DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › यूपी सरकार का दावा, 35 लाख से अधिक दवा किट बांटी, 15 अगस्त तक मेडिकल कॉलेजों में तैयार होंगे 6700 पीकू बेड
उत्तर प्रदेश

यूपी सरकार का दावा, 35 लाख से अधिक दवा किट बांटी, 15 अगस्त तक मेडिकल कॉलेजों में तैयार होंगे 6700 पीकू बेड

लखनऊ। विशेष संवाददाताPublished By: Dinesh Rathour
Wed, 28 Jul 2021 08:06 PM
यूपी सरकार का दावा, 35 लाख से अधिक दवा किट बांटी, 15 अगस्त तक मेडिकल कॉलेजों में तैयार होंगे 6700 पीकू बेड

कोरोना की तीसरी लहर से लड़ने की प्रदेश सरकार की तैयारियों ने रफ्तार पकड़ ली है। बच्‍चों को बेहतर इलाज देने के लिए सरकार हर जिले में स्थित मेडिकल कॉलेजों में पीडियाट्रिक इंसेंटिव केयर यूनिट पीकू व न्‍यूमेटिक इंसेंटिव केयर यूनिट नीकू तैयार करा रही है। 15 अगस्‍त तक प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में 6700 पीकू/नीकू बेड तैयार हो जाएंगे जबकि 6500 बेड तैयार किए जा चुके हैं। इसके अलावा सर्विलांस टीम को और मजबूत करने का काम किया जा रहा है। 

बच्चों के लिए खिलौने-ड्राइंग बाक्स भी होंगे

प्रदेश सरकार कोरोना की तीसरी लहर से बचाने के लिए बच्चों के लिए खास तरह के पीडियॉट्रिक आईसीयू तैयार करा रही हैं। सभी बेडों पर वेंटिलेटर की व्यवस्था की गई है। अस्‍पतालों में बच्चों के लिए बनाए जा रहे वार्डों में घर जैसा माहौल देने के लिए अंदर की दीवारों पर कार्टून करेक्टर बनाए जा रहे हैं। बच्चों के लिए खिलौने, ड्राइंग बुक्स आदि की व्यवस्था की गई है।

बच्‍चों की 35 लाख किट हुई डिस्‍पैच 

प्रदेश सरकार 72 हजार से अधिक निगरानी समितियों के माध्‍यम से 18 साल से कम उम्र तक के किशोरों को दवा किट का वितरण कर रही है। सरकार की ओर से अब तक 35 लाख दवा किटों का वितरण किया जा चुका है। यह दवा किट निगरानी समितियों के माध्यम से 18 साल से कम उम्र के कोरोना लक्षण युक्त बच्चों को दी जा रही है। 

डॉक्टरों व पैरा मेडिकल स्‍टॉफ को ट्रेनिंग 

प्रदेश सरकार की ओर से डाक्‍टरों व पैरामेडिकल स्‍टॉफ को कोरोना की तीसरी लहर से लड़ने के लिए विशेष ट्रेनिंग दी जा रही है। सरकार अब तक 4600 डाक्‍टरों को विशेष ट्रेनिंग दी जा चुकी है। इसके अलावा मेडिकल कॉलेजों में तैनात 8653  पैरा मेडिकल स्‍टॉफ इसमें वार्ड ब्‍वॉय, नर्स, तकनीशियन आदि की स्किल डेवलपमेंट का काम किया जा रहा है। प्रदेश में तीसरी लहर को देखते हुए 548 आक्‍सीजन प्‍लांट भी बनवाए जा रहे हैं। इसमें से 239 आक्सीजन प्‍लांट चालू भी हो चुके हैं।
 

संबंधित खबरें