ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश10 सालों में बढ़ गए सड़क हादसे, मरने वाले 42 प्रतिशत बढ़े, इन कारणों से हो रहे सबसे ज्यादा एक्सीडेंट

10 सालों में बढ़ गए सड़क हादसे, मरने वाले 42 प्रतिशत बढ़े, इन कारणों से हो रहे सबसे ज्यादा एक्सीडेंट

10 सालों में सड़क हादसे 37 प्रतिशत बढ़ गए हैं। वर्ष 2014 से वर्ष 2023 के बीच वर्षवार सड़क दुर्घटनाओं का ब्यौरा सामने आया है। लॉकडाउन छोड़कर बाकी वर्षो में रोड एक्सीडेंट के बढ़ते हादसे चिंताजनक हैं।

10 सालों में बढ़ गए सड़क हादसे, मरने वाले 42 प्रतिशत बढ़े, इन कारणों से हो रहे सबसे ज्यादा एक्सीडेंट
road accident news
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,लखनऊMon, 24 Jun 2024 07:03 AM
ऐप पर पढ़ें

सड़क पर चलने वाले राहगीर हो या बाइक सवार या फिर कार सवार। सड़क सुरक्षा के लिहाज से सभी को सड़क पर सतर्कता के साथ ट्रैफिक नियमों से चलने की जरूरत है। करीब 25 करोड़ आबादी वाले उत्तर में बढ़ते वाहनों से बढ़ते सड़क हादसे चिंता का विषय बन गए हैं। आलम ये है कि प्रदेश भर में करीब पौने पांच करोड़ वाहन 31 मई 2024 तक पंजीकृत हो चुके हैं। ऐसे में बढ़ते वाहन और सकरी होती सड़कों के बीच 10 वर्षों से लगाकर सड़क हादसों में 37 फीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। पहले जहां प्रति वर्ष औसतन 30 हजार हादसे हो रहे थे, वहीं बढ़कर प्रति वर्ष करीब 40 हजार पहुंच गए।    

वर्ष 2014 में बनी सड़क सुरक्षा नीति बेअसर रहा 
सड़क हादसों में कमी लाने और सड़क सुरक्षा उपायों को अपनाने के लिए सरकार ने 10 वर्ष पहले सितंबर 2014 सड़क सुरक्षा नीति लागू की गई। मकसद था कि इस नीति के जरिए वाहन चालकों को सुरक्षित, सहज और सुलभ परिवहन व्यवस्था उपलब्ध कराना। इसके तहत चार विभागों को जिम्मेदारी सौंपी गई। इनमें परिवहन, गृह, पीडब्ल्यूडी और स्वास्थ्य विभाग मिलकर काम करेंगे। मगर हादसे रोकने में बीते दस वर्षो से सड़क सुरक्षा नीति बेअसर साबित हुआ। 

ये भी पढ़ें: सरकारी यूनिवर्सिटी ही नहीं मान रही यूजीसी के नियम, यूपी में 10 विश्वविद्यालय डिफॉल्टर

इन वजहों से बढ़े हादसे
- सड़क पर क्षमता से तेज रफ्तार में वाहनों की ओवर स्पीडिंग करना
- हाईवे पर नशे में या ड्रंक एंड ड्राइविंग करने से हादसे का ग्राफ बढ़ा 
- वाहन सवारों के ट्रैफिक नियमों की जानकारी नहीं होना भी हादसे बढ़े

चिंताजनक
- वर्ष 2014 से वर्ष 2023 के बीच वर्षवार सड़क दुर्घटनाओं का ब्यौरा सामने आया
- लॉकडाउन छोड़कर बाकी वर्षो में रोड एक्सीडेंट के बढ़ते हादसे चिंताजनक रहा

फैक्ट
- सड़क दुर्घटनाओं में 37 तो मृतकों में 42 और घायलों में 23 फीसदी की बढ़ोत्तरी
- 2022 में दुर्घटनाओं में 1.95% और मृत्यु दर में 0.26% की मामूली गिरावट रही 

वर्ष        हादसे        मृतक             घायल
2014      31034    16287             22337
2015      32385    17666             23205
2016     35612     19320            25096
2017     38811      20142            27507
2018     42568      22256            29664
2019     42572      22655            28932
2020     34243      19149            22410
2021     37729      21227             24897
2022     41746      22595            28541
2023     44534      23652           31098

अपर परिवहन आयुक्त (सड़क सुरक्षा) परिवहन आयुक्त मुख्यालय, लखनऊ, पुष्पसेन सत्यार्थी ने इस बारे में कहा कि चिंता का विषय है कि यूपी में सड़क हादसे बढ़ रहे हैं। इन्हें रोकने के लिए लोगों को जागरूक होना पड़ेगा। ओवर स्पीडिंग रोकने के लिए इंटरसेप्टर से नजर रखने के साथ ई-चालान पर लगातार जोर है।