ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशभैयादूज से पहले तीन बहनों के इकलौते भाई की मौत, गंधक-पोटाश पीसते समय धमाके से उड़े चिथड़े

भैयादूज से पहले तीन बहनों के इकलौते भाई की मौत, गंधक-पोटाश पीसते समय धमाके से उड़े चिथड़े

भैयादूज से पहले तीन बहनों के इकलौते भाई की मौत से घर में कोहराम मच गया। दिवाली पर बच्चा पटाखा चलाने के लिए गंधक-पोटाश पीस रहा था। उसी समय हुए धमाके से बच्चे के चिथड़े उड़ गए। बच्चा अपनी बहन के घर था।

भैयादूज से पहले तीन बहनों के इकलौते भाई की मौत, गंधक-पोटाश पीसते समय धमाके से उड़े चिथड़े
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,मेरठTue, 14 Nov 2023 10:35 AM
ऐप पर पढ़ें

दिवाली पर गंधक पोटाश के धमाकों से हुए हादसे में एक बच्चे की मौत हो गई। घटना इंचौली थाना क्षेत्र के फिटकरी गांव में हुई। इमामदस्ते में गंधक पोटाश पीसते समय तेज धमाका हुआ और किशोर के शरीर के परखच्चे उड़ गए। तेज धमाके की आवाज सुनकर परिजन और आसपास के लोग मौके पर दौड़े। वहां का दर्दनाक नजारा देख महिलाएं बेहोश हो गईं। आननफानन में परिजन वरदान को लेकर अस्पताल दौड़े। डॉक्टरों ने प्राथमिक उपचार देते हुए वरदान को मेरठ रेफर कर दिया। रविवार देर रात वरदान की उपचार के दौरान मौत हो गई। घटना के सोमवार को परिजनों ने गमगीन माहौल में सकौती में अंतिम संस्कार कर दिया।

तीन बहनों का इकलौता भाई था वरदान
दौराला क्षेत्र के सकौती गांव निवासी युद्धवीर सिंह की बेटी वर्णिका की शादी इंचौली क्षेत्र के फिटकरी गांव में हुई है। युद्धवीर का 12 साल का बेटा वरदान फिटकरी में बहन वर्णिका के घर रहता था। वह तीन बहनों का इकलौते भाई था और सातवीं का छात्र था। रविवार सुबह करीब 11 बजे वरदान इमामदस्ते में गंधक-पोटाश पीसने लगा। इसी दौरान जोरदार धमाका हो गया। हादसे में वरदान जख्मी हो गया। रविवार रात उसकी मौत हो गई।

ये भी पढ़ें: सावधान! क्रिप्टो करंसी के खेल में लाखों गंवा रहे हैं लोग, पढ़ें कैसे ठग बना रहे शिकार

बहन ने मना किया, फिर भी ले आया गंधक-पोटाश
इंचौली थाना क्षेत्र के फिटकरी गांव में दीपावली पर हुए दर्दनाक हादसे में जान गवाने वाले तीन बहनों के इकलौते भाई वरदान को गंधक पोटाश लेकर आने से बड़ी बहन वर्णिका ने मना किया था। लेकिन वरदान ने बहन की बात नहीं मानी और बड़ा हादसा हो गया। हादसे के बाद बाद परिजनों में कोहराम मच गया।

पड़ोसी युवकों ने रोका था वरदान को
रविवार सुबह वरदान अपने घर के बाहर लोहे की नाल में रखकर धमाका फोड़ रहा था। पड़ोसी युवकों ने उसे समझाते हुए कहा कि चोट लग जाएगी धमाका मत फोड़ो। इसके कुछ समय बाद ही वरदान घर पहुंचा और हादसा हो गया। बताया गया कि वरदान कुछ दिनों पूर्व अपने घर सकौती गया था। बहन वर्णिका ने वरदान को गंधक पोटाश लेकर आने और धमाके फोड़ने से मना किया था। वरदान ने बहन की बात को अनसुना किया और अपने घर से गंधक पोटाश लेकर आ गया। वरदान ने यदि बहन की बात मानी होती तो उसकी जान बच सकती थी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें