ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशसत्ता की ताकत से रालोद को मजबूत करेंगे जयंत, यूपी संग अब हरियाणा और राजस्थान में विस्तार

सत्ता की ताकत से रालोद को मजबूत करेंगे जयंत, यूपी संग अब हरियाणा और राजस्थान में विस्तार

जयंत चौधरी सत्ता की ताकत से राष्ट्रीय लोकदल पार्टी को मजबूत करेंगे। रालोद को जयंत यूपी के साथ हरियाणा और राजस्थान में पार्टी का विस्तार होगा। जयंत सिंह ने पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में संकेत दिए।

सत्ता की ताकत से रालोद को मजबूत करेंगे जयंत, यूपी संग अब हरियाणा और राजस्थान में विस्तार
Srishti Kunjराजदीप जाखड़,मेरठFri, 21 Jun 2024 08:38 AM
ऐप पर पढ़ें

केंद्र और राज्य सरकार का हिस्सा बनने के बाद अब राष्ट्रीय लोकदल का विस्तार यूपी के साथ हरियाणा और राजस्थान में भी होने जा रहा है। पार्टी सुप्रीमो चौधरी जयंत सिंह ने सत्ता की ताकत से पार्टी का विस्तार जाट बाहुल्य राज्यों में करने की तैयारी शुरू कर दी है। जल्द पार्टी पदाधिकारियों की बैठक बुलाने की तैयारी करने को कहा है। पार्टी सूत्रों की मानें तो अगले महीने पार्टी की मजबूती पर काम शुरू कर दिया जाएगा।

2009 से 2014 तक चली यूपीए 0.2 सरकार का हिस्सा रहे रालोद के दुर्दिन 2013 में हुए मुजफ्फरनगर दंगे के बाद शुरू हुए। 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में पार्टी सुप्रीमो चौधरी अजित सिंह और उनके बेटे चौधरी जयंत सिंह चुनाव हार गए थे। बाकी सीटों पर खड़े प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई थी। इसके बाद 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में पार्टी केवल छपरौली से ही विधायक बना पाई थी और विधायक सहेंद्र रमाला भी बाद में पार्टी छोड़कर भाजपा के साथ चले गए थे। 2019 का लोकसभा चुनाव पार्टी ने बसपा और सपा गठबंधन के साथ लड़ा लेकिन इस चुनाव में भी चौधरी अजित सिंह मुजफ्फरनगर से और चौधरी जयंत सिंह बागपत से चुनाव हार गए थे। 

वर्षों से चला आ रहा पार्टी का सियासी सूखा किसान आंदोलन के बाद खत्म हुआ। किसान आंदोलन का ही असर रहा कि पार्टी ने 2022 के विधानसभा चुनाव में 8 सीट जीती और बाद में खतौली विधानसभा उपचुनाव में भी भाजपा प्रत्याशी को हराकर जीत हासिल कर विधायकों की संख्या 9 कर ली। पार्टी में तेजी से पड़ रही जान को देखते हुए भाजपा ने जयंत को अपने साथ लाने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण को भारत रत्न से नवाजा तो चौधरी जयंत सिंह इंडिया गठबंधन छोड़कर एनडीए के साथ आ गए। 

यूपी के स्कूलों में पढ़ाया जाएगा संस्कृति का ककहरा, इन क्लासों में होगा कोर्स

भाजपा के साथ हुए गठबंधन के बाद यूपी में एक कैबिनेट मंत्री पद मिला तो एक एमएलसी की सीट भी मिली। वहीं हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में पार्टी दो सीटों पर लड़ी और दोनों ही सीटें जीत ली। सहयोगी दल होने के नाते चौधरी जयंत सिंह को केंद्रीय राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के साथ शिक्षा राज्यमंत्री भी बनाया गया है। 

केंद्र और राज्य में बढ़ी ताकत का फायदा अब रालोद सुप्रीमो पार्टी का विस्तार कर उठाना चाहते हैं। पार्टी सूत्रों के मुताबिक अब पार्टी को वेस्ट यूपी से बाहर निकालकर हरियाणा और राजस्थान में भी ले जाने का रोडमैप तैयार किया जाने लगा है। रालोद सुप्रीमो चौधरी जयंत सिंह ने भी कहा है कि केंद्रीय मंत्री के साथ पार्टी सुप्रीमो होने के नाते उनकी जिम्मेदारी बनती है कि पार्टी आगे बढ़े। पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव त्रिलोक त्यागी ने कहा कि रालोद चौधरी चरण सिंह के विचारों पर चलने वाली पार्टी है। किसान-कमेरों और युवाओं के मुद्दों को लेकर हम यूपी के साथ हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान भी जाएंगे।