ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशलोकसभा चुनाव के प्रचार में उतरी मुख्तार अंसारी परिवार की नई सदस्य, कौन है अचानक चर्चा में आईं नुसरत

लोकसभा चुनाव के प्रचार में उतरी मुख्तार अंसारी परिवार की नई सदस्य, कौन है अचानक चर्चा में आईं नुसरत

गाजीपुर लोकसभा सीट से मुख्तार अंसारी परिवार की नई सदस्य चुनाव प्रचार के मैदान में आई है। नाम है नुसरत। नुसरत मुख्तार अंसारी के बड़े भाई और गाजीपुर से सांसद अफजाल अंसारी की बेटी हैं।

लोकसभा चुनाव के प्रचार में उतरी मुख्तार अंसारी परिवार की नई सदस्य, कौन है अचानक चर्चा में आईं नुसरत
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,गाजीपुरMon, 29 Apr 2024 09:04 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव में तमाम कारणों से पहले ही चर्चा में रही पूर्वांचल की गाजीपुर सीट एक बार फिर सुर्खियों में है। यहां से मुख्तार अंसारी परिवार की नई सदस्य चुनाव प्रचार के मैदान में आई है। नाम है नुसरत। नुसरत मुख्तार अंसारी के बड़े भाई और गाजीपुर से सांसद अफजाल अंसारी की बेटी हैं। भीषण गर्मी में सिर पर दुप्पट्टा रखे नुसरत गाजीपुर लोकसभा क्षेत्र के गली-गली में प्रचार में लगी हैं। यहां तक कि प्रचार के दौरान नुसरत ने कीर्तन में भाग लिया और शिवालय में जाकर भगवान शिव के सामने मत्था भी टेका। नुसरत को पहली बार पिता अफजाल अंसारी के लिए वोट मांगते देख कई तरह की चर्चाएं हैं।

गाजीपुर में अंतिम चरण में एक जून को चुनाव होना है। सात मई से नामांकन शुरू होगा। उससे पहले दो मई को अफजाल अंसारी पर गैंगस्टर मामले को लेकर सजा पर फैसला आना है। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर हाईकोर्ट यह तय करेगा कि अफजाल की सजा पर रोक बरकरार रहेगी या नहीं। अगर रोक हटती है तो उनका चुनाव लड़ना खटाई में पड़ जाएगा। ऐसे में माना जा रहा है कि अफजाल की विरासत नुसरत संभाल सकती हैं। 

अफजाल अंसारी ने पिछले चुनाव में बसपा प्रत्याशी के रूप में भाजपा के कद्दावर नेता और वर्तमान में जम्मू कश्मीर के लेफ्टिनेंट गर्वनर मनोज सिन्हा को हराया था। हालांकि उस समय सपा-बसपा और रालोद का गठबंधन था। इस बार ऐसा नहीं है। ऐसे में माना जा रहा है कि अगर अफजाल अंसारी को हाईकोर्ट से राहत मिलती भी है तो उनकी राह आसान करने के लिए बिटिया मैदान में आई है।

चुनावी प्रचार में उतरने के बाद से नुसरत की कई तस्वीरें वायरल हो रही हैं। सबसे ज्यादा शिव मंदिर में पूजा करते हुए उनकी तस्वीर वायरल है। कुछ अन्य तस्वीरों में नुसरत एसपी कार्यालय में अफजाल अंसारी के साथ मौजूद दिख रही है। कई तस्वीरों में वह जनसम्पर्क करती भी दिख रही हैं।

दो मई को अफजाल पर आ सकता है फैसला 
अफजाल अंसारी को गैंगेस्टर के मामले में ठीक एक साल पहले 29 अप्रैल को गाजीपुर की एमपी-एमएलए कोर्ट ने 4 साल की सजा सुनाई थी। इसके बाद उनकी सांसदी भी चली गई थी। सजा के खिलाफ अफजाल अंसारी ने इलाहाबाद हाइकोर्ट में अपील की। जहां से फौरी राहत नहीं मिली तो अफजाल ने सुप्रीम में अपील दाखिल की। सुप्रीम कोर्ट ने उनकी संसद सदस्यता कुछ शर्तों के साथ बहाल कर दी। उनको चुनाव लड़ने के योग्य भी करार दिया। इसके साथ ही इलाहाबाद हाइकोर्ट को 30 जून 2024 तक मामले का निस्तारण का आदेश दिया। सुप्रीम कोर्ट से राहत मिली तो सपा ने अफजाल को अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया। 

अब हाइकोर्ट में 2 मई को इस मामले में सुनवाई होनी है। गाजीपुर में 7 मई से नामांकन शुरू होना है। यदि, इस बीच अफजाल अंसारी के हक में फैसला नही आता तो ऐसी सूरत में अफजाल चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य हो जाएंगे। मामले की अगर सुनवाई टलती है या हाईकोर्ट से राहत मिलती है तभी वह चुनाव लड़ सकेंगे। ऐसे में सियासी गलियारों में कयास लगाया जा रहा है कि अफजाल की बेटी उनके स्थान पर चुनाव लड़ सकती है। उनकी बेटी का एसपी कार्यालय पर आना और चुनाव प्रचार में शामिल होना इसी ओर इशारा कर रहा है। अफजाल अंसारी इस मामले पर फिलहाल कोई बयान नहीं दे रहे हैं।