संस्थान के निदेशक डॉ. पंदिवाकर त्रिपाठी पूर्वाचली के अनुसार तिथि शुक्रवार को सुबह 7:11 बजे शुरू हो गयी है। जो शनिवार को सुबह 5:06 बजे तक रहेगी। अमावस्या तिथि प्राप्त न होने के कारण शुक्रवार को पूरा दिन स्नान-दान, गोदान पुण्यकारी रहेगा। इस बार मौनी पर शश और रुचक नामक पच महापुरुष योग रहेगा। इस अवसर पर संगम में किया गया मौन स्नान-दान, जप, तप, ध्यान कई गुना फलदायी होता है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें