ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशमारपीट तक करा रही है लखनऊ की ये ‘झगड़ालू’ सड़क, जरा सी चूक पहुंचा रही अस्पताल

मारपीट तक करा रही है लखनऊ की ये ‘झगड़ालू’ सड़क, जरा सी चूक पहुंचा रही अस्पताल

लखनऊ में लोक निर्माण विभाग की एक सड़क रोज लोगों के बीच मारपीट और झगड़े करा रही है। जरा सा चूकने पर लोगों को अस्पताल पहुंचा रही है। एक महीने में इस सड़क पर140 बार झगड़े व मारपीट हो चुकी है।

मारपीट तक करा रही है लखनऊ की ये ‘झगड़ालू’ सड़क, जरा सी चूक पहुंचा रही अस्पताल
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,लखनऊSat, 03 Jun 2023 02:06 PM
ऐप पर पढ़ें

लखनऊ में लोक निर्माण विभाग की एक सड़क रोज लोगों के बीच मारपीट और झगड़े करा रही है। जरा सा चूकने पर लोगों को अस्पताल पहुंचा रही है। एक महीने में इस सड़क पर 140 बार झगड़े व मारपीट हो चुकी है। 50 से ज्यादा लोग गिरकर घायल हो चुके हैं। पीडब्ल्यूडी ने यह सड़क गोमतीनगर विस्तार से खरगापुर मलेसेमऊ के बीच बनायी है। उसने 12 मीटर चौड़ी पुरानी सड़क का केवल बीच का तीन मीटर हिस्सा ही बनाया है। वह भी काफी ऊंचा कर दिया है। इस तीन मीटर में आमने-सामने से गाड़ियां नहीं निकल पातीं। किसी एक वाहन चालक को अपनी गाड़ी दूर तक काफी पीछे वापस ले जाना पड़ता है। सड़क के दोनों तरफ 22-24 सेंटीमीटर गहरे गड्ढे हैं।

शुक्रवार को हिन्दुस्तान टीम ने इस सड़क का मौका मुआयना किया। करीब 500 मीटर की इस सड़क की गई जगह नाप की गयी। सड़क की चौड़ाई 12 मीटर से अधिक मिली। लेकिन पीडब्ल्यूडी के इंजीनियरों ने इसमें से बीच का केवल तीन मीटर हिस्सा ही बनाया है। सीसी की होने से यह 15 से लेकर 24 सेंटीमीटर तक ऊंची हो गयी है। पुरानी सड़क का हिस्सा 24 सेंटीमीटर तक गहरा हो गया है। तीन मीटर की सड़क पर आमने-सामने से छोटी कारें भी नहीं निकल पाती हैं। वाहन चालक गाड़ी नीचे उतारते नहीं क्योंकि गड्ढे हैं। उतारने पर चढ़ नहीं पाती। 

गर्मियों की छुट्टियों में यूपी में चलेंगी स्पेशल ट्रेनें, जानें कहां से कहां तक; देखें पूरा शेड्यूल

इस कारण जब आमने सामने से दो गाड़ियां आ जाती हैं तो वाहन चालक एक दूसरे को पीछे करने को कहते हैं। इस पर रोज झगड़े व मारपीट होती है। स्थानीय निवासियों व दुकानदारों ने बताया कि एक महीनें में उन लोगों ने करीब 140 झड़गे, मारपीट होते देखे हैं। 50 से ज्यादा लोग गिरकर चोटिल हो चुके हैं। बीच में बनी सीसी की तीन मीटर चौड़ी सड़क काफी ऊंची हो गयी है। दोनों तरफ काफी गहरी हो गयी है। हिन्दुस्तान ने सड़क के दोनों पटरी की गहराई नापी तो यह जगह जगह 15 से 24 सेंटीमीटर मिली है। गोमतीनगर विस्तार से खरगापुर मलेसेमऊ के बीच आमने-सामने वाहन आने पर ऐसी स्थिति हो जाती।

कागजों में 3 मीटर लेकिन नाप में कम मिली सड़क
हिन्दुस्तान ने इस सड़क की चौड़ाई की नाप भी फीते से की। इसमें कहीं इस सड़क की चौड़ाई तीन मीटर मिली तो कहीं छह से सात सेंटीमीटर तक कम मिली। पूरे तीन मीटर चौड़ी भी सड़क नहीं बनी है।

दोपहिया वाहन चालक रोजाना हो रहे हैं चोटिल
तीन मीटर चौड़ी सड़क पर जब ट्रक, ट्रैक्टर, जेसीबी व अन्य बड़े वाहन आते हैं तो सामने से दो पहिया वाहन भी नहीं निकल पाते हैं। जो पीछे वापस नहीं मुड़ता है और किनारे रहकर बचने का प्रयास करता है वह वाहनों से रगड़कर नीचे गिर जाता है। लोग बताते हैं कि रोजाना एक दो लोग ऐसे गिरकर चोटिल व घायल हो रहे हैं। वाहन भी क्षतिग्रस्त हो रहे हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें