ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशमायावती ने हार के कारणों पर बड़े नेताओं से की चर्चा, चंद्रशेखर की जीत पर भी चर्चा

मायावती ने हार के कारणों पर बड़े नेताओं से की चर्चा, चंद्रशेखर की जीत पर भी चर्चा

मायावती ने लोकसभा चुनाव 2024 में हार के कारणों पर बड़े नेताओं के साथ चर्चा की। यूपी के एससी मिश्र समेत तीन नेताओं को बुलाया गया। पार्टी विरोधी कार्यों में लिप्त नेताओं के बारे में रिपोर्ट भी मांगी।

मायावती ने हार के कारणों पर बड़े नेताओं से की चर्चा, चंद्रशेखर की जीत पर भी चर्चा
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,लखनऊThu, 06 Jun 2024 07:47 AM
ऐप पर पढ़ें

बसपा सुप्रीमो मायावती ने लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के कारणों की समीक्षा शुरू कर दी है। उन्होंने पहले चरण में यूपी के तीन नेताओं राष्ट्रीय महासचिव एससी मिश्र के साथ अशोक सिद्धार्थ और रामजी गौतम को बुलाया। मायावती ने तीनों नेताओं के साथ दिल्ली में बैठक की और उनसे हार के कारणों के बारे में पूछताछ की। 

जल्द होगी लखनऊ में बैठक
बताया जा रहा है कि एससी मिश्र ने बसपा सुप्रीमो को एक रिपोर्ट भी सौंपी है। इसमें खासतौर पर कोआर्डिनेटरों की कार्यप्रणाली और उनके द्वारा प्रत्याशी चयन में की गई मनमानी की बात कही गई है। इसके अलावा स्थानीय स्तर पर पार्टी की स्थिति के बारे में भी उच्च स्तर पर जानकारी न देने की बात कही गई है। बताया जा रहा है कि जल्द ही जिला कोआर्डिनेटरों को जिलाध्यक्षों की बैठक लखनऊ में बुलाई जाएगी।

ये भी पढ़ें: जातीय समीकरण के खेल में घट गई सवर्णों की नुमाइंदगी, पिछड़ों का दबदबा बढ़ा

चंद्रशेखर की जीत पर भी चर्चा
बैठक में सबसे पहले पश्चिमी यूपी की सीटों को लेकर चर्चा की गई। मायावती पश्चिमी यूपी से ही आती हैं और एक समय था जब सबसे अधिक सीटें बसपा यहीं से जीतती थी, लेकिन इस बार सबसे खराब स्थिति रही। इतना ही नहीं पिछले चुनाव में नगीना सीट पर बसपा जीती थी, लेकिन इस बार उसके धुर विरोधी आजाद समाज पार्टी के चंद्रशेखर आजाद अपने दम पर चुनाव जीते हैं। चंद्रशेखर को लेकर भी बसपा सुप्रीमो चिंतित हैं। चंद्रशेखर दलितों के तेजी से उभरते हुए नेता हैं। मायावती ने चंद्रशेखर की जीत और बसपा के परायजय के कारणों के बारे में भी जानकारी मांगी है।

मत प्रतिशत गिरने पर चिंता
बैठक में बसपा के गिरे मत प्रतिशत पर भी चर्चा करते हुए चिंता जताई गई है। बसपा को इस चुनाव में कुल 8233453 व 9.39 फीसदी मत मिले हैं। बसपा का अब तक के चुनाव में सबसे कम फीसदी मत है। एससी मिश्र की रिपोर्ट में इसकी भी चर्चा की गई है। इसका कारण अधिकतर राज्यों में मायावती की रैली न लगना पाया गया है। इसके लिए भी कोआर्डिनेटरों और जिलाध्यक्षों को दोषी ठहराया गया है।