ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशचुनावी जीत के लिए शक्तिपीठों पर तंत्र-मंत्र के 25 पाठ, कई प्रदेशों-दलों के नेता करा रहे अनुष्ठान

चुनावी जीत के लिए शक्तिपीठों पर तंत्र-मंत्र के 25 पाठ, कई प्रदेशों-दलों के नेता करा रहे अनुष्ठान

लोकसभा चुनाव में जीत पाने को नेता और पार्टियां केवल जनता ही नहीं देवी-देवताओं के पास भी शरणागत हैं। शक्तिपीठों में तांत्रिक और वैदिक मंत्रों के अनुष्ठान चल रहे हैं। आचार्य पूजा-पाठ करा रहे हैं।

चुनावी जीत के लिए शक्तिपीठों पर तंत्र-मंत्र के 25 पाठ, कई प्रदेशों-दलों के नेता करा रहे अनुष्ठान
Srishti Kunjगौरव चतुर्वेदी,कानपुरThu, 18 Apr 2024 01:34 PM
ऐप पर पढ़ें

कुर्सी की कामना में नेता केवल हाईकमान और जनता की ही शरण में नहीं जाते। वे देवी-देवताओं के पास भी शरणागत हैं। शक्तिपीठ दतिया, राजा राम सरकार ओरछा, विंध्याचल देवी पीठ से लेकर पनकी हनुमान मंदिर, आनंदेश्वर मंदिर तक तांत्रिक और वैदिक मंत्रों के अनुष्ठान चल रहे हैं। उप्र-मप्र के अलावा भी कई प्रदेशों व दलों के नेताओं के आचार्य पूजा-पाठ करा रहे हैं। कानपुर के कई आचार्यों ने पाठ करने वालों को ऐसे केन्द्रों पर भेज रखा है।

मध्य उप्र के एक नेता के तीन स्थानों पर पाठ चल रहे हैं। वह बगलामुखी पाठ तो हर साल कराते रहे हैं पर चुनावी जीत को नवरात्र से उन्होंने प्रत्यंगिरा महाकाली और लांगूल शत्रुंजय पाठ भी शुरू करा दिए हैं। दो अनुष्ठानों के संकल्प तो उन्होंने शक्तिपीठ में जाकर दिए, एक का संकल्प वीडियो कॉल पर कराया गया। पूर्वांचल के रसूखदार नेता के आचार्यों की टीम नवरात्र से पहले ओरछा पहुंच गई थी। आदित्य विजयकर पाठ शुरू हुआ। उनका टिकट घोषित हो गया। आचार्यों ने उन्हें गायत्री ब्रहमास्त्रत्त् विजयकर और बाला त्रिपुर सुंदरी विजय साधना के अनुष्ठान भी बता दिए। दोनों के संकल्प हो गए। पाठ जारी हैं।

ये भी पढ़ें: पहले 400 रुपये अब 1 लाख; 77 सालों में सांसद और मंत्रियों के वेतन 250 गुना बढ़े, 6 तरह के भत्ते अलग

कई प्रदेशों और दलों के नेता करा रहे अनुष्ठान
आचार्यों की बड़ी टीम संचालित करने वाले आचार्य आदित्य दीक्षित ‘भास्कर’ बताते हैं, यह नहीं बात नहीं है। हर चुनाव में यूपी-एमपी ही नहीं बिहार और राजस्थान तक के नेता बड़े शक्तिपीठों पर अनुष्ठान कराते हैं। शहर के एक आचार्य के मुताबिक उन्होंने दो नेताओं के लिए पाठ शुरू कराए। उनमें से एक को टिकट नहीं मिला। दूसरे मैदान में हैं।

ग्रहदशाओं से तय होते हैं अनुष्ठान आचार्यों के मुताबिक वैदिक या तांत्रिक अनुष्ठान संबंधित व्यक्ति की जन्मकुंडली में ग्रह स्थिति, गोचर स्थिति देख कर तय किए जाते हैं। मसलन सूर्य कमजोर है तो आदित्यहृदय के सवा लाख पाठ, आदित्य विजयकर के 21 हजार पाठ अनुष्ठान होते हैं। गुरु कमजोर होने पर नारायण विजय, सुदर्शनास्त्रत्त् स्त्रत्तेत पाठ-पूजन कराया जाता है।

शक्तिपीठों पर चल रहे अनुष्ठान
बगलामुखी पाठ, प्रत्यंगिरा महाकाली पाठ, शतचंडी पाठ, अर्गला स्त्रत्तेत पाठ, मणिकर्णिका विजय साधना पाठ, लांगूल शत्रुंजय पाठ, रुद्र शत्रुंजय पाठ, आदित्य विजयकर पाठ, त्रिभुवन विजयकर पाठ, पंचमुखी त्रिभुवन विजयकर पाठ, त्रिलोचन विजयकर पाठ, कार्तवीर्यार्जुन पाठ, नारायण विजय पाठ, सुदर्शनास्त्रत्त् स्त्रत्तेत पूजन, नरसिंहई अष्टाक्षर पाठ, गरुण विजय साधना पाठ, गायत्री ब्रहमास्त्रत्त् विजयकर पाठ, त्रैलोक्य मोहन यंत्र पाठ, गोपाल गारुणी यंत्र पाठ, बाला त्रिपुर सुंदरी विजय साधना, षोडशी त्रिपुर सुंदरी साधना पाठ, रामरक्षा स्त्रत्तेत पाठ, द्वादशाक्षरी राम विजयकर यंत्र, मानस किष्किंधा कांड पाठ (विशेष संपुटयुक्त), मानस लंकाकांड पाठ (विशेष संपुटयुक्त)।