DA Image
Tuesday, November 30, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशकोरोना से निपटने की तैयारी: यूपी में नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी, 31 जुलाई इतने प्लांट हो जाएंगे एक्टिव

कोरोना से निपटने की तैयारी: यूपी में नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी, 31 जुलाई इतने प्लांट हो जाएंगे एक्टिव

राज्य मुख्यालय-प्रमुख संवाददाता,लखनऊSneha Baluni
Tue, 22 Jun 2021 05:35 AM
कोरोना से निपटने की तैयारी: यूपी में नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी, 31 जुलाई इतने प्लांट हो जाएंगे एक्टिव

उत्तर प्रदेश में 31 जुलाई तक 431 नये ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने के साथ ही क्रियाशील कर दिए जाएंगे। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान स्वीकृत 533 में से अब तक 102 प्लांट ही क्रियाशील किए जा सके हैं। मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने शेष 433 ऑक्सीजन प्लांट को हर हाल में 31 जुलाई तक क्रियाशील करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। 

इन ऑक्सीजन प्लांट के क्रियाशील होने के बाद राज्य में ऑक्सीजन की कमी दूर करने में बड़ी मदद मिलेगी। मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मंडलायुक्तों तथा जिलाधिकारियों से स्वीकृत किए गए ऑक्सीजन प्लांटों की स्थापना के संबंध में की जा रही कार्यवाही की जानकारी ली। 

उन्होंने कहा कि जिन जिलों में ट्रांसफार्मर का लोड बढ़ाने अथवा बैकअप के लिए अधिक क्षमता के नये जेनरेटर की जरूरत है वे दिन के अंदर मांग के साथ इस्टीमेट भेजें। ऑक्सीजन प्लांट को चलाने तथा उनके रखरखाव के लिए जरूरी मैनपावर की व्यवस्था करने के निर्देश जिलाधिकारियों को दिए। 

वृक्षारोपण में केवल लाभकारी पौध ही लगाए जाएं
मुख्य सचिव ने कमिश्नर और डीएम से कहा कि इस बार राज्य में 30 करोड़ पौधरोपण का लक्ष्य रखा गया है। इस लक्ष्य को पाने के लिए संबंधित विभागों से समन्वय कर कार्यवाही की जाए। पौधों का चयन करते समय इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि वह पर्यावरण और जनहित की दृष्टि से अनुकूल, उत्तम तथा उपयोगी हों। उन्होंने बरगद, पीपल, नीम, आम, सहजन, सागौन, पाकड़ आदि प्रजातियों के साथ ही फलदार, छायादार तथा औषधीय पौधों के रोपण का सुझाव दिया। 

रूर्बन मिशन के तहत 16 जिलों में चल रहे कार्यों को तेज करने के निर्देश
मुख्य सचिव की अध्यक्षता में सोमवार को श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशन की स्टेट लेबल इंपावर्ड कमेटी की बैठक हुई। जिसमें मिशन के तहत राज्य के 16 जिलों में चल रहे कार्यों को गति देने का निर्देश उन्होंने दिया। 

श्रीवास्ती जिले के इकौना तहसील में नये कलस्टर का चयन किया गया। इस योजना के तहत प्रति कलस्टर 100 करोड़ रुपये का प्राविधान है। प्रदेश के 19 कलस्टर के सीजीएफ मद में स्वीकृत डीपीआर में आ रही समस्याओं के समाधान के लिए 199.33 करोड़ की परियोजनाओं में परिवर्तन की स्वीकृति दी गई। 

चित्रकूट में रूर्बन उद्यमिता प्रशिक्षण विकास केंद्र, पर्यटन सुविधा केंद्र रूर्बन मिड-वे निर्माण, रूर्बन ऑडिटोरियम मल्टीपरपज काम्प्लेक्स, रूर्बन आजीविका प्रशिक्षण केंद्र सोनेपुर जनपद बहराइच में पाइप वाटर सप्लाई नेटवर्क तथा मिर्जापुर में मल्टीपरपज कम्युनिटी सेंटर के कार्यों को स्वीकृति दी गई।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें