ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशविवाद के बाद हिरासत में लिए युवक की हालत बिगड़ी, अस्पताल में छोड़कर भागी पुलिस

विवाद के बाद हिरासत में लिए युवक की हालत बिगड़ी, अस्पताल में छोड़कर भागी पुलिस

मेरठ में दबंगों ने एक परिवार पर हमला कर दिया। आरोप है कि थाने में मौजूद रात्रि स्टाफ ने पीड़ित परिवार से ही अभद्रता कर दी और एक युवक को हिरासत में ले लिया जहां उसकी हालत बिगड़ गई तो उसे अस्पताल ले गए।

विवाद के बाद हिरासत में लिए युवक की हालत बिगड़ी, अस्पताल में छोड़कर भागी पुलिस
6
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,मेरठMon, 27 May 2024 12:49 PM
ऐप पर पढ़ें

मेरठ में ब्रह्मपुरी थाना क्षेत्र के शकूर नगर में शनिवार आधी रात को दबंगों ने एक परिवार पर हमला कर दिया। आरोप है कि थाने में मौजूद रात्रि स्टाफ ने पीड़ित परिवार से ही अभद्रता कर दी और एक युवक को हिरासत में ले लिया। अचानक युवक की हालत बिगड़ गई और पुलिसकर्मियों के हाथ पैर फूल गये। आनन फानन में अस्पताल में युवक को भर्ती कराकर पुलिस गायब हो गयी।

शकूर नगर में साजिद अली का परिवार रहता है। उनके एक बेटे तैयब उर्फ गुल्लू ने घर से कुछ दूरी पर ही परचून की दुकान खोल रखी है। आरोप है कि शनिवार रात हिस्ट्रीशीटर आबिद उर्फ जादू का भाई कादिर अपने कुछ साथियों के साथ पहुंचा और साजिद अली से रंगदारी मांगी। साजिद ने विरोध किया तो वह मारपीट कर फरार हो गये।

उस समय तो मामला शांत हो गया लेकिन रात करीब तीन बजे आबिद उर्फ जादू, उसका भाई कादिर अपने तीन से चार साथियों के साथ उसके घर पहुंचे और पथराव करते हुए कई राउंड फायरिंग कर दी। लोगों को देख आरोपी धमकी देकर भाग गये। साजिद का कहना है कि उन्होंने डायल 112 पर सूचना दी। पुलिसकर्मियों को पूरी घटना के बारे में बताया और तहरीर देने थाने आ गये।

लिफ्ट लेकर गले पड़ी लड़की, पुलिस के पास पहुंची शादी करवाने, कहा- यही है मेरा...

पीड़ित की बिगड़ी हालत
साजिद का कहना है कि उनका बेटा तैयब तहरीर देने थाने पहुंचा तो पुलिसकर्मी उससे ही अभद्रता पर उतर आये और उसे हिरासत में ले लिया। हाथापाई तक कर दी, जिससे तैयब की हालत बिगड़ गई और वह बेहोश होकर गिर गया। पुलिसकर्मी उसे गाड़ी में जिला अस्पताल ले गये और भर्ती कराकर गायब हो गये।

इलाज से किया इंकार
तैयब की हालत बिगड़ने की सूचना पर परिवार जिला अस्पताल आ गया। यहां रात्रि ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक ने भर्ती करने से इंकार कर दिया। परिजनों का आरोप है कि जब उन्होंने वीडियो बनाने की कोशिश की तो चिकित्सक ने मोबाइल छीन लिया। मजबूर होकर उन्हें अपने मरीज को निजी अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।

दोनों पक्षों की तहरीर
इंस्पेक्टर सुमन सिंह का कहना है कि दोनों पक्ष अस्पताल में भर्ती हैं। दोनों ने ही तहरीर दी है, जिसकी जांच कराई जा रही है। थाने में अभद्रता के आरोप गलत हैं।