ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशमथुरा: नहीं चुकाया बिल तो बरसाना के राधारानी मंदिर की बिजली काटी, दर्शन के समय छाया अंधेरा

मथुरा: नहीं चुकाया बिल तो बरसाना के राधारानी मंदिर की बिजली काटी, दर्शन के समय छाया अंधेरा

विश्व विख्यात मथुरा के बरसाना स्थित लाड़लीजी मंदिर की बिजली पावर कारपोरेशन ने बुधवार को काट दी। मंदिर के 12.66 लाख रुपये के बकाया बिल हैं। दर्शन के समय अंधेरा छा गया जिसके बाद जेनरेटर की व्यवस्था की।

मथुरा: नहीं चुकाया बिल तो बरसाना के राधारानी मंदिर की बिजली काटी, दर्शन के समय छाया अंधेरा
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,मथुराThu, 29 Feb 2024 08:33 AM
ऐप पर पढ़ें

12.66 लाख रुपये के बकाया बिल के कारण विश्व विख्यात मथुरा के बरसाना स्थित लाड़लीजी मंदिर की बिजली पावर कारपोरेशन ने बुधवार को काट दी। दर्शन के समय जेनरेटर से बिजली की व्यवस्था की गई। उसके बाद राधारानी मंदिर में अंधेरा छा गया। विश्वविख्यात लाड़ली जी मंदिर में संजय गोस्वामी द्वारा रिसीवर पद से इस्तीफा देने के बाद मंदिर की व्यवस्था देखने के लिए सह रिसीवर रास बिहारी गोस्वामी को कोर्ट ने नियुक्त किया हुआ है। 

विगत तीन वर्ष से लाड़लीजी मंदिर का बिजली बिल बकाया चल रहा था। करीब 12.66 लाख रुपये बकाया होने के चलते बुधवार शाम को विद्युत निगम की टीम ने मंदिर का बिजली कनेक्शन काट दिया। कनेक्शन काटने की रसीद मंदिर प्रबंधन को दे दी गई। कनेक्शन कटने पर गोस्वामी समाज में रोष उत्पन्न हो गया। मंदिर में होली के समाज गायन में भी अड़चन की आशंका बन गई है।

मंदिर पर तीन साल से बकाया है बिजली बिल
पावर कारपोरेशन के एसडीओ संजय कुमार ने बताया कि पिछले तीन वर्ष से राधारानी मंदिर पर बिजली विभाग का बिल बकाया है। बिजली निगम को 14 जनवरी को कोर्ट ने बुलाकर पूछा था कि बिजली निगम का कितना बकाया है। इसका जवाब बिजली निगम ने कोर्ट में दिया था। बिल का भुगतान न होने से बुधवार को मंदिर का कनेक्शन काट दिया गया है। बिल का भुगतान होने के बाद ही कनेक्शन चालू किया जाएगा। इस संबंध में अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है।

लक्ष्मण टीले पर पूजा मामले में मुस्लिम पक्ष की याचिका खारिज, शुरू होगी अग्रिम सुनवाई

जनरेटर न होता तो अंधेरे में होते दर्शन
बिजली कनेक्शन कट जाने के बाद लाडलीजी मंदिर में आपात स्थिति के लिए लगाए गए जनरेटर द्वारा मंदिर की लाइट चालू की गई। दर्शन खुलने के दौरान जनरेटर चलाया गया और उसके बाद बंद कर दिया गया। अगर जनरेटर न होते तो मंदिर अंधेरे में डूब जाता। दर्शन का समय समाप्त होने के बाद जनरेटर बद करने से मंदिर में अधेरा व्याप्त हो गया।

बिजली कटने से पानी को तरसे श्रद्धालु
बिजली कनेक्शन कटने के बाद मंदिर में पानी की समस्या उत्पन्न हो गयी, जिसके कारण मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं को पीने का पानी नहीं मिल सका। दूसरी तरफ मंदिर में पानी की वजह से साफ सफाई नहीं हो पाई।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें