ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशभारत-नेपाल बॉर्डर पर बनाया अवैध पुल, रोकने गए एसएसबी अधिकारी को नेपालियों ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

भारत-नेपाल बॉर्डर पर बनाया अवैध पुल, रोकने गए एसएसबी अधिकारी को नेपालियों ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

भारत-नेपाल की सीमा पर स्थित मोहाना नदी पर नेपालियों और सादे कपड़ों में गए एक एसएसबी अधिकारी में मारपीट का वीडियो वायरल हो रहा है। सीमा के पास तस्करी के लिए एक पुल बनाया जिसके विरोध पर अधिकारी को पीटा।

भारत-नेपाल बॉर्डर पर बनाया अवैध पुल, रोकने गए एसएसबी अधिकारी को नेपालियों ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,लखीमपुरTue, 28 May 2024 12:33 PM
ऐप पर पढ़ें

भारत-नेपाल की सीमा पर स्थित मोहाना नदी पर नेपालियों और सादे कपड़ों में गए एक एसएसबी अधिकारी में मारपीट का वीडियो वायरल हो रहा है। चंदनचौकी पुलिस ने घटना को चार दिन पुराना बताया है। हालांकि एसएसबी ने जांच के बाद ही कुछ टिप्पणी करने की बात कही है। वीडियो वायरल करने वालों का दावा है कि यह घटना बार्डर के हिम्मतपुर घाट की है। बताते हैं कि एसएसबी के एक अधिकारी सादे कपड़ों में बेला परसुआ के पास रामनगर चौकी से शास्त्रीनगर होकर जा रहे थे। 

उन्हें जानकारी मिली थी कि कुछ नेपाली तस्कर वहां मौजूद हैं। जब वह मोहाना नदी पर पहुंचे तो देखा कि नदी में लकड़ी का एक अस्थाई पुल बन रहा था। उन्होंने लकड़ी का पुल बनाने पर एतराज जताया। बताते हैं कि इस बीच मौके पर मौजूद नेपाली नागरिकों ने विरोध शुरू कर दिया। इसी को लेकर तकरार शुरू हो गई। नेपाली पुलिस कर्मियों ने समझा बुझा कर मामला शांत कराना चाहा, लेकिन ग्रामीणों ने घेरना शुरू कर दिया। एक नेपाली महिला व युवक ने एसएसबी के अधिकारी से मारपीट कर दी। इस बीच कई नेपाली आ गए और उनसे मारपीट की। 

डिजिटल अरेस्ट डॉक्टर से साइबर क्राइम, रेप केस में बेटा गिरफ्तार होने का डर दिखाकर ठगी

इस बीच नेपालियों ने पिटाई का वीडियो बना लिया और उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। इस मामले को लेकर एसएसबी ने पुलिस को जानकारी तो दी थी लेकिन लिखित में कोई शिकायत नहीं की गई। चंदनचौकी कोतवाल विश्वनाथ यादव ने बताया कि घटना चार से पांच दिन पुरानी है। एसएसबी के अधिकारी नेपाल की तरफ गए थे और उन लोगों का नेपालियों से विवाद हो गया था। उनका कहना था कि कोई तहरीर नहीं दी गई। एसएसबी तृतीय बटालियन के कमांडेंट देव आनंद ने बताया कि वीडियो कहां का है, किसने बनाया है, इसमें कौन है, ये सब जांच के बाद स्पष्ट होगा। अभी कोई टिप्पणी नहीं।