ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशएयर फोर्स म्यूजियम से जानी वायु सेना की रैंक और पोस्ट, फर्जी स्क्वाड्रन लीडर बन इस शातिर अंदाज में लाखों की ठगी

एयर फोर्स म्यूजियम से जानी वायु सेना की रैंक और पोस्ट, फर्जी स्क्वाड्रन लीडर बन इस शातिर अंदाज में लाखों की ठगी

यूपी के कानपुर में एक फर्जी एयर फोर्स अधिकारी पकड़ा गया जो लोगों से लाखों की ठगी कर चुका है। उसने एयर फोर्स म्यूजियम से वायु सेना की जानकारी निकाली और फर्जी स्क्वाड्रन लीडर बनकर लोगों से ठगी की।

एयर फोर्स म्यूजियम से जानी वायु सेना की रैंक और पोस्ट, फर्जी स्क्वाड्रन लीडर बन इस शातिर अंदाज में लाखों की ठगी
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,कानपुरWed, 22 Nov 2023 09:50 AM
ऐप पर पढ़ें

एसटीएफ और वायुसेना की इंटेलीजेंस कानपुर यूनिट 6 एलयू ने संयुक्त ऑपरेशन में फर्जी स्क्वाड्रन लीडर बनकर वायुसेना में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले शातिर को गिरफ्तार किया है। एसटीएफ ने आरोपित के खिलाफ रेलबाजार थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। आरोपित ने दिल्ली, कानपुर, उन्नाव समेत आधा दर्जन जगहों पर 150-200 लोगों को वायुसेना में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी की है। संयुक्त टीम ने आरोपित के पास से स्क्वाड्रन लीडर की वर्दियां भी बरामद की है।

मूल रूप से अजगैन उन्नाव निवासी राहुल राजपूत अपने पिता के साथ उत्तम नगर नई दिल्ली में रह रहा था। वहां से कैंट एरिया पांच से छह किलोमीटर दूर है। राहुल ने अपने स्कूल के दिनों से ही वहां पर आना जाना शुरू कर दिया था। पढ़ाई पूरी करने के बाद वह वहां के अधिकारियों के रहन सहन से प्रभावित हो गया और वायुसेना के अधिकारियों की रैंक और पोस्ट व उनकी वर्दी के बारे में जानकारी हासिल करने लगा। इसके लिए आरोपित कई बार एयरफोर्स म्यूजियम भी गया था।

एसटीएफ प्रभारी शैलेन्द्र सिंह के मुताबिक आरोपित ने दिल्ली, कानपुर, उन्नाव, लखनऊ, और आसपास के इलाकों में 150-200 बेरोजगार युवाओं से लाखों रुपयों की ठगी की है। आरोपित फर्जी लैटर वायुसेना की मोहर लगाकर तैयार कर युवाओं को सौंप देता था।

पैसे-नौकरी का लालच देकर धर्म परिवर्तन की कोशिश, असम, त्रिपुरा समेत इन राज्यों के 10 गिरफ्तार

कौशल विकास योजना से की प्रोफेशनल पढ़ाई
एसटीएफ की जांच में पता चला कि राहुल राजपूत ने सन 2014 में राजकीय ब्यॉज सीनियर सेकेन्ड्री जनकपुरी दिल्ली से हाईस्कूल और 2016 में इंटर की पढ़ाई पास की। इसके बाद मोबाइल लैपटॉप कम्प्यूटर रिपेयरिंग का कोर्स किया। प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के अंतर्गत रीटेल एवं सेल्स मैनजेमेंट का कोर्स तिलक नगर नई दिल्ली से किया। फिर ट्रोब स्किल्स के जरिए पैरामेडिकल कॉलेज से बीएलएस, एईडी, सीपीआर, ईएमटी का एक साल का कोर्स सन 2020 में पूरा किया था।

ये बरामद किया
एक वायुसेना का पहचानपत्र मय कार्ड होल्डर, पांच अलग-अलग अभ्यर्थियों के पहचान पत्र, एक पंकज महतो नाम के अभ्यर्थी का कूटरचित पहचान पत्र, 2 आधार कार्ड (अलग-अलग जन्मतिथि के), भारतीय वायुसेना के रबर स्टाम्प, का पासपोर्ट, शपथपत्र, सात अलग-अलग अभ्यर्थियों के मेडिकल सर्टीफिकेट भारतीय वायुसेना में भर्ती हेतु, तीन पासपोर्ट साइज फोटो एयरफोर्स की वर्दी में और 2030 रुपये नकद बरामद किए गए हैं।

ऐसे खुला मामला
बेरोजगार युवक जब वायुसेना पहुंचे तो घटना का खुलासा हुआ। इसके बाद इंटेलीजेंस युनिट सक्रिय हो गई। उन्होंने जांच पड़ताल की तो पता चला कि आरोपित छुपकर रेलबाजार कानपुर में रह रहा है। एसटीएफ से इस मामले में मदद मांगी गई। मंगलवार को संयुक्त टीम ने टाटमिल से रामदेवी जाने वाले रास्ते पर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। वह बस में बैठकर शहर से भागने की फिराक में था।

चार खातों में ट्रांजेक्शन का पता लगा रही एसटीएफ
आरोपित एक ई रिक्शा चालक के खाते में भी पैसे मंगाता था। एसटीएफ को चार बैंक खातों के बारे में जानकारी मिली है। जिसमें ट्रांजक्शन कितना और किसके जरिए हुआ है इसका पता किया जा रहा है।

रेलबाजार के होटल में रह रहा था
आरोपित राहुल अगस्त से रेलबाजार के एक होटल में रह रहा था। वहां पर इसने पूरी सेटिंग बना रखी थी। वहां पर होटल के स्टाफ के खाते में यह ऑनलाइन पैसे मंगा लेता था और उसे थोड़ा सा पैसा देकर उसके खाते से रुपये निकालकर नकदी रख लेता था। आरोपित को पैसा दिल्ली से आता था। पैसे भेजने वाले की जानकारी एसटीएफ द्वारा जुटाई जा रही है।

सेना की यूनिफॉर्म बरामद
आरोपित के पास से एक न्यू पैटर्न कॉम्बेट यूनिफार्म, माउंटेड रिबिन के साथ, मेडिकल बैज स्क्वाड्रन लीडर रैंक और साथ में एयरक्राफ्ट मैन की रैंक और राहुल राजपूत की नेमप्लेट, सफेद बेल्ट, गरुण फोर्स की कैप, व कॉम्बेट शूज मिला। इसके अलावा नीली वायुसेना की वर्दी, एयरक्रॉफ्ट मैन के साथ नीली बेल्ट, रिबिन, स्कार्फ, स्क्वाड्रन लीडर की रैंक व नेमप्लेट बरामद की गई है।

एडीसीपी ईस्ट, लखन सिंह यादव ने कहा कि ठग के खिलाफ धारा 140 (सेना, वायुसेना या नौसेना की वर्दी पहनना अपराध है), 170(वर्दी पहनकर रौब झाड़ना), 171(धोखा देने के लिए वर्दी पहनना), 419(प्रतिरूपण द्वारा छल करना), 420,467, 468,471(फर्जी दस्तावेज तैयार करना, उनका प्रयोग करना) में एफआईआर दर्ज की गई है। विवेचना के दौरान तथ्यों को बढ़ाया जाएगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें