DA Image
21 नवंबर, 2020|8:14|IST

अगली स्टोरी

यूपी पंचायत चुनाव 2020 : लखनऊ में पुनर्गठन से खत्म हो गई कई ग्राम पंचायतें, जानिए कहां-कहां होगा ग्राम प्रधान का चुनाव

up panchayat elections 2020 reservation list gram pradhan bdc jila panchyat sadasy panchyat chunav a

यूपी में होने वाले पंचायत चुनाव की तैयारियां जोरों पर हैं। शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के बीच झूल रहे राजधानी लखनऊ के चार गांवों का भविष्य तय हो गया है। आंशिक रूप से बचे तीन गांवों की स्थित तो ग्राम पंचायत की रहेगी। जबकि मोहनलालगंज की एक पंचायत का अस्तित्व हमेशा के लिए समाप्त हो गया है। इस तरह लखनऊ का ग्रामीण क्षेत्र अब 494 ग्राम पंचायतों तक सिमट गया है।

शहरी सीमा के विस्तार में राजधानी की 75 ग्राम पंचायतें पूरी तरह से नगर निगम और नगर पंचायत की सीमा में आ गई थी। लेकिन चार पंचायतें आंशिक रूप से शहरी सीमा में शामिल हुई। इस तरह बचे हुआ राजस्व गांव में सरोजनीनगर की कमलापुर और समदाखेड़ा और मोहनलालगंज ब्लाक की इंद्रजीतखेड़ा और डलौना अधर में अटक गए। शासनादेश के बाद अब प्रशासन ने इनका पुनर्गठन कर दिया है।

रायभान खेड़ा का हिस्सा बना इंद्रजीतखेड़ा

मोहनलालगंज ब्लाक की इंद्रजीतखेड़ा पंचायत अब अतीत हो जाएगी। पुनर्गठन में इंद्रजीतखेड़ा ग्राम पंचातय समाप्त हो गई है। क्योंकि इंद्रजीतखेड़ा की जनसंख्या मात्र 632 थी। डीपीआरओ निरीश चन्द्र साहू ने बताया कि पुनर्गठन में इसे बगल की पंचायत रायभानखेड़ा से जोड़ दिया गया है। अब इंद्रजीतखेड़ा, रायभान खेड़ा का हिस्सा बन गया है। जबकि अन्य तीनों राजस्व गांव कमलापुर, समदाखेड़ा और डलौना की जनसंख्या एक हजार से अधिक होने के कारण इनका अस्तित्व बच गया है। डीपीआरओ न बताया कि पुनर्गठन का प्रस्ताव पंचायती राज विभाग को भेज दिया गया है। इस तरह से शहरी सीमा में कुल 76 ग्राम पंचायते शामिल हुई हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:UP Panchayat Election 2020 Many Gram Panchayats have ended due to reorganization in Lucknow know where will be the election of Gram Pradhan bdc