ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी के इस शहर में बावरिया गैंग को लेकर अलर्ट, दिवाली से होली तक बहाते खून, डकैती में बच्चों का भी फोड़ देते सिर

यूपी के इस शहर में बावरिया गैंग को लेकर अलर्ट, दिवाली से होली तक बहाते खून, डकैती में बच्चों का भी फोड़ देते सिर

यूपी के गोरखपुर में बावरिया गैंग को लेकर अलर्ट जारी किया गया है। दिवाली से होली तक ये खून बहाते हैं और डकैती करके गायब हो जाते हैं। इस दौरान वो नुकीले हथियारों से बच्चों का भी सिर फोड़ देते हैं।

यूपी के इस शहर में बावरिया गैंग को लेकर अलर्ट, दिवाली से होली तक बहाते खून, डकैती में बच्चों का भी फोड़ देते सिर
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,गोरखपुरMon, 13 Nov 2023 12:00 PM
ऐप पर पढ़ें

दिवाली की रात से बावरिया गैंग सक्रिय हो जाता है। इसको देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है। हालांकि, पुलिस रिकार्ड के अनुसार गोरखपुर में बीते तीन साल के भीतर ऐसी कोई घटना सामने नहीं आई। लेकिन एडीजी जोन ने सभी थानेदारों से सतर्कता बरतने को कहा है। पुलिस के अनुसार माना जाता है कि बावरिया और कच्छा बनिया गिरोह के बदमाश दिवाली की रात से सक्रिय होते हैं। इसके बाद होलिका दहन तक घूम घूमकर वारदातों को अंजाम देते रहते हैं। 

इस गैंग के लोग घटना के दौरान खून बहाते हैं। ऐसी वारदातों से निपटने के लिए पुलिस अधिकारियों की तरफ से घुमंतू गिरोहों पर नजर रखने, संदिग्धों की नियमित चेकिंग करने, फेरी लगाकर सामान बेचने के बहाने से कॉलोनियों में जाकर रेकी आंशका में उनकी जांच करने और तलाशी लेने को कहा गया है। डकैती के लिए लक्ष्य तय होने के बाद लोहे की सरिया और अपने विशेष नुकीले औजारों की पूजा करके बदमाशों का गैंग निकलता है और वारदात को अंजाम देकर निकल जाते हैं। 

डिलीवरी ब्वॉय बनकर आए बदमाशों ने पेंचकस की नोक पर छात्रा को बंधक बना लूटे लाखों के जेवर-नकदी

ज्यादातर दो बजे का तय करते हैं समय
इसके लिए वह ज्यादातर दो बजे का समय तय करते हैं। चिन्हित मकान के पास से पेड़ की हरी डाल इत्यादि तोड़कर डकैती डालते हैं। घर में दाखिल होते ही सो रहे लोगों के चेहरों पर टार्च की रोशनी डालकर सिर पर हमला करते हैं। इनके निशाने पर छोटे बच्चे भी आ जाते हैं।

जिले से पलायन कर जाता है पूरा गैंग
पुलिस से जुड़े लोगों का कहना है कि एक जिले में घटना को अंजाम देने के बाद बदमाश दूसरी जगह चले जाते हैं। बावरियां गैंग के सदस्य हर डकैती में खून बहाते हैं। खून गिराना इनके लिए शुभ होता है। इसलिए यह अमावस्या की रात में पूजा करते हैं। इसी तरह से शहर के भीतर वर्ष 2000 में शिवाजी नगर में दिल दहलाने वाली घटना हुई थी।