ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशऐलान कर किया दोस्त का कत्ल, लड़की के चक्कर में गोली मारकर की हत्या

ऐलान कर किया दोस्त का कत्ल, लड़की के चक्कर में गोली मारकर की हत्या

मेरठ में एक दोस्त ने ऐलान कर अपने दोस्त को सैलून में गोली से उड़ाया। एक लड़की के चक्कर में दोनों में झगड़ा हुआ तो दोस्त को मारने की धमकी दी और कुछ घंटे बाद ही कंपटी पर गोली मारकर हत्या कर दी।

ऐलान कर किया दोस्त का कत्ल, लड़की के चक्कर में गोली मारकर की हत्या
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,मेरठMon, 24 Jun 2024 11:00 AM
ऐप पर पढ़ें

मेरठ में लोहियानगर के हुमायूंनगर में दिन निकलते ही ऐलानिया कत्ल की वारदात से सनसनी फैल गई। हेयर सैलून में शेविंग कराने पहुंचे युवक को उसके दोस्त ने कनपटी पर गोली मार दी। हत्या की सूचना से पुलिस में हड़कंप मच गया। लखनऊ से भी घटना का संज्ञान लिया गया। इसके बाद दोपहर को मुठभेड़ में आरोपी के पैर में दो गोली लगी और पुलिस ने उसे दबोच लिया।

नूर गार्डन निवासी 22 वर्षीय समीर पुत्र असलम ई-रिक्शा रिपेयरिंग का काम करता था। हुमायूंनगर में ही उसने दुकान किराये पर ली थी। बराबर में अमीरू सैफी निवासी फतेउल्लापुर का बाइक सर्विस सेंटर है और दोनों दोस्त भी थे। दोनों के बीच एक युवती को लेकर शनिवार दोपहर विवाद हो गया था। अमीरू ने समीर को हत्या की धमकी दी थी। रविवार सुबह 11 बजे समीर अपनी दुकान के पास हेयर सैलून पर शेविंग कराने पहुंचा था। दुकान मालिक वसीम ने जैसे ही शेविंग करना शुरू किया, इसी दौरान अमीरू तमंचा लेकर दुकान में घुस आया और समीर की कनपटी पर गोली मारकर हत्या कर फरार हो गया। 

दोपहर में आरोपी को ततीना रोड पर पुलिस ने घेर लिया और मुठभेड़ में घायल होने के बाद उसे दबोच लिया। मेरठ के एसपी सिटी, आयुष विक्रम सिंह ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि समीर और अमीरू दोनों की दुकान आसपास है। दोनों आपस में दोस्त हैं। दोनों के बीच कुछ विवाद हुआ, जिसके बाद अमीरू ने वारदात अंजाम दी है। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। तमंचा भी बरामद है। पूछताछ की जा रही है।

खुद को सीएम का सचिव बताकर डीएम बस्ती से ठगी की कोशिश, फोन करके कहा...

अधीनस्थों के कसे पेंच आखिर इतने तमंचे आ कहां से रहे ?
मेरठ में दो दिन में हत्या की तीन वारदातों ने अफसरों के माथे पर भी पसीना ला दिया है। हर वारदात में अवैध हथियारों का प्रयोग हो रहा है। यह बात सबसे ज्यादा बेचैनी बढ़ाने वाली है। रविवार को खुद एडीजी जोन और आईजी रेंज अफसरों के बीच पहुंचे और उनसे सवालों के जवाब मांगे। बैठक में कई अफसर सवालों की बौछार होने पर बगलें झांकते दिखे। दोनों अफसरों का सवाल था कि आखिर इतने तमंचे आ कहां से रहे हैं?

यह पहला मौका था, जब एडीजी ध्रुवकांत ठाकुर और आईजी नचिकेता झा कानून व्यवस्था पर खफा दिखे। वह सीधे घंटाघर एसपी सिटी दफ्तर पहुंचे और सभी अफसरों को बुला लिया। अफसरों के पहले ही सवाल ने होश उड़ा दिये। एडीजी ने पूछा कि शहर में खुलेआम तमंचे व पिस्टल से वारदात की जा रही हैं। अपराधी वारदात कर आराम से फरार हो जाता है।

पुलिस क्या कर रही है। आखिर इतने हथियार शहर में कहां से आ गये। अगर हथियार आ भी रहे हैं तो पुलिस इसके नेटवर्क को तोड़ क्यों नहीं पा रही है। बैठक में ब्रह्मपुरी, लिसाड़ीगेट और लोहियानगर की हत्याओं का मामला चर्चा में रहा। जिस तरह से वारदात हो रही हैं, उसे देखकर तो ऐसा लगता है कि हथियार घर घर मौजूद हैं।