DA Image
Sunday, November 28, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशयूपी चुनाव में पिछड़ा वर्ग पर क्‍यों है बीजेपी का फोकस? क्‍या 350+ के लक्ष्‍य तक पहुंचाएगी ये रणनीति 

यूपी चुनाव में पिछड़ा वर्ग पर क्‍यों है बीजेपी का फोकस? क्‍या 350+ के लक्ष्‍य तक पहुंचाएगी ये रणनीति 

लाइव हिन्‍दुस्‍तान टीम ,लखनऊ Ajay Singh
Tue, 26 Oct 2021 12:02 PM
यूपी चुनाव में पिछड़ा वर्ग पर क्‍यों है बीजेपी का फोकस? क्‍या 350+ के लक्ष्‍य तक पहुंचाएगी ये रणनीति 

यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारियों में जुटी भाजपा का पूरा फोकस ओबीसी वोटरों पर है। भाजपा ने 350+ के नारे के साथ सूबे की सत्‍ता में वापसी का जो प्‍लान बनाया है उसमें जातियों के समीकरण खास मायने रखते हैं। लिहाजा उन्‍हें साधने में पार्टी अपनी ओर से कोई कसर नहीं छोड़ रही है। इसी मकसद से भाजपा ने यूपी में प्रबुद्ध वर्ग के सम्मेलनों का खाका तैयार किया है। 17 अक्‍टूबर से लखनऊ में लगातार सम्‍मेलन कराए जा रहे हैं। इसी क्रम में आज भी पिछड़ा वर्ग सम्‍मेलन आयोजित है जिसमें सीएम योगी आदित्‍यनाथ भी शिरकत करेंगे। जातिवार सम्‍मेलनों का सिलसिला 31 अक्‍टूबर तक चलता रहेगा। इसमें प्रदेश भर के ओबीसी वर्ग के लोग शामिल हो रहे हैं। 

वोटों का मजबूत समीकरण बनाते हैं ओबीसी 

राजनीतिक जानकारों का मानना है कि वर्ष 2022 विधानसभा चुनाव में कुर्मी, कोइरी, राजभर, प्रजापति, पाल, अर्कवंशी, चौहान, बिंद, निषाद, लोहार जातियां सत्ता की चाभी की भूमिका में नजर आएंगी। यही वजह है कि सिर्फ भाजपा नहीं इनकी महत्ता को भांपते हुए सभी प्रमुख दल इन जातियों को साधने में जुटे हैं। 32 फीसदी वोट का मालिकाना हक रखने वाली इन जातियों को साधने की रेस में भाजपा और सपा अन्य दलों से आगे हैं। भाजपा इनकी ताकत को अपने से जोड़े रखने की मुहिम में है जबकि सपा इन्हें फिर से जोड़ने की कोशिश में जुटी है।   

वैसे ये जातियां हैं जो किसी एक दल से बंधकर नहीं रही हैं। चुनाव दर चुनाव इनकी पसंद बदलती रही है। इनकी गोलबंदी चुनाव में जिसकी तरफ होती है वह सत्ता में आते हैं। यही कारण है कि इनके क्षत्रपों और राजनीतिक दलों को साधने की सीधी होड़ भाजपा, सपा, बसपा, कांग्रेस जैसे बड़े दलों में लगी है। वर्ष 2014 लोकसभा चुनाव से कुर्मी, कोइरी, राजभर, प्रजापति, लोहार, निषाद आदि जातियां भाजपा के साथ गोलबंद हुई थीं। वर्ष 2017 में विधानसभा चुनाव में भी ये जातियां भाजपा के साथ थीं, जिसकी बदौलत भाजपा पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में आई। इन जातियों के खिसकने से ही पहले बसपा और फिर सपा का राज्य की सत्ता से सफाया हुआ था। मझवारा बिरादरी को साथ जोड़ने में जुटे डा. संजय निषाद अभी तक तो भाजपा के साथ खड़े हैं। कुर्मी वोटों की राजनीति करने वाली केंद्रीय राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल की पार्टी अपना दल (एस) भी भाजपा के साथ हैं।

ये ओबीसी जातियां भी हैं छिपी ताकत

ओबीसी में ही शामिल बंजारा, बारी, बियार, नट, कुजड़ा, नायक, कहार, गोंड, सविता, धीवर, आरख जैसी बहुत कम आबादी वाली जातियों की गोलबंदी भी चुनावी नतीजों को प्रभावित करेगी। यह वह जातियां हैं जिन्हें पिछड़ों में कुछ बड़ी आबादी वाली जातियां अपनी उपजातियां भी बताती हैं। इनकी आबादी आधा फीसदी से लेकर डेढ़ फीसदी के बीच है।

200 से अधिक सभाएं करेगी भाजपा 

भाजपा के पिछड़ा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष नरेंद्र कश्यप ने मीडिया को बताया कि सम्मेलन के अलावा भाजपा दो सौ से अधिक सभाएं करने वाली है। सम्‍मेलनों में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा डिप्टी सीएम और केंद्रीय मंत्री शामिल हो रहे हैं। इसके साथ ही भाजपा प्रदेश में डेढ़ करोड़ नए सदस्‍य बनाने के लक्ष्‍य के साथ एक बार फिर सदस्‍यता अभियान शुरू करने वाली है। 29 अक्‍टूबर को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह लखनऊ से इसकी शुरुआत करेंगे। 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें